अंक : 01-15 Feb 2013 (Year-16, Issue-03)

एक कुंवारी लड़की का आत्म-संवाद - पूनम सिंह


Print Friendly and PDF

गहरी थकान और हताशा लिये

लौट आये हैं पिता

झुके कंधे गर्द भरे चेहरे पर

आहत उम्मीदों की लहूलुहान खरोंचे

आँखों के कोये में

समुद्री नमक का भहराता टीला

होठों पर मुर्दा चुप्पी लिये

सपनों की शव यात्रा से



राख की गंध में लिथड़े

पिता के चेहरे की ओर कैसी कातर

कितनी असहाय आँखों से देखती है माँ

किस अतल से निकला है

यह निःश्वास

जिसमें मौत सी ठंडक है



ओ माँ! मैं कहाँ जाऊँ

किस पाताल कुँए में डूब मरूँ-बोलो?

क्यों नहीं आती मुझे मौत

जब बेमौत मरते हैं इतने लोग

आता है भूचाल

दरक जाती है धरती

औंधा गिर जाता है आसमान

नमक पानी के पारावार में

तिनके सी बह जाती है जिन्दगी

तब ऐसा कोई सुनामी

मुझे क्यों नहीं बहा ले जाता माँ

क्यों? क्यों?

मैं हरगिज नहीं चाहती पिता की साँस में

फाँस बनकर जीना

तुम्हारी छाती पर अडिग पहाड़ बनकर रहना

भाभी की आँखों में शूल की तरह चुभना

भाई की अनकही पीड़ा में

पतझड़ के उदास रंग की तरह दिखना

लेकिन मैं क्या करूँ माँ

मेरे बस में नहीं है

यह सब न होना



कभी कभी

इस घर की ढहती दीवारों से लगकर

खड़ी मैं सोचती हूँ

क्या मुझे अपनी लड़ाई लड़े बिना

हार मान लेनी चाहिए?

अपनी इच्छाओं

अपने सपनों की पहरेदारी पर

कोई सवाल नहीं करना चाहिए?



माँ! मैं जानना चाहती हूँ तुमसे

इस आँगन के उस पार

वह जो एक बहुत बड़ी दुनिया है

जीवन के समानान्तर

क्या उसे देखने का मुझे कोई हक नहीं?



मुझे बताओ माँ क्यों चढ़ी है आज भी

इस घर की ड्योढ़ी पर

इतनी मजबूत सॉकल

जिसे हिलाते हुए

कटी डाल की तरह झूल जाती हैं मेरी बाँहें

थक जाता है मेरा हौसला



माँ मैं तुम्हारी तरह

किसी जर्जर हवेली की बदरंग दीवारों पर

लतरबेल बनकर नहीं पसरना चाहती

मैं पीपल बरगद आम कटहल की तरह

पूरा का पूरा एक पेड़ बनना चाहती हूँ

इच्छाधारी अस्तित्वधारी एक पेड़



तुम देख रही हो किस तरह

ठूँठ हो गये हैं आज

पुरखों के लगाये सब पेड़

कब तक इनकी सूखी जड़ों में पानी देती तुम

अपने लगाये पेड़ों को

निपात होते देखती रहोगी

बोलो मां बोलो ??

Labels:


घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर क्लिक करें।

अन्य महत्वपूर्ण लिंक्स


हमें जॉइन करे अन्य कम्यूनिटि साइट्स में

घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर
-फैक्टरी में घटने वाली घटनाओं की रिपोर्ट भेज कर
-मजदूरों व अन्य नागरिकों के कार्य व जीवन परिस्थितियों पर फीचर भेजकर
-अपने अनुभवों से सम्बंधित पत्र भेज कर
-विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं, बेबसाइट आदि से महत्वपूर्ण सामग्री भेज कर
-नागरिक में छपे लेखों पर प्रतिक्रिया व बेबाक आलोचना कर
-वार्षिक ग्राहक बनकर

पत्र व सभी सामग्री भेजने के लिए
सम्पादक
'नागरिक'
पोस्ट बाक्स न.-6
ई-मेल- nagriknews@gmail.com
बेबसाइट- www.enagrik.com
वितरण संबंधी जानकारी के लिए
मोबाइल न.-7500714375