लेबिल (कुल समाचार - 316): रिपोर्ट

बायोमेड फैक्टरी के मजदूर वेतन व ओवरटाइम के संघर्ष में जीते


    9 सितम्बर को ओल्ड फरीदाबाद की बायोमेड फैक्टरी के मजदूर अपने तीन महीने के वेतन और दो महीने के ओवरटाइम के लिए विरोध स्वरूप फैक्टरी में काम पर नहीं गये और फैक्टरी गेट पर ही खड़े होकर प्रदर्शन करने लगे। अपनी एकता के बल पर मैनेजमेण्ट व पुलिस से संघर्ष करते हुए वे अंततः अपनी मांगों को मनवाने में सफल हुए।

    बायोमेड फैक्टरी ओल्ड फरीदाबाद के सेक्टर 32 में प्लांट नम्बर 30 डी.एल.ए...

Read full news...


पत्रकार गौरी लंकेश ही हत्या के विरोध में फूटा आक्रोश


    कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश की 5 सितम्बर को उनके घर पर ही हत्या कर दी गयी। वह देश में बढ़ रहे फासीवादी हमले और बढ़ते दक्षिणपंथी प्रभाव के खिलाफ तीखा लेखन करती थीं। उनकी लेखनी से भाजपा, आर.एस.एस. समेत सभी दक्षिणपंथी नाराज थे। 

    एक जुझारू पत्रकार की कायराना ढंग से हुई हत्या के विरोध में देश भर में प्रदर्शन हुए और जारी हैं। कुछ स्थानों पर इंकलाबी मजदूर केन्द्र, परिवर्तनका...

Read full news...


बलात्कार और हत्या के विरोध में लोग सड़कों पर उतरे


प्रशासन ने 13 नामजद और 150 अज्ञात लोगों पर मुकदमे लगाए


    उत्तराखण्ड के ऊधम सिंह नगर जिले के ग्राम गुलजार पुर थाना कुण्डेश्वरी में 11वीं कक्षा की एक छात्रा के साथ बलात्कार और हत्या का नृशंस अपराध हुआ। 9 सितम्बर के दिन छात्रा दिन में घास काटने गयी थी। जब छात्रा देर तक घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। खोजबीन में गन्ने के खेतों में छात्रा की लाश बरामद हुयी। इस पर परिजनों ने पुलिस में गुहार लगाई तथा अपराधियों को गिरफ्तार करन...

Read full news...


भारत सरकार के शासनादेश के अनुसार ई.एस.आई. लागू करो


    पन्तनगर/भारत सरकार के शासनादेश के अनुसार पिछले एक जून 2016 से पन्तनगर में ई.एस.आई.(कर्मचारी राज्य बीमा) लागू है पर पिछले 10-15 वर्षों से लगातार अति अल्प न्यूनतम वेतन पर कार्यरत  2500 ठेका मजदूरों को आज तक वि.वि. द्वारा ई.एस.आई. का लाभ नहीं दिया गया। हारी-बीमारी में अनेकों कष्ट सहते हुए ठेकाकर्मी काम करते रहते हैं। निर्धनता के कारण अपने परिवार का इलाज नहीं करा पाते, इन्हें शासन प्रशासन ...

Read full news...


महिन्द्रा सी.आई.ई. के मजदूरों का वेतन वृद्धि व यूनियन की मान्यता का समझौता सम्पन्न


    101 दिन चले संघर्ष के बाद 26 अगस्त को महिन्द्रा सी.आई.ई. के मजदूरों का समझौता हो गया है। समझौता ए.डी.एम. व ए.एल.सी. की मध्यस्थता में हुआ। समझौते के अनुसार मुख्यतः वेतन वृद्धि 3 साल के लिए 5000 रुपये जिसका 60 प्रतिशत पहले साल व दूसरे, तीसरे साल 20-20 प्रतिशत बढ़ेगा। समझौता 1 जनवरी 2017 से लागू होगा। एरियर का भुगतान जनवरी 2018 में किया जाएगा। 10 मजदूर प्र्रतिनिधियों (निलंबित) की जांच ए.डी.एम. की मॉनिटरिं...

Read full news...


लम्बे संघर्ष के बाद रिचा इंडस्ट्रीज के मजदूरों ने जीत हासिल की


    रिचा इण्डस्ट्रीज रामनगर रोड प्रतापपुर काशीपुर में पिछले लगभग दो साल से श्रमिक आन्दोलनरत हैं। सितम्बर 2015 से पहले मनेजमैन्ट कभी भी श्रमिकों का गेट बंद कर देता था फिर नई भर्तियां करता था। बोनस कम देता व ज्यादा पर साइन करवा लेता था। सादे कागजों पर साइन करवा कर अपने हित में इस्तेमाल करता था। श्रमिकों पर लोन दिखाकर, फर्जी तरीके से ज्यादा तनख्वाह पर हस्ताक्षर करवाकर लोन की किस्त ...

Read full news...


आॅटोमैक्स के मजदूरों का संघर्ष जारी है....


    आॅटोमैक्स, बिनौला(गुड़गांव) के मजदूरों का संघर्ष जारी है। आंधी-बारिश के बावजूद प्लांट के 312 छंटनीशुदा मजदूर दिन-रात के अनिश्चित कालीन धरने पर डटे हैं। ए.एल.सी.(दिल्ली-एनसीआर) के आदेश के बावजूद अभी तक मजदूरों को जून माह के वेतन का भुगतान नहीं हुआ है। स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत से कंपनी में गैरकानूनी तरह से उत्पादन जारी है। मशीनरी एवं कच्चे माल की शिफ्टिंग के खिलाफ मजदूरों के पा...

Read full news...


औमेक्स धारूहेडा के 215 स्थायी मजदूरों का निष्कासन


    औमेक्स आॅटो लिमिटेड धारूहेडा में स्थित है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग-8 पर हीरो मोटर कार्पस के पास स्थित है। यह टू व्हीलर (हीरो, बजाज और टीवीएस) के पार्ट्स  बनाती है। मुख्य रूप से हीरो के लिए काम होता है। इस कम्पनी की स्थापना 1983 में हुयी थी। यह भी  मुंजाल ग्रुप की कम्पनी है। 

    मुंजाल ग्रुप आज साइकिल बनाने से कहां जा पहुंचा है। मुंजाल ने शुरू में ...

Read full news...


भेल बचाओ संयुक्त संघर्ष मोर्चा का संघर्ष


    जब से मोदी सरकार केन्द्र में सत्ता पर बैठी तो उसने सबसे पहले मजदूरों के हक अधिकार पर हमला तेज कर दिया। विनिवेशीकरण का खतरा भेल जैसे पब्लिक सेक्टर की ओर बढ़ता जा रहा है। निजीकरण की प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए भेल हरिद्वार में प्रबंधन, प्लांट के अन्दर डर और भय का माहौल तैयार कर रहा है ताकि आने वाले संकटों में मजदूरों के अधिकारों को आसानी से खत्म किया जा सके। इसी कड़ी में प्रबंधन ने...

Read full news...


आपदा, आपदा पीड़ित व संघी सरकार


    साल 2013 में उत्तराखंड में 16-17 जून को भारी तबाही आई थी। उस वक्त विजय बहुगुणा की अगुवाई में कांग्रेस की सरकार थी। तब गुजरात के मुख्यमंत्री जो अब भारत के प्रधानमंत्री हैं यहां उड़न खटोले से चक्कर लगा रहे थे, वे बड़े-बड़े दावे कर रहे थे ‘‘शिकार’ को फंसाने के लिये वायदे भी कर रहे थे।

    साल 2017 तक आते-आते अब जबकि उत्तराखंड में बड़े बहुमत वाली संघी सरकार सत्ता में है संघी छत्र छा...

Read full news...


बढ़ती साम्प्रदायिकता के खिलाफ दिल्ली में साम्प्रदायिकता विरोधी जन अभियान’


    देश में बढ़ती साम्प्रदायिकता और गौ-रक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ दिल्ली के मजदूर, छात्र, नौजवान, महिला, शिक्षक, लोकतंत्रिक व प्रगतिशील संगठनों व स्वतंत्र बुद्धिजीवी व प्रगतिशील लोगों ने एक ‘साम्प्रदायिकता विरोधी जन अभियान की शुरूआत की। अभियान का उदेश्य देश में बढ़ती साम्प्रदायिकता और गौ-रक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ व्यापक जनता को जागरुक कर अपने बुनिया...

Read full news...


वीवो फैक्टरी के 6 मजदूर गिरफ्तार


    ग्रेटर नोएडा/ ग्रेटर नोएडा की इंफोटैक-I की वीवो के मजदूर 25 जुलाई को अपने 60 साथियों को बगैर किसी पूर्व नोटिस के निकाले जाने पर हिंसक हो उठे। मजदूरों का आक्रोश तब फूट पड़ा जब एक सिक्योरिटी गार्ड ने उपरोक्त 60 मजदूरों में से एक को थप्पड़ मार दिया। गार्ड ने मजदूर को जूते से ठोकरें भी मारी। मजदूर अपने वेतन व रोजगार के बारे में पूछताछ कर रहा था। 

    इस घटना की जानकारी पाते ही बड़...

Read full news...


बी.एस.एल. स्काफोल्डिंग लिमिटेड कम्पनी में एक मजदूर की मौत


    हरिद्वार, सिडकुल में प्लाट न. 103, 104 सेक्टर 7 में बी.एस.एल. स्काफोल्डिंग कम्पनी है। इस कम्पनी में बिल्डिंग मैटेरियल जिसमें फोल्डिंग, स्टैण्ड, लेजर, बटन, पैनल आदि बनाया जाता है। कम्पनी का मालिक नीरज है। कम्पनी का हैड आॅफिस दिल्ली में हैं। कम्पनी में लगभग 250 मजदूर काम करते हैं। मालिक ने 50-60 मजदूरों को स्थाई बता रखा है, लेकिन इन मजदूरों को स्थाई होने का प्रमाण पत्र नहीं दे रखा है। कम्पन...

Read full news...


भीड़ द्वारा हत्याओं के खिलाफ प्रदर्शन


    हरिद्वार/5 जुलाई 17 को इंकलाबी मजदूर केन्द्र, क्रांतिकारी लोकअधिकार संगठन व भेल मजदूर ट्रेड यूनियन (बी.एम.टी.यू.) द्वारा संयुक्त रूप से सभा एवं केन्द्र सरकार का पुतला दहन किया गया। शाम 4 बजे भगत सिंह चैक पर यह कार्यक्रम किया गया। देशभर में, गौरक्षा के नाम पर मुसलमानों का कत्लेआम किया जा रहा है व सवर्ण हिन्दुओं द्वारा दलितों का उत्पीड़न भी बढ़ रहा है। इन घटनाओं को रोकने में केन्द्र ...

Read full news...


रोजगार विहीन विकास


    मई माह के अंत में केन्द्रीय श्रम मंत्री बंगारू दत्तात्रेय ने यह स्वीकार किया कि देश में विकास तो हो रहा है लेकिन यह रोजगार पैदा नहीं कर पा रहा है। यानी दूसरे शब्दों में कहा जाये तो देश में रोजगार विहीन विकास हो रहा है। वहीं उनके बयान परस्पर विरोधाभासी भी हैं। वे एक तरफ कहते हैं कि देश में बेरोजगारी की दर 1 प्रतिशत है वहीं वे लोकसभा में लिखित बयान देते हैं कि 2015 में 4.48 करोड़ लोगों न...

Read full news...


7 मजदूर निलम्बित व मजदूरों का धरना 56वें दिन जारी


रिचा प्रबंधन यूनियन तोड़ने हेतु गुण्डागर्दी पर उतारू


    काशीपुर/रिचा इंडस्ट्रीज लिमिटेड, रामनगर रोड, काशीपुर (उत्तराखण्ड) में स्थित है जिसमें 210 स्थाई व 50 ठेका मजदूर कार्यरत हैं। सितम्बर 2015 में एक स्वतः स्फूर्त आंदोलन के बाद मजदूरों ने यूनियन बनाने का फैसला किया। लम्बे संघर्ष और इंकलाबी मजदूर केन्द्र के सहयोग से 26 अप्रैल 2016 को यूनियन का रजिस्ट्रेशन हुआ। यूनियन बनने के बाद प्रबंधन से लगातार संघर्षरत रही। 10 जुलाई 2017 को प्रबंधन ने 7 ने...

Read full news...


आॅटोमैक्स विनौला के मजदूरों का गेट बन्द कर यूनियन तोड़ने की साजिश


    आॅटोमैक्स कम्पनी विनौला उद्योगिक क्षेत्र में 2007 से उत्पादन कर रही है। यह पहले लगभग 1984 से 2007 तक गुड़गांव में उत्पादन करा रही थी। यह कम्पनी ओमैक्स ग्रुप की कम्पनी है। ओमैक्स ग्रुप में 6-7 प्लांट हैं। ओमैक्स धारूहेडा, आॅटोमैक्स विनौला, ओमैक्स मानेसर व एक प्लांट बावल में है। कम्पनी रेलवे व अन्य सरकारी कम्पनियों के लिये पार्ट्स बनाती है। कम्पनी में काम काफी कठिन है लेकिन वेतन काफी क...

Read full news...


वर्गीय एकता को व्यापक बनाना होगा


अरहेस्टी मजदूरों का संघर्ष


    बावल(हरियाणा)/ अरहेस्टी इण्डिया लि. बावल (हरियाणा) के 170 निलम्बित मजदूरों ने दिनांक 6 जुलाई 2017 को रेवाड़ी(हरियाणा) के उपायुक्त कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन कर बिना शर्त काम पर वापस लिये जाने की मांग की। हालांकि प्रशासन ने एक बार फिर कोरा आश्वासन दिया, जिससे मजदूरों में तीखा आक्रोश है। प्रदर्शन में गुड़गांव, मानेसर, धारूहेड़ा, बावल के बहुत से यूनियन प्रतिनिधियों ने भी भागीदारी की।&nbs...

Read full news...


श्रमिक संयुक्त मोर्चा ऊघम सिंह नगर का संघर्ष


    ऐरा के मजदूरों को चार माह से वेतन न मिलने, महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा के मजदूरों की यूनियन मान्यता व मांगपत्र तथा महिन्द्रा सीआईई के मजदूरों यूनियन मान्यता, मांगपत्र के अलावा चार नेताओं के निलम्बन की बहाली के लिए संघर्ष चल रहा है। इसके अलावा अन्य कम्पनियों आॅटोलाइन, मंत्री मेटेलिक्स, एलजीबी, व्हराॅक, एण्डोरेन्स आदि में वेतन बढ़ोत्तरी को मांगपत्र लगा है। परन्तु प्रबंधन नहीं ...

Read full news...


महिन्द्रा के तीनों प्लांटों व ऐरा मजदूरों का साझा संघर्ष जारी है


महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा- महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा के मजदूरों के विगत 26 दिन धरने के बाद 93 मजदूरों को प्रबंधन ने वापस काम पर बुला लिया है। परन्तु 60 मजदूरों को ‘काम नहीं है’ कह कर 26 जून 2017 से गेटबंद कर दिया गया है। इनमें से ज्यादातर ऐसे मजदूर हैं जिन्होंने प्रबंधन के मनमुताबिक महाराष्ट्र की शिवसेना की यूनियन के साथ हुए समझौते पर सहमति जताई थी। ये 60 मजदूर भी ए एल सी कार्यालय रुद...

Read full news...


नियमित और ठेका मजदूरों का आंशिक सफलता के बाद आंदोलन समाप्त


पंतनगर/ अपने लम्बे संघर्ष के बाद नियमित एवं ठेका मजदूरों का आंदोलन 19 सूत्रीय मांग पत्र की कुछ मांगों पर आदेश जारी होने के बाद 30 जून 2017 को वि.वि. प्रशासन से एक समझौते के साथ समाप्त हो गया।

    ठेका मजदूर कल्याण समिति, पंतनगर कर्मचारी संगठन, वि.वि. श्रमिक कल्याण संघ, राष्ट्रीय शोषित परिषद, अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस द्वारा मोर्चा बनाकर नियमित एवं ठेका मजदूरों की समस्याओं क...

Read full news...


पीयूष इण्डस्ट्रीज ने मजदूरों का रोका वेतन


    पीयूष इण्डस्ट्रीज कम्पनी, सलेमपुर (बहादराबाद) फेज प्प्, प्.च् 2 हरिद्वार सिडकुल में स्थित है। कम्पनी का मालिक पी.के.मिश्रा है। यह जौनपुर (यू.पी.) का रहने वाला है। इस मालिक के दो प्लांट हैं, एक हरिद्वार में दूसरा पूना में। कम्पनी का मालिक पहले रॉकमैन कम्पनी, हरिद्वार में ठेकेदारी करता था अब यह ठेका मजदूरों को लूट-लूट कर दो प्लांटों का मालिक बन बैठा है। अब यह खुद ठेकेदारों को रखता ह...

Read full news...


नफरत के खिलाफ जंतर मंतर पर उमड़ा स्वतः स्फूर्त जन सैलाब


नफरत के खिलाफ जंतर मंतर पर उमड़ा स्वतः स्फूर्त जन सैलाब    बल्लभगढ़ (फरीदाबाद) के जुनैद की चलती ट्रेन में हत्या सहित देश भर में गाय के नाम पर उन्मादी साम्प्रदायिक भीड़ द्वारा निर्दोष मुसलमानों की हत्याओं, अल्पसंख्यकों व दलितों पर हिन्दू फासीवादियों के बढ़ते हमलों के खिलाफ दिल्ली में स्वतः स्फूर्त तरीके से हजारों लोग जंतर मंतर पर अपना आक्रोश व्यक्त करने पहुंचे। 

    सा...

Read full news...


अरहेस्टी बावल के मजदूरों पर मैनेजमेण्ट व प्रशासन का कहर


    अरहेस्टी इंडिया कम्पनी हरियाणा के बावल के से. 4, प्लांट न. 194 स्थित है। यह कम्पनी 2007 में लगी थी। इस कम्पनी में एल्युमिनियम डाई कास्टिंग का काम होता है। इस कम्पनी में शुरू से ही मजदूरों का भारी व असहनीय शोषण होता रहा है। मजदूरों ने काफी संघर्ष करके कम्पनी में अपनी यूनियन बनायी। यह शुरू में काफी मजबूत यूनियन बनकर उभरी। फिर मैनेजमेण्ट ने लगातार मजदूरों को तोड़ने की कोशिश की। कभी लो...

Read full news...


आइसीन के मजदूरों का संघर्ष जारी है


    लगभग दो महीने होने को आये हैं फिर भी गूंगी बहरी शासन-सत्ता के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। श्रम विभाग तो प्रबंधन के द्वारा पेश झूठी रिपोर्ट को आधार बनाकर बिना किसी जांच किये मजदूरों की यूनियन की फाईल को पहले ही खारिज कर चुका है। अब मजदूरों की केवल एक ही मांग कि सभी को काम पर वापिस लिया जाये और गैर कानूनी तालाबंदी (गेट बंदी) खत्म की जाये। लेकिन इस छोटी सी मांग पर शासन-प्रशासन प्रब...

Read full news...


जुनैद हत्याकांड की तथ्यान्वेषी टीम की रिपोर्ट


    (दिल्ली-मथुरा रूट पर चलने वाली लोकल ट्रेन में फरीदाबाद के बल्लभगढ़ के पास 22 जून 2017 को धर्म के नाम पर लम्पट दरिन्दों की भीड़ ने चाकुओं से गोद कर सरेआम एक 16 वर्षीय मुस्लिम युवक की हत्या कर दी तथा अन्य 2 को गम्भीर रूप से घायल कर दिया। ज्यादातर अखबारों व न्यूज चैनलों ने पहले तो इस घटना पर चुप्पी ओढ़ ली तथा बाद में सोशल मीडिया में खबर आने पर इसे दो गुटों के संघर्ष के रूप में प्रचारित किया।&nb...

Read full news...


शराब की दुकान के विरोध में ग्रामीणों का संघर्ष


सामूहिक संघर्ष के दम पर पायी आंशिक सफलता


रामनगर(उत्तराखण्ड) / ग्राम चोरपानी में शराब की दुकान खुलने का विरोध कर रहे ग्रामीणों को अंततः अपने सामूहिक संघर्ष व एकता के दम पर आंशिक सफलता मिली। अपने संघर्ष के दम पर ग्रामीण दुकान को हटवाने में तो सफल हो गये परन्तु शासन प्रशासन ने ग्रामीणों को डराने धमकाने व उनके आंदोलन को तोड़ने के लिए जो मुकदमे ग्रामीणों पर लगाये थे वे अभी बाकी हैं। ग्रामीण अब लगे मुकदमों को हटवाने के लिए संघर्...

Read full news...


पुलिसिया तानाशाही का मजदूरों ने दिया मुंहतोड़ जवाब


मंदसौर में किसानों के कत्लेआम के विरोध में मजदूरों का प्रदर्शन


    रुद्रपुर/ मध्य प्रदेश के मंदसौर में 6 किसानों के कत्लेआम के विरोध में इंटार्क मजदूर संगठन सिडकुल पंतनगर द्वारा 25 जून 2017 को रुद्रपुर शहर में जोरदार प्रदर्शन कर अपना आक्रोश प्रदर्शित किया गया। शिवराज सरकार को बर्खास्त करो, मोदी सरकार होश में आओ, चुनावी वादा पूरा करो, किसानों की न्यायपूर्ण मांगों को हल करो, देश के अन्नदाता का कत्लेआम नहीं सहेंगे, मंदसौर में किसानों का कत्लेआम क...

Read full news...


एक्साईड के मजदूर नियुक्ति पत्र के लिए संघर्षरत


    एक्साईड इण्डस्ट्रीज लिमिटेड कम्पनी लकेश्वरी भगवानपुर रूड़की जिला (हरिद्वार) में स्थित हैं। यह कम्पनी भगवानपुर औद्योगिक क्षेत्र में आती है। यह औद्योगिक क्षेत्र हरिद्वार शहर से पश्चिम में करीब 40 किमी. की दूरी पर सहारनपुर देहरादून मार्ग पर है।। यह कम्पनी एक्साईड ग्रुप की है। इस कम्पनी में घरों में और उद्योगों में काम आने वाले इनवर्टर और यू.पी.एस. बनाये जाते हैं। यहां पर असेम्...

Read full news...


करंट से युवक की मौत के विरोध में ग्रामीणों का संघर्ष


    बलिया, थाना गडवार अंतर्गत ग्राम बहादुरपुर कारी में 10 जून की रात 7:30 बजे ट्रांसफार्मर में गलत बिजली प्रवाहित होने से एक नौजवान की मृत्यु हो गयी। साथ ही अन्य घरों में लगभग दो दर्जन लोग बिजली के झटके से प्रभावित हुए हैं। 

    इस पूरी घटना की ग्रामीणों द्वारा 5 दिन पहले बिजली विभाग के स्थानीय कर्मचारियों और उच्च अधिकारियों को सूचना दी गयी। किन्तु ट्रांसफार्मर में गलत वि...

Read full news...


शासन-प्रशासन के दमन के बाद भी आइसीन के मजदूरों का संघर्ष जारी


    रोहतक/ 3 मई से धरना-प्रदर्शन व भूख हड़ताल, सामूहिक भूख हड़ताल, क्रमिक भूख हड़ताल कर तपती दुपहरी में संघर्षरत आइसीन के मजदूरों का जब शासन-प्रशासन व प्रबंधन ने कोई भी सुनवाई न की तो उनके सब्र का बांध टूट गया। मजदूरों ने गूंगे-बहरे प्रशासन व बेरहम प्रबंधन को अपनी ताकत का अहसास दिलाने के लिए 31 मई को कम्पनी के दोनों गेटों को सुबह 5 बजे जाम कर दिया। सभी मजदूर हाथों में हाथ डालकर, एक-दूसरे क...

Read full news...


मुजफ्फरनगर के शेरपुर गांव में पुलिस का तांडव


ग्रामीण दहशत में


    मुजफ्फरनगर के एक गांव शेर पुर में 26 मई को स्थानीय पुलिस ने कामिल पुत्र इस्लाम के घर में छापा मारा उनके खाने से भरे बर्तन गिराये व गाली-गलौच की। ग्रामीणों ने प्रतिरोध किया और तीनों पुलिसकर्मियों (एक सब इंसपेक्टर सहित) को कमरे में बंद कर दिया। इस उम्मीद से कि पुलिस विभाग उनके खिलाफ कार्यवाही करेगा, खुद ही 100 नं. पर फोन कर पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना पर आये लगभग 15-16 पुलिसकर्मियों न...

Read full news...


महिन्द्रा के तीन प्लांटों का एक साथ संघर्ष


    मजदूर आंदोलन में वर्तमान समय में एक फैक्टरी का संघर्ष लड़ना और जीतना काफी चुनौतीपूर्ण काम है। वह भी तब जब मातृ कम्पनी में संघर्ष न हो और सहायक कम्पनी के मजदूर संघर्ष कर रहे हों। या केवल मातृ कम्पनी (मुख्य) के मजदूर संघर्ष कर रहे हों व सहायक कम्पनी के मजदूर काम कर रहे हों या उन्हें संघर्ष से कोई लेना-देना न हो। पूंजीवाद में जिस प्रकार की उत्पादन पद्धति इस्तेमाल की जा रही है उसमे...

Read full news...


अमिटी स्कूल के मजदूरों का संघर्ष


    अमिटी स्कूल गुड़गांव के सेक्टर 46 में स्थित है। इसकी कई शाखायें भी हैं। यह एक नामी स्कूल व यूनिवर्सिटी है जिनमें महंगी फीस है। इसमें काम करने वाले चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों, ड्राईवर, कंडक्टर का वेतन काफी कम है। मजदूर 8-15 साल पुराने हैं। लेकिन आज भी न्यूनतम वेतन पर काम कर रहे हैं। अमिटी अपने छात्रों से काफी ज्यादा फीस वसूल करती है। लेकिन मजदूर को केवल न्यूनतम वेतन ही देती है। ...

Read full news...


मुनाफे की हवस ने ली एक मजदूर की जान


सनबीम आटो टपूकेडा


    सनबीम ऑटो के दो प्लांट गुड़गांव व टपूकेडा में स्थित हैं। सनबीम टू व्हीलर के एल्युमिनियम के कुछ पार्ट व कुछ एक्सपोर्ट करने के लिए पार्ट बनाती है। टपूकेडा में लगभग 2000 मजदूर काम करते हैं। कुछ रिश्तेदारों को छोड़कर सभी ठेका मजदूर हैं। कम्पनी में ज्यादातर काम टेक्नीकल हैं फिर भी ठेका मजदूरों से काम करवाया जा रहा है। मजदूरों को बिना ट्रेंड किये मशीन पर लगा दिया जाता है। कम्पनी में ...

Read full news...


पुलिस ने किया थर्ड डिग्री का इस्तेमाल


महीने भर बाद गयी नौजवान की जान


    बरेली! यूं तो पुलिस का काम समाज में कानून व्यवस्था बनाये रखने व शांति कायम करने का कहा जाता है। लेकिन यही पुलिस तानाशाही पर उतर आये तब पुलिस का रूप क्रूर हो जाता है और आम आदमी को जान से हाथ धोना पड़ता है। 

    ताजा मामला इसी आधार पर है। बाइक चोरी के शक में बरेली कोतवाली पुलिस व क्राइम ब्रांच की पिटाई से घायल युवक ने दम तोड़ दिया है। घटना इस प्रकार थी कि उत्तराखण्ड के खटीम...

Read full news...


काशी इन्टर प्राइजेज में मजदूरों का शोषण


काशीपुर/ काशीपुर शहर से 7 कि.मी. दूरी पर एक कम्पनी काशी इन्टरप्राजेज स्थित है जिसकी देखरेख शहर के बड़े उद्योगों में से एक काशी विश्वनाथ स्टील (के.वी.एस.) के मालिक का बेटा अर्पण अग्रवाल करता है। इस फेक्ट्री में लोहे की ढलाई का काम किया जाता है। ढले लोहे को ग्राइंड करके अलग-अलग कम्पनियों जैसे टाटा, टी.वी.एस. अशोका लिलैण्ड, बजाज, एडविक जैसी कम्पनियों को सप्लाई किया जाता है।

    कम्पन...

Read full news...


महिन्द्रा सी.आई.ई. पंतनगर के मजदूरों का संघर्ष


    पंतनगर/महिन्द्रा सी.आई.ई. पंतनगर सिडकुल के मजदूरों का 20 दिसम्बर 2016 के 7 सूत्रीय मांगपत्र (वेतन बढ़ोत्तरी, छुट्टी, लोन, मेडिकल क्लेम व बस आदि) के लिए लगातार वार्ताओं से आगे बढ़कर 18 मई 2017 से ए.एल.सी. कार्यालय पर धरना शुरु हो गया है। 

    मांग पत्र देने के बाद से मजदूरों व प्रबंधन के बीच 20 अप्रैल से पूर्व 8 दौर की वार्ता हो गयी है। वार्ताओं में प्रबंधन लगातार उत्पादन बढ़ाने के बाद ह...

Read full news...


एवरेस्ट के मजदूरों ने पायी आंशिक सफलता


    भगवानपुर (हरिद्वार) के एवरेस्ट कम्पनी के मजदूर 20 अप्रैल 2017 से कम्पनी गेट से 500 मीटर की दूरी पर बैठे थे। कई असफल वार्ताओं के बाद 15 मई को एवरेस्ट के गेट पर मजदूर व उनके परिवार वालों ने शानदार प्रदर्शन किया। सात थानों के थानाध्यक्ष, 2-2 सीओ, एस पी देहात वहां मौजूद थे। इसके बाद एस.डी.एम. भगवानपुर की मध्यस्थता में एवरेस्ट मैनेजमेण्ट, मजदूर प्रतिनिधि व इंटक के पदाधिकारी वार्ता में बैठे प...

Read full news...


आइसीन मजदूरों का संघर्ष जारी: प्रबंधन अड़ियल रुख पर कायम


    रोहतक आईएमटी स्थित आइसीन कम्पनी के मजदूरों का आंदोलन 3 मई से अभी भी जारी है। कम्पनी प्रबंधन व प्रशासन की मिलीभगत के बावजूद अभी भी मजदूर अपने आंदोलन को जुझारू तरीके से जारी रखे हुए हैं। कम्पनी प्रबंधन व प्रशासन ने मजदूरों की एकता को तोड़ने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। लेकिन वह अपने सारे प्रयासों के बावजूद मजदूरों की एकता को तोड़ने में नाकाम साबित हुए। कम्पनी में कार्यरत सभी स्...

Read full news...


मजदूर की पिटाई पर मजदूरों ने कोतवाली घेरी


    बरेली के बड़ा बाजार आर्य समाज गली के रंगोली साड़ी के शोरूम में कार्यरत अर्जुन सिंह नामक कर्मचारी की अपने मालिक से काम को लेकर कुछ कहा सुनी हो गयी। इसी दौरान मालिक के भाई ने कर्मचारी अर्जुन सिंह को थप्पड़ मार दिया। तब कर्मचारी अर्जुन ने भी मालिक के भाई को पीटना शुरू कर दिया। यह देखकर आस-पास के दुकानदार भी इकट्ठे होकर कर्मचारी अर्जुन पर टूट पड़े और कर्मचारी अर्जुन को बुरी तरह पीटन...

Read full news...


मार्क एग्जाॅस्ट के ठेका मजदूरों का संघर्ष जारी है


    गुड़गांव/ मार्क एग्जाॅस्ट कम्पनी एनएच-8 गुड़गांव पर नरसिंहपुर के पास स्थित है। यह कम्पनी मारुति, हीरो होण्डा की बेण्डर कम्पनी है। यह टू और फोर व्हीलर के साइलेंसर बनाती है। इस कम्पनी में मजदूरों ने भारी शोषण से तंग आकर 1999 में यूनियन बनायी। काफी संघर्ष के बाद मालिक ने यूनियन को स्वीकार किया। 24 अप्रैल 2017 से पहले कम्पनी में 92 स्थायी और लगभग 400-500 ठेका मजदूर थे। मालिक ने यूनियन बनने के ब...

Read full news...


मजदूरों का परमानेंट लेटर लेने का सफल संघर्ष


एडविक हाइटेक प्रा. लि.


पंतनगर/ पूंजीवादी जनवाद की एक बानगी यह है कि कानूनों में दर्ज अधिकारों से भी मेहनतकश जनता को काट कर रखा जाता है, कानूनों को लागू करवाने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता है। इस तरह के संघर्ष बाज मौकों पर ही सफल हो पाते हैं। इसी प्रकार की एक घटना सिडकुल पंतनगर की है। 

    सिडकुल पंतनगर में एडविक हाइटेक प्रा.लि. सेक्टर-9, प्लाट न. 7A में स्थित है। यह कम्पनी वर्ष 2005 से उत्पादन कर रही है। इस क...

Read full news...


परफेटी कम्पनी में ठेका मजदूरों का संघर्ष


    सिडकुल पंतनगर के सेक्टर 9 प्लांट 14 बी में अवस्थित परफेटी कम्पनी के सभी 400 ठेका मजदूर वेतनवृद्धि, स्थाईकरण एवं ओवर टाइम के दो गुना भुगतान करने की अपनी विभिन्न मांगों  को लेकर 8 मई 2017 से सामूहिक हड़ताल पर चले गये।

    परफैटी कम्पनी के इस प्लांट में लगभग 265 स्थाई, और लगभग 400 ठेका मजदूर कार्यरत हैं। स्थाई मजदूरों का वेतन लगभग 2500रू. और ठेका मजदूरों का हाथ में आने वाला वेतन 6200 रू. म...

Read full news...


आइसीन के मजदूरों द्वारा जारी पर्चा


आइसीन कम्पनी के मजदूरों के साथ हुए अन्याय के विरोध में आयोजित महापंचायत में शामिल हों।


साथियो,

    हम मजदूर आइसीन ऑटोमोटिव हरियाणा प्राइवेट लिमिटेड आई.एम.टी. रोहतक में कार्यरत हैं। कम्पनी में हम सभी मजदूर जिसमें महिलाएं भी शामिल हैं पिछले 3-4 साल से संस्था में कार्य कर रहे हैं। कार्य के दौरान मजदूरों को पानी-पेशाब तक नहीं जाने दिया जाता बल्कि हमें यह बताया जाता है कि अगर आप पानी-पेशाब जाओगे तो कम्पनी का नुकसान हो जाएगा। हमें कार्य के दौरान गाली-गलौच दिया जाता ह...

Read full news...


आइसीन प्रबन्धन चला मारुति की राह


    रोहतक/ आइसीन आटोमोटिव कम्पनी, हरियाणा में हो रहे अत्यधिक शोषण के खिलाफ; उसे कम करने व अपने अधिकारों को पाने के लिए; मजदूरों ने ट्रेड यूनियन के तहत यूनियन बनाने की फाइल लगायी। कानूनी तरीके से उसका वेरीफिकेशन भी श्रम विभाग से करवाया। लेकिन कम्पनी को इस प्रक्रिया का पता चलने के बाद उसे ये बात पसंद नहीं आयी। और यूनियन बनने को रोकने के लिए कम्पनी ने तरह-तरह के हथकण्डे अपनाने शुरु क...

Read full news...


सहारनपुर दलित उत्पीड़न की घटना के विरोध में धरना


    सहारनपुर में सवर्ण दबंगों द्वारा दलितों के उत्पीड़न के विरोध में दिल्ली के जन्तर-मन्तर पर 13 मई को धरना दिया गया व सभा की गई। सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव  में दबंगों द्वारा 5 मई को दलितों के घरों को जलाने व दलितों पर दबंगों द्वारा कातिलाना हमला किए जाने के विरोध में दिल्ली में विभिन्न जनवादी व मजदूर संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से इस धरने का आयोजन किया गया।

    धरना स्थ...

Read full news...


कम्पनी का पलायन रोकने को ऐरा यूनियन का संघर्ष जारी है


    सिडकुल पंतनगर में स्थित ऐरा कम्पनी के मालिक सिडकुल पन्तनगर से कम्पनी का पलायन करने की साजिश रच रहे है यह कम्पनी कारखानों रेलवे लाइन सड़क आदि के लिये लोहे के बीम आदि उत्पाद तैयार करती है।

    इस कम्पनी में 100 स्थाई मजदूरों के साथ-साथ सैकड़ों ठेका मजदूर कार्यरत है। ठेका मजदूरों की संख्या उत्पादन के अनुसार घटाई बढ़ाई जाती रही है। 24 जनवरी से बिजली विभाग द्वारा कम्पनी के बिज...

Read full news...


पन्तनगर वि.वि. मजदूर-कर्मचारी फिर से आन्दोलन पर


    पंतनगर/29 नवम्बर 2016 को पन्तनगर वि.वि. में मजदूर-कर्मचारी 19 सूत्रीय मांग पत्र पर कार्यवाही हेतु संयुक्त मोर्चा ट्रेड यूनियन के संगठन, ठेका मजदूर कल्याण समिति, पन्तनगर कर्मचारी संगठन, वि.वि. श्रमिक कल्याण संघ, पन्तनगर शोषित परिषद, सफाई मजदूर कांग्रेस ट्रेड यूनियन के नेतृत्व में आन्दोलन पर गये थे। जनवरी 2017 में आचार संहिता के कारण आंदोलन स्थगित करना पड़ा था। तब से समस्याओं का कोई पर...

Read full news...


एवरेस्ट इंडस्ट्रीज के मजदूर संघर्ष में उतरे


    हरिद्वार, एवरेस्ट इण्डस्ट्रीज लिमिटेड भगवानपुर के मजदूर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। कम्पनी के लगभग 225 मजदूर माह अप्रैल में अपनी मांगों को न माने जाने के विरोध में हड़ताल का नोटिस देने के पश्चात 20 अप्रैल से कम्पनी के बाहर लगभग 500 मीटर की दूरी पर दिन-रात के धरने पर बैठे हैं।

    एवरेस्ट कम्पनी रुड़की-देहरादून रोड पर भगवानपुर के लफेखरी में स्थित है, यह कम्पनी ...

Read full news...


सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में दलितों पर हुए हमले की तथ्यान्वेषी रिपोर्ट


(क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन की अगुवाई में प्रगतिशील महिला एकता केंद्र एवं नौजवान भारत सभा के कार्यकर्ताओं ने तथ्यों की जांच पड़ताल के लिए शब्बीरपुर गांव का दौरा 8 मई को किया इस जांच-पड़ताल के आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गई है।)

    सहारनपुर से लगभग 26 किमी दूरी पर शब्बीरपुर गांव पड़ता है। मुख्य सड़क से तकरीबन आधा किमी दूरी पर यह गांव है। इस गांव के आस पास ही महेशपुर व शिमलाना ...

Read full news...


नामी स्कूल में बच्ची के यौन उत्पीड़न के खिलाफ संघर्ष


    हल्द्वानी, नैनीताल उत्तराखण्ड में ओरम दा ग्लोबल स्कूल जो कि प्राइवेट है, शहर के मध्य में स्थित है जिसमें लगभग 800 छात्र पढ़ते हैं व लगभग 60 शिक्षक-कर्मचारी मौजूद हैं। स्कूल नर्सरी से 10वीं कक्षा तक है। स्कूल शहर के सबसे महंगे स्कूलों में से एक है।

    गत 19 अप्रैल को ओरम स्कूल की एक 6 वर्षीय बच्ची के साथ पिछले 4 महीने से यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया। बच्ची पिछले लम्बे समय से ...

Read full news...


मारूति मजदूरों को सजा के खिलाफ सेमिनार


    काशीपुर/ मारूति के 148 मजदूरों को 4 साल बिना जमानत जेल में रखा गया। अंत में जब फैसला आया तो 31 मजदूरों को सजा दी गयी। जिसमें 13 मजदूरों को आजीवन कारावास की सजा दी गयी। काशीपुर शहर में इंकलाबी मजदूर केन्द्र के नेतृत्व में परिवर्तनकामी छात्र संगठन, रिचा श्रमिक संगठन, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र ने 16 अप्रैल को एक सेमिनार आयोजित किया। सेमिनार का शीर्षक ‘मारूति मजदूरों को सजा व मजद...

Read full news...


13 अप्रैल शहादत दिवस पर प्रभात फेरी व सभा


    पंतनगर/ 13 अप्रैल 1919 के जलियांवाला बाग में अंग्रेजों द्वारा किये गये गोलीकाण्ड-नरसंहार में मारे गये शहीदों एवं 13 अप्रैल 1978 को पंतनगर में काले अंग्रेजों के शासन-प्रशासन के गोलीकाण्ड में मारे गये शहीदों को श्रृद्धांजलि दी गयी। उनके आदर्शों पर चलने व उनके अधूरे सपनों को पूरा करने के लिए संघर्ष करने का संकल्प लिया गया। 13 अप्रैल को इंकलाबी मजदूर केन्द्र, ठेका मजदूर कल्याण समिति व ...

Read full news...


रिहायशी इलाकों में शराब के ठेके खोले जाने के खिलाफ संघर्ष


    फरीदाबाद/ अचानक ही पूरे देश में रिहायशी कालोनियों में शराब के ठेके खुलने लगे हैं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग के 500 मीटर के दायरे में शराब ठेका खोलने पर प्रतिबंध लगाने के कारण अब ठेकेदारों ने आबादी वाले इलाकों का रुख कर लिया है जिसका हर तरफ विरोध हो रहा है। फरीदाबाद में भी यही हो रहा है। 

    हथीन, पलवल, चावला कालोनी 100 फ्रूट रोड पर, भगत सिंह कालोनी टी प्वा...

Read full news...


महिन्द्रा के तीनों प्लांटो के मजदूरों का एकजुट संघर्ष


    महिन्द्रा के तीनों प्लांटों के मजदूरों का अपनी-अपनी मांगों के लिए संघर्ष जारी है। इस कड़ी में द्विपक्षीय/त्रिपक्षीय वार्ताओं में प्रबंधन लगातार मजदूर नेताओं को थका रहा है। महिन्द्रा सी आई ई पंतनगर प्लांट के मजदूरों ने 20 दिसम्बर 2016 को मांग पत्र लगाया। इससे पूर्व दो मजदूरों की कार्यबहाली के कारण मांगपत्र में कार्यबहाली को ही प्रमुखता दी गयी थी। अब वेतन बढ़ोत्तरी समेत अन्य मा...

Read full news...


शिवम आटो टेक में ठेका मजदूरों का संघर्ष और प्रबन्धन द्वारा दमन


    हरिद्वार में सलेमपुर सिडकुल फेज 2 बड़े सिडकुल से लगभग 1 कि.मी. दूरी पर स्थित है। इस सिडकुल में 60-70 कम्पनियां हैं। इस सिडकुल में अधिकतर ऑटो कम्पनियां हैं। इसी सिडकुल में शिवम ऑटो लिमिटेड कम्पनी है। इस कम्पनी में ठेका मजदूरों ने वेतन समय से नहीं मिलने के कारण 2 घंटे तक जाम रखा। इस कम्पनी में ठेका स्थाई मिलाकर 1 हजार मजदूर काम करते हैं। यहां 12-12 घण्टे की दो शिफ्टों में काम होता है। 70-80 मज...

Read full news...


नियमित और ठेका मजदूरों ने फिर किया आन्दोलन का एलान


    पंतनगर 10 अप्रैल को, संयुक्त मोर्चा के घटक संगठन ठेका मजदूर कल्याण समिति, पंतनगर कर्मचारी संगठन, विश्वविद्यालय श्रमिक कल्याण संघ, राष्ट्रीय शोषित परिषद, अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस ने घंटा घर, प्रशासनिक भवन पर धरना सभा की। सभा में नियमित व ठेका मजदूरों की समस्याओं में श्रम नियमानुसार सुविधायें दिये जाने की मांग की गयी व शासनादेश लागू करने में हीला हवाली, हठ धर्मिता का व...

Read full news...


दुकान कर्मचारियों का श्रम विभाग के खिलाफ प्रदर्शन


    बरेली/ 6 अप्रैल 2017 को दर्जनों दुकान कर्मचारियों ने दुकानों पर श्रम कानून लागू न होने, आठ घंटे से अधिक कार्य के बाद ओवरटाईम न देने व साप्ताहिक छुट्टी के दिन में कर्मचारियों को जबरन काम पर बुलाने व राजकीय-राष्ट्रीय पर्वों पर दुकानें खोलने के विरोध में उप श्रमायुक्त बरेली को ज्ञापन दिया गया व प्रदर्शन किया गया। 

    उ.प्र. मार्केट वर्कर्स एसोसिएशन के बैनर तले दुकानों प...

Read full news...


प्रिकोल प्रबंधन ने लेबर कोर्ट में सुनवाई के दौरान गैर कानूनी रूप से मजदूरों का गेटबंद किया


    प्रिकोल प्रबंधन द्वारा गैरकानूनी रूप से निकाले गये मजदूरों का 18 मार्च 2017 से ए.एल.सी. कार्यालय रुद्रपुर, ऊधमसिंह नगर पर धरना शुरू हो गया है। पूर्व में हुए संघर्ष के उपरान्त हुए समझौता दिनांक 4 अक्टूबर 16 के बाद कम्पनी ने 113 मजदूरों की कार्यबहाली तो कर दी परन्तु साजिशन पुनः जनवरी 2017 से ही अन्यान्य कारणों से संघर्ष में शामिल मजदूरों की छंटनी करनी शुरू कर दी। फरवरी माह तक लगभग 15 मजदूर...

Read full news...


जेल से मारुति मजदूरों का खत


    जेल की सलाखों के पीछे से सभी मजदूर भाइयों को लाल सलाम। मजदूर भाइयो, जैसा कि आप जानते हैं कि पिछले साढ़े 4 साल से हमें जेल में सड़ाया जा रहा है। हमारे केस पर जब बहस हो रही थी तो हमें लग रहा था कि हमारे काबिल वकील और उनकी दलीलों ने यह साबित कर दिया था कि पुलिस और प्रबंधन की मिलीभगत से यह झूठा केस हम मजदूरों पर थोपा गया है। हमें बड़ी उम्मीद थी कि 10 मार्च को हमें न्याय मिलेगा और हम सब भाई जेल...

Read full news...


वर्गीय हमले के शिकार मारुति मजदूरों के साथ एकजुट हों


मारूति प्रकरण सजा के विरोध में देश-दुनिया में प्रदर्शन


    मारुति के जेल में बंद निर्दोष मजदूर साथियों को अंततः गुड़गांव के सेशन कोर्ट ने 18 मार्च को सजा सुना दी। 17 मार्च को अभियोजन पक्ष के वकीलों ने हत्या व हत्या के आरोप जैसी संगीन धाराओं में नामजद 13 साथियों (मारुति की यूनियन बाॅडी और जियालाल) को फांसी की सजा देने की मांग की तथा तोड़फोड़ व मारपीट में दोषी ठहराये गये 18 मजदूर साथियों को 7-7 साल सजा की मांग की। बचाव पक्ष के वकील वृंदा ग्रोवर ने अ...

Read full news...


एबीवीपी का उत्पात


    19-20 मार्च को बरेली काॅलेज में हिन्दी विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय सेमिनार में एबीवीपी द्वारा जमकर उत्पात मचाया गया। यह उत्पात बी.एच.यू. के रिटायर्ड प्रो. चौधरीराम यादव के भाषण के बाद मचा। अ.भा.वि.प. के कार्यकर्ता सेमिनार में मौजूद नहीं थे। यकायक वे आये और यह कहकर कि सेमिनार में चौधरीराम यादव द्वारा आरएसएस के मोहनभागवत और गोलवलकर को आतंकवादी कहा गया है। इस वक्तव्य को लेकर इनक...

Read full news...


देश-दुनिया में मजदूर संगठनों द्वारा विरोध प्रदर्शन


मारूति के मजदूरों को सजा के विरोध में


    देश-दुनिया में मारुति मजदूरों के खिलाफ अदालत के फैसले को लेकर तीखा आक्रोश व्यक्त किया गया तथा मारूति सुजुकी के मजदूरों पर लगाये गये झूठे मुकदमे वापस लेने एवं मारूति मजदूरों के साथ न्याय की मंशा को लेकर व्यापक प्रदर्शन किये।

    गुड़गांव सत्र न्यायालय द्वारा 31 मजदूरों को दोषी ठहराये जाने के खिलाफ राजधानी दिल्ली में 16 मार्च को विभिन्न मजदूर संगठनों छात्र,-नागरिकों स...

Read full news...


डिगानिया मेडिकल डिवाईसिस के ठेका मजदूरों की दास्तान


    डिगानिया मेडिकल डिवाईसिस मानेसर पैकेजिंग क्षेत्र में सेक्टर 6 प्लाट न. 251 और 275 में स्थित है। इस कम्पनी में 1000 से 1100 मजदूर काम करते हैं। जिनमें 400 के करीब स्थायी और 600-700 अस्थायी हैं। यह कम्पनी इजरायल की है। इसने 2005 में आईएमटी मानेसर में अपना प्लांट लगाया था। यह कम्पनी मेडिकल डिवाईस बनाती है। कम्पनी में मजदूरों की दशा बहुत खराब है। ठेका मजदूरों को न्यूनतम वेतन दिया जाता है। स्थायी म...

Read full news...


कैम्पसों पर संघी हमले जारी हैं....


    केन्द्र में बीजेपी सरकार के आने के बाद से शिक्षा संस्थानों पर हमले बढ़ गये हैं। पिछले तीन सालों में एफटीआईआई, हैदराबाद विवि, जेएनयू, इलाहाबाद विवि आदि की फेहरिस्त में एक नए विश्वविद्यालय का नाम जुड़ गया है। इन फासीवादी ताकतों का नया हमला दिल्ली विश्वविद्यालय(डीयू) पर हुआ है। 

    डीयू के विभिन्न कालेजों के विभाग विभिन्न विषयों पर सेमिनारों का आयोजन करते रहे हैं। 21-22 ...

Read full news...


पूंजीपति वर्ग, उसकी व्यवस्था का मजदूर वर्ग पर हमला


    मारुति कांड पर बहुप्रतीक्षित फैसला 10 मार्च को गुड़गांव सेशन कोर्ट ने सुना ही दिया। विगत पांच साल से जो लोग इस मुकदमे की कार्यवाही देख रहे थे को कोई आश्चर्य नहीं हुआ क्योंकि पिछले पांच सालों में न्यायपालिका ने बार-बार अलग रूप में अपनी वर्गीय पक्षधरता को उजागर किया था। यहां तक कि पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने भी जमानत खारिज करते हुये दिये फैसले में ये संज्ञान लिया कि इससे विदेश...

Read full news...


अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर सभा


    पंतनगर/ ठेका मजदूर कल्याण समिति, इंकलाबी मजदूर केन्द्र व प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र के संयुक्त तत्वाधान में ट कालोनी मैदान में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। 

    सभा में वक्ताओं ने कहा कि संविधान में स्त्री-पुरुष की समानता की बातें की गयी हैं पर व्यवहार में आज हर जगह गैर बराबरी है चाहे वह शिक्षा का मामला हो या रोजगार का, महिलाओं की बेरोजगारी के आंकड़ों मे...

Read full news...


मजदूर बस्तियों में पोस्टर प्रदर्शनी का आयोजन, आम सभा एवं जुलूस


8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय मजदूर महिला दिवस


    इस बार 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय मजदूर महिला दिवस के मौके पर फरवरी एवं मार्च में इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा फरीदाबाद की मजदूर बस्तियां कालोनियों में पोस्टर प्रदर्शन के माध्यम से महिलाओं के शोषण, गुलामी एवं संघर्षां के विभिन्न पक्षों को उजागर किया गया। पोस्टर प्रदर्शनी आजाद नगर, चंदन नगर, संजय कालोनी, सेक्टर-55 एवं संतोष नगर में आयोजित की गई, बड़ी संख्या में महिला एवं पुरुष मज...

Read full news...


इण्डो (INDO) कम्पनी की एक रिपोर्ट


    इण्डो ग्रुप ऑटो पार्ट बनाने वालों में बड़ा ग्रुप है जो मारुति, होण्डा और यामहा के दोपहिया और चौपहिया वाहनों के कई पार्ट्स बनाने का काम करती है और जेसीबी के भी कई पार्ट्स बनाये जाते हैं। भारत में इसकी छः यूनिट हैं। तीन यूनिट फरीदाबाद में, एक गुड़गांव में, एक राजस्थान में और एक बैंगलुरू में। 

    पहली यूनिट फरीदाबाद के सेक्टर 24 में प्लाट न. 332 से 338 और 316-317 भी है। इस यूनिट में ...

Read full news...


नाबालिग लड़की के यौन उत्पीड़न के खिलाफ संघर्ष


    हल्द्वानी/हमारे समाज में महिलाओं के साथ यौन हिंसा लगातार बढ़ती जा रही है। चाहे छोटी बच्चियां हों चाहे वृद्ध महिलायें, चाहे घर में हों या घर से बाहर कहीं भी महिलाएं अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं। आये दिन घरों से लेकर बाहर तक रिश्तेदारों से लेकर अजनबियों तक किसी पर भी भरोसा करना मुश्किल हो गया है। 

    इसी तरह की एक घटना हल्द्वानी(नैनीताल) उत्तराखण्ड के देव...

Read full news...


कारखाने में हाथ कटे साल भर हुआ पर श्रम विभाग तमाशबीन


    सन् 2016, 29 फरवरी को कम्पनी गैरिसन टूल्स प्राइवेट लि. प्लांट न. 99 सेक्टर-23, फरीदाबाद में लगभग शाम पौने 6 बजे सोनी नाम की महिला मजदूर जिसकी उम्र 32 साल है, का बायां हाथ रोयरिंग मशीन में आ गया और कुचलता चला गया। जान बचाने के लिए डाक्टर को कोहनी से ऊपर हाथ काटना पड़ा। 

    सोनी के तीन बच्चे हैं। सबसे छोटी बच्ची पहली में पढ़ती है। पति प्रमोद इण्डो कम्पनी में ठेकेदारी के तहत मजदूरी क...

Read full news...


मारूति प्रकरण में बहस जारी


बचाव पक्ष के वकीलों ने केस को झूठा साबित किया


    1 फरवरी को बचाव पक्ष के वकील सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने 112 मजदूरों के ऊपर लगे आरोपों पर बहस की। तथा आरोपों को निराधार सबित किया। गवाह न. 9, 10, 11, 12 ने 89 मजदूरों के वर्णमाला (अल्फाबेटिकली) नाम लिये। किसी भी झगड़े में यह सम्भव नहीं है कि लोग वर्णमाला क्रम(अल्फाबेटिकली) में खुद को एकजुट करें और फिर कोई कार्यवाही करें। ये चारों गवाह कोर्ट में अपनी गवाही के दौरान किसी...

Read full news...


ओमेक्स धारूहेडा ने निकाले 15 साल पुराने 388 मजदूर


    धारूहेडा स्थित ओमेक्स कम्पनी के मजदूरों के लिए 1 फरवरी का दिन काफी दर्दनाक रहा। मजदूर जब कम्पनी में काम करने के लिए पहुंचे तो गेट पर प्रबंधकों ने बैनर लगा रखा था जिस पर लिखा था कि ठेकेदार के मजदूरों को निकाल दिया गया है। लगभग 388 ठेका मजदूरों का गेट बंद कर दिया गया। यह मजदूर कम्पनी में 15 से 17 साल से काम कर रहे थे। अपनी जिन्दगी के महत्वपूर्ण साल कम्पनी में खपाने के बाद इन मजदूरों ने ...

Read full news...


रिचा के श्रमिक लगातार संघर्षरत है


मजदूर पर हमले के विरोध में 4 दिन काम बन्द


    रिचा इंडस्ट्रीज काशीपुर के श्रमिक अपनी यूनियन ‘‘रिचा श्रमिक संगठन’’ के बैनर तले अपनी स्थापना नवम्बर 2015 से ही संघर्षरत हैं। कोई महीना नहीं गया है जिसमें किसी न किसी रूप में जन कार्यवाही ना हुई हो। लगातार शिकायती पत्रों द्वारा, प्रशासनिक अधिकारियों, श्रम कार्यालय के अधिकारियों से व्यक्तिगत मुलाकातों, त्रिपक्षीय वार्ताओं के जरिये श्रमिकों (यूनियन) ने अपनी मांगों को ...

Read full news...


एक बहादुर मां का इंसाफ मार्च


    जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में एम.एस.सी. बायोटेक कर रहे बदायूं (यू.पी.) के छात्र नजीब अहमद को कैम्पस से गायब हुए लगभग चार माह बीत चुके हैं पर दिल्ली पुलिस नजीब को ढूंढने में नाकाम रही है। आतंकवादियों व विस्फोटों के आरोपियों को यहां तक कि किसी मंत्री के जानवरों तक को चंद दिनों में ढूंढ निकालने वाली देश की पुलिस व खुफिया विभाग नजीब के मामले में नाकाम क्यों रहा यह सवाल देश के इं...

Read full news...


शाहबाद डेरी की विभिन्न समस्याओं को लेकर विघायक कार्यालय पर प्रदर्शन


    दिल्ली/ 11 फरवरी को इंकलाबी मजदूर केन्द्र, मजदूर एकता समिति व परिवर्तनकामी छात्र संगठन के नेतृत्व में शाहबाद डेरी के सैकड़ों बस्ती वासियों ने बस्ती की ढेरों समस्याओं को लेकर आप विधायक वेद प्रकाश के कार्यालय पर प्रदर्शन किया। सैकड़ों की संख्या में बस्तीवासी गाड़ियों से इकट्ठा होकर बवाना विधायक कार्यालय पर पहुंचे व कार्यालय के सामने जाम लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर...

Read full news...


गारमेन्ट कम्पनी शिवालिक प्रिंट्स में मजदूरों को लूटने का एक और नायाब तरीका


    शिवालिक प्रिंट्स के फरीदाबाद में कई प्लांट हैं। इस कम्पनी में रेडीमेड गारमेन्ट का काम होता है। सारा माल विदेशों में निर्यात किया जाता है। ऐसे ही शिवालिक प्रिंट्स यूनिट-II प्लाॅट न.-17, सेक्टर-4, फरीदाबाद हरियाणा (121006) में ही टीशर्ट बनाई जाती है। सन् 1991 में फरीदाबाद औद्यौगिक क्षेत्र में पहला प्लांट लगा था और आज इस कम्पनी के फरीदाबाद में ही दसियों प्लांट हैं।

    यूनिट-II में स...

Read full news...


बैलसोनिका मजदूरों के सामने चुनौतियां जारी


    आई.एम.टी. मानेसर स्थित मारुति की ज्वाइंट वैण्डर कम्पनी बैलसोनिका ऑटो कम्पोनेन्ट इण्डिया प्रा.लि. के मजदूरों ने ट्रेड यूनियन की लड़ाई जीतकर पूरे मजदूर वर्ग के लिए एक संदेश व दिशा देने का काम किया है। 3 अगस्त 2016 को इस यूनियन और मैनेजमेण्ट के समझौते में सभी निकाले गये 150 मजदूरों को काम पर वापिस ले लिया गया जिससे 54 स्थायी मजदूर 32 ट्रेनी मजदूर व 64 ठेका मजदूर थे। जब मजदूरों ने यूनियन बना...

Read full news...


बचाव पक्ष ने केस को झूठा साबित किया पर फैसला तो राजनैतिक होगा


मारूति कांड केस


    18 जुलाई 2012 को मारुति मानेसर में हुए कांड में गिरफ्तार 149 मजदूरों जिनमें से 11 अभी भी जेल में हैं, के मुकदमे की अन्तिम बहस शुरू हो गयी है। बचाव पक्ष की ओर से सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील रिबेका जॉन और वृंदा ग्रोवर ने मजदूरों का पक्ष रखा। बहस के दौरान बचाव पक्ष के वकील रिवेका जॉन ने यह स्थापित कर दिया कि मारुति प्रबंधन की ओर से मजदूरों पर झूठा, बेबुनियाद, व सुनियोजित तरीके से निर्दोष ...

Read full news...


नोटबंदी के 50 दिन पूरे होने पर नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में विभिन्न कार्यक्रम


    राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में दिल्ली फरीदाबाद व गुरूग्राम में मोदी सरकार द्वारा जारी नोटबंदी के पचास दिन पूरे होने के बाद नोटबंदी के सम्बन्ध में मोदी सरकार की छल एवं पाखण्डपूर्ण घोषणाओं का भंड़ाफोड़ करते हुए एवं नोटबंदी के पीछे मोदी सरकार के क्षुद्र राजनीतिक स्वार्थों का भंडाफोड़ करते हुए इंकलाबी मजदूर केन्द्र, परिवर्तनकामी छात्र संगठन, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र द्व...

Read full news...


नियमित और ठेका मजदूरों का आन्दोलन स्थगित


    पन्तनगर/ प्रशासनिक भवन पर नियमित व ठेका मजदूरों ने 19 सूत्रीय मांगों को लेकर चल रहे क्रमिक अनशन को 5 जनवरी 2017 को वि.वि. प्रशासन और जिला प्रशासन के गठजोड़ द्वारा आचार संहिता का शिगूफा उछाल कर पुलिस प्रशासन का लाव लश्कर, तमाम ताम-झाम, गाड़ियों, विशेष पुलिस बल, फायर ब्रिगेड से पानी के बौछार, रुतवा, डण्डा आदि का डर दिखाकर आन्दोलन समाप्त करा दिया गया। मोर्चे को आन्दोलन को स्थगित करने की घ...

Read full news...


हीरो मोटरकार्प कम्पनी से निकाले ठेका मजदूरों का आन्दोलन जारी है


    गुड़गांव स्थित हीरो मोटर कार्प प्रबन्धन ने नोटबन्दी का बहाना लेकर दिसम्बर से अब तक लगभग एक हजार से ज्यादा मजदूरों को काम से निकाल दिया। इनमें से 600 के आस-पास वो मजदूर साथी हैं जिन्हें काम करते हुए 4 से 8 साल हो गए। निकालते समय कम्पनी प्रबन्धन ने इन मजदूरों को ये झांसा दिया कि जनवरी माह में काम बढ़ने पर आपको काम पर वापस बुला लिया जाएगा। इनसे पूर्व भी हीरो मोटर कार्प प्रबन्धन ने लगभग...

Read full news...


रोडवेज वर्कशाप में शोषण के खिलाफ आवाज उठाने पर 64 कर्मचारी बर्खास्त


    वर्ष 2015 में आई.टी.आई., सी.टी.आई. पास कर्मचारियों को उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा वर्कशाप में 100 रुपये प्रतिदिन पर एक वर्ष की ट्रेनिंग पर रखने का फार्म भरवाया गया। कर्मचारियों को मौखिक रूप से बताया गया कि एक वर्ष बाद उनको संविदा कर्मचारी बना दिया जायेगा। एक वर्ष बाद पुनः कर्मचारियों से फार्म भरवाया गया और मौखिक आश्वासन दिया गया कि आपका वेतन बढ़ा दिया जायेगा। लेकिन कर्मचारियो...

Read full news...


बढ़ते महिला अपराधों के विरोध में आक्रोश रैली


    लालकुआं, बिंदुखत्ता के इंद्रानगर, गौला गेट की 80 वर्षीय सरस्वती देवी के बलात्कार के विरोध में प्रगतिशील महिला एकता केंद्र ने 9 जनवरी, 2017 को हल्द्वानी में बढ़ते अपराधों के विरोध में एक प्रदर्शन किया।

    29 दिसंबर, 2016 को जब प्रगतिशील महिला एकता केंद्र व परिवर्तनकामी छात्र संगठन के कार्यकर्ता सरस्वती देवी से मिलने के लिए घर में गये तो सरस्वती देवी की तबियत काफी खराब थी उनक...

Read full news...


पर्ल्स एग्रोटेक काॅर्पोरेशन लि. का गड़बड़ घोटाला


    पूंजीवाद में हर कोई पूंजीपति बनने के सपने देखता है। परन्तु कुछ ही लोग इसमें सफल हो पाते हैं, लगातार लालच बढ़ता रहता है। जो धूर्त मक्कार लोग होते हैं वो दूसरों की गाढ़ी कमाई को कैसे हड़पा जाये उसके लिए योजना बनाते रहतें हैं। ये पूरी पूंजीवादी व्यवस्था इस काम में उन धूर्तों का ही साथ देती है। कभी कभार पूरी लूट-पाट पर टिकी इस व्यवस्था में ऐसे किसी धूर्त की बलि भी चढ़ानी पढ़े तो वह समूच...

Read full news...


‘राष्ट्रगान व ईमानदारी का पाठ पढ़ा कर मजदूरों का निर्मम शोषण’


    इम्पीरियल आॅटो लि. प्लाट न.48 डी.एल.एफ. फेज -1 फरीदाबाद (हरियाणा) में स्थित है। ये कम्पनी सारे गाड़ियों के लिए होज पाइप बनाती है, जो गाड़ियों में आयल सप्लाई करने में काम आता है।

    टाटा, मारुति, अशोका लीलैण्ड, ट्रम्प मोटर साईकल आदि कम्पनियों को सप्लाई करती है। यहां से कुछ विदेशों में भी निर्यात किया जाता है।

    यहां पर काम करने वाले मजदूर ज्यादातर पढ़े लिखे हैं, लगभग ...

Read full news...


पन्तनगर वि.वि. के नियमित व ठेका मजदूरों का संघर्ष


    पंतनगर/ 20 दिसम्बर 2016 से पन्तनगर वि.वि. के नियमित व ठेका मजदूरों द्वारा प्रशासनिक भवन पर अपनी विभिन्न मांगों के लिए क्रमिक अनशन शुरू किया। मजदूर संगठन लम्बे वक्त से अपनी मांगों को लेकर सभा, जुलूस-प्रदर्शन, ज्ञापन आदि देते रहे हैं पर वि.वि. प्रशासन के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। अब क्रमिक अनशन शुरू होने के बाद प्रशासन वार्ता को मजबूर हुआ है। 

    ट्रेड यूनियन संयुक्त सं...

Read full news...


सी.के. इंटरनेशनल के मजदूरों का अपने अधिकारों के लिये संघर्ष


    ओखला औद्योगिक क्षेत्र दिल्ली के बड़े औद्योगिक क्षेत्रों में एक है। बड़े पैमाने में यहां गारमेंट इंडस्ट्री थी। उत्तर प्रदेश व हरियाणा में न्यूनतम वेतन दिल्ली की तुलना में कम होने के कारण और अपने पुराने मजदूरों को हटा कर अधिक मुनाफा कमाने के उद्देश्य से कई बड़ी-बड़ी कम्पनियां यहां से चली गईं। फिर भी ओखला में आज भी व्यापक पैमाने पर गारमेंट फैक्टरियां हैं जिनमें हजारों की संख्या...

Read full news...


सत्यम ऑटो के मजदूरों की हालत


    हरिद्वार/सत्यम ऑटो कम्पोनेन्टस प्रा. लिमिटेड कम्पनी हरिद्वार सिडकुल में 3/P-8, सेक्टर-10,11E सिडकुल (हरिद्वार) में स्थित है। कम्पनी में लगभग 400 स्थायी मजदूर काम करते हैं। और ठेकेदारी के तहत लगभग 700 मजदूर काम करते हैं और लगभग 250 लोग स्टाफ में काम  करते हैं। कम्पनी में कुल 8 लाईनें M-1, M-2, M-3, M-4, Read full news...


दलित वृद्धा के साथ बलात्कार पर तंत्र की बेरुखी


    लालकुंआ के बिन्दुखत्ता इन्द्रानगर फेस-II में 11 दिसम्बर की रात को अंजान व्यक्ति द्वारा एक वृद्ध महिला के साथ बलात्कार किया गया। अगले दिन कोतवाल के पास जाकर रिपोर्ट दर्ज करवाई। कोतवाल ने पूरी चालाकी का परिचय दिया। महिला गरीब थी। इस वजह से हल्की धारा लगाकर महिला को हल्द्वानी के महिला अस्पताल में भेज दिया गया। 

    उत्पीड़ित सरस्वती आर्या 92 वर्ष की वृद्ध महिला है। महिल...

Read full news...


एल.एच.शुगर फैक्टरी में हादसे में 3 मजदूरों की मौत


    पीलीभीत/एल.एच.शुगर फैक्टरी पीलीभीत स्टेशन से 500 मी. की दूरी पर है। यहां 3 दिसम्बर 16 को शाम 4ः45 बजे ही थे कि फैक्टरी के अंदर एक विस्फोट हुआ। यह विस्फोट इतना जबर्दस्त था कि एक आग का गोला 60-70 फीट ऊपर उठता दिखाई दिया और आस-पास की धरती कांप उठी। यह वह समय था जब दूसरे शिफ्ट के मजदूर आ गये थे। 

    शनिवार की शाम फैक्टरी में ग्रेडर रूम (यहां चीनी भरी जाती है) में ब्लास्ट होने के बाद ग्र...

Read full news...


नोटबंदी के खिलाफ विरोध मार्च


    नई दिल्ली/दिनांक 24 नवम्बर 2016 को विभिन्न मजदूर संगठनों, जनवादी संगठनों एवं छात्रों ने मोदी सरकार के नोटबन्दी के खिलाफ मण्डी हाउस से जन्तर-मन्तर तक विरोध मार्च किया तथा जन्तर-मन्तर पर जोरदार प्रदर्शन किया। इस विरोध मार्च एवं प्रदर्शन में दिल्ली एवं एन.सी.आर. के मजदूरों ने शिरकत की। प्रदर्शन में शामिल संगठनों के प्रतिनिधियों ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले की घोर निन्दा की ए...

Read full news...


नोटबंदी से मजदूरों पर चली छंटनी और ब्रेक की तलवार


    पांच सौ और हजार के नोटबंदी करने के सरकार के फैसले ने मजदूरों के सामने आर्थिक कर्फ्यू जैसी स्थिति पैदा कर दी है। केन्द्र सरकार के इस फैसले ने मजदूरों का रोजगार छीन लिया है। बाजार में मांग कम होने से उद्योगों को भी ऑर्डर नहीं मिल रहे हैं। जो उद्योग पहले से ही रेंग-रेंगकर चल रहे थे उन उद्योगों के मालिकों को इस नोटबन्दी से मजदूरों की छंटनी करने का अच्छा बहाना मिल गया है। इस नयी स्...

Read full news...


ऑटो रिक्शा टैम्पो चालकों का पांचवा सम्मेलन सम्पन्न


    ऑटो रिक्शा टैम्पो चालकों का पांचवां सम्मेलन 18 दिसम्बर रविवार को सम्पन्न हो गया। सम्मेलन की शुरुआत क्रांतिकारी गीत ‘ये सन्नाटा तोड़ के आ, सारे बन्धन छोड़ के आ’ से हुई। सम्मेलन में बरेली ट्रेड यूनियन फैडरेशन के घटक संगठन प्रगतिशील सांस्कृतिक मंच द्वारा यह क्रांतिकारी गीत प्रस्तुत किया गया। बरेली ट्रेड यूनियन फैडरेशन के महामंत्री संजीव मेहरोत्रा ने बताया कि सरकार के अचा...

Read full news...


अक्टूबर क्रांति पर सेमिनार


    18 दिसम्बर को अक्टूबर क्रांति शताब्दी वर्ष समारोह समिति (घटक संगठन- इंकलाबी मजदूर केन्द्र, परिवर्तनकामी छात्र संगठन, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र) तथा जन संघर्ष मंच (हरियाणा) द्वारा संयुक्त रूप से 1917 की अक्टूबर क्रांति के जारी शताब्दी वर्ष पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार का विषय ‘अक्टूबर क्रांति : सबक और प्रासंगिकता’ था। सेमिनार में अक्टूबर क्रांति शताब्दी वर्...

Read full news...


उत्तराखण्ड में उपनल कर्मचारी फिर से हड़ताल पर


    उत्तराखण्ड में हजारों की संख्या में सरकारी विभागों में संविदा पर कार्यरत कर्मचारी स्थाई किये जाने की मांग को लेकर एक बार फिर से हड़ताल पर हैं। इससे पूर्व कुछ माह पहले ही ये हड़ताल पर गये थे तब हुए समझौते के तहत तय हुआ था कि उपनल कर्मचारियों को विभागीय संविदा पर रखा जायेगा। तय हुआ था कि जिन रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू न हुई हो, उनमें उपनल वालों को प्राथमिकता में रखा जायेे...

Read full news...


नोटबंदी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन


फरीदाबाद/ मोदी सरकार द्वारा काले धन पर हमले के नाम पर की गयी नोटबंदी की घोषणा के बाद देश में अराजक स्थिति कायम हो गयी है। दिहाड़ी मजदूर पलायन को मजबूर हैं और किसानों की बुवाई खतरे में पड़ चुकी है। दर्जनों लोगों की मौत हो चुकी है। छोटे दुकानदार फड़ खोमचे वाले सभी बेहाल हैं। जबकि काले धन के असली खिलाड़ी - गौतम अदाणी, मुकेश अंबानी, टाटा सरीखे इजारेदार पूंजीपति -पूरी तरह से सरकार के साथ खड़े है...

Read full news...


नोटबंदी से बागान मजदूरों में हाहाकार


    केन्द्र सरकार के नोटबंदी के फैसले ने चाय बागान के मजदूरों के लिए भाीषण समस्या पैदा कर दी है। नोटबंदी की घोषणा के बाद से मजदूरों को मिलने वाली साप्ताहिक मजदूरी अधिकांशतः बंद है। सरकार ने चाय उगाने वाले राज्यों को 5 दिसंबर तक सभी मजदूरों के खाते खोलने का निर्देश दिया है ताकि 10 दिसम्बर तक बागान प्रशासन सभी मजदूरों की मजदूरी इलैक्ट्रानिक माध्यम से स्थानांतरित कर सके, लेकिन इतन...

Read full news...


पायन प्रिसीजन कम्पोनेन्ट के मजदूर भूख हड़ताल पर


    फरीदाबाद, हरियाणा पायन प्रीसीजन कम्पोनेन्ट, प्लाट न.- 330, सैक्टर-24 के मजदूर 18 नवम्बर 2016 से निकाले गये मजदूर साथियों की कार्यबहाली को लेकर उपश्रमायुक्त के कार्यालय के सामने भूख हड़ताल पर बैठे हैं। कम्पनी ने दिनांक 25 अप्रैल 2016 को अनुशासन के उल्लंघन का आरोप लगाकर पांच मजदूरों जगवीर सिंह, अखिलेश कुमार, वीरेन्द्र सिंह, सुन्दर सिंह तथा चन्द्रपाल को काम से निष्कासित कर दिया है। 

&...

Read full news...


एन.एच.एम. कर्मचारियों की हड़ताल सरकार के आश्वासन के साथ समाप्त


    साल 2005 से शुरू हुए नेशनल रूलर मिशन, के नाम से एक प्रोजेक्ट जो कि केन्द्र सरकार का प्रोजेक्ट है। सन 2012 में इसका नाम बदलकर नेशनल हेल्थ मिशन (एन.एच.एम.) रख दिया गया। उस समय इसके तहत लगभग 14 हजार कर्मचारी कार्यरत थे। उस समय 75 फीसदी बजट केन्द्र सरकार देती थी और 25 फीसदी राज्य सरकार देती थी। सत्र 2014-15 में हरियाणा को 476 करोड़ रुपये का बजट केन्द्र सरकार की तरफ से दिया गया। इससे पहले ये बजट 500 से 550 कर...

Read full news...


मेहर आलम का गुजरना.........


    कुछ रोज पहले मेहर आलम गुजर गये। अभी उनकी उम्र कुछ भी नहीं थी महज तीस साल के करीब। इतनी कम उम्र में उनका इस तरह से चले जाना उन सब को दुखी कर गया जो उनसे परिचित थे। 

    मेहर आलम लम्बे समय तक परिवर्तनकामी छात्र संगठन के सदस्य रहे थे। वे बेहद जिज्ञासु प्रवृत्ति के थे। उनके पास हमेशा देश-दुनिया के बारे में दर्जनों सवाल होते थे। उनका दिमाग लगातार इन सवालों से जूझता रहता था...

Read full news...


अक्टूबर क्रांति की सौंवी वर्षगांठ पर सेमिनार


    रुद्रपुर/ अक्टूबर क्रांति की सौंवी वर्षगांठ पर रुद्रपुर में एक सेमिनार आयोजित किया गया। अक्टूबर क्रांति शताब्दी समारोह समिति के तत्वाधान में यह सेमिनार महाराजा पैलेस में किया गया। इस सेमिनार का विषय ‘‘संकटग्रस्त पूंजीवाद विकल्प सिर्फ और सिर्फ समाजवाद’’ था। सेमिनार की अध्यक्षता क्रालोस के अध्यक्ष पी.पी.आर्या, शिव देव सिंह, प्रमएके की अध्यक्ष शीला शर्मा व म...

Read full news...


साहिबाबाद गारमेंट फक्ट्री मेें आग से 13 मजदूरों की मौत


    दिल्ली के बगल में साहिबाबाद स्थित एक अवैध गारमेंट फैक्टरी में 11 नवम्बर को तड़के आग लग गयी। आग लगने के पश्चात वहां सो रहे मजदूरों में से 13 की मौत हो गयी व ढेरों अन्य घायल हो गये। फैक्टरी में चमड़े का काम होता था, पर इसके बावजूद कोई सुरक्षा उपाय यहां नहीं थे। यहां चमडे़ की जैकेट बनाने का काम होता था। तीन मंजिला इस फैक्टरी में निकलने का रास्ता बंद होने के चलते म...

Read full news...


जे.एन.यू. छात्र नजीब अहमद की घटना एक संघी षड्यंत्र


    शहर बदायूं के रहने वाले छात्र नजीब अहमद के साथ हुयी घटना ने एक बार फिर जे.एन.यू. को देश, समाज व मीडिया में चर्चा में ला दिया। जब से इस नामचीन विश्वविद्यालय पर संघी साया मंडराया है तब से यह विवादों से घिरा हुआ है। इसका विवादों से घिरा होना अनायास ही नहीं है। जे.एन.यू. जनवादी, प्रगतिशील व खुले विचारों के लिए जाना जाता था पर संघी सरकार व उसके लगुवे भगुवे सारे देश को भगवा रंग में रंगने ...

Read full news...


एम.एम. पब्लिक स्कूल के कर्मचारी संघर्षरत


शोषण उत्पीड़न व अवैध निष्कासन के खिलाफ


    दिल्ली, एम.एम. पब्लिक स्कूल के 17 कर्मचारी स्कूल मालिक द्वारा बगैर नोटिस के नौकरी से निकाले जाने के खिलाफ संघर्षरत हैं। एम.एम. पब्लिक स्कूल दिल्ली के पीतमपुरा इलाके के वसुधा एंक्लेव में स्थित है। एक वर्ष पूर्व जब यहां स्कूल मालिक द्वारा कर्मचारियों को एक सादे कागज पर हस्ताक्षर करने को कहा गया तो कर्मचारियों द्वारा विरोध किया गया। विरोध करने वाले 17 कर्मचारियों को मालिक द्वार...

Read full news...


प्रिकाल की महिला मजदूर की दुष्कर्म व हत्या : जनता संघर्षरत


    रुद्रपुर, सिडकुल के प्रिकाल लि. में संविदा पर काम करने वाली 20 वर्षीय महिला का सेक्टर 12 के नाले में (प्रिकाल कम्पनी के पीछे) नग्न अवस्था में शव फेंक दिया गया। इस घटना से सिडकुल एवं शहर में कामकाजी महिलाओं में दहशत है। कई दिन गुजर जाने के पश्चात भी पुलिस अपराधियों को नहीं पकड़ सकी है।

    सरिता प्रिकाल लि. में मध्य अगस्त के आस-पास काम पर लगी; जब प्रिकाल के 150 मजदूर अपनी कार्यब...

Read full news...


गफूर-ढोलक बस्ती कल्याण समिति, हल्द्वानी का पुनर्वास आंदोलन


    हल्द्वानी में रेलवे पटरी के समीप गफूर बस्ती व ढोलक बस्ती दो बस्तियां हैं जो 1995 से यहां रह रही है। 

    पहली ढोलक बस्ती में 200 मुस्लिम परिवार हैं। इनका जीवन निर्वाह ढोलक बनाना व कूडा-पॉलीथिन व कबाडा बीनकर बेचना हैं बस्ती में प्लास्टिक की झोंपड़ियां बनी हैं। सोने के लिए एक या दो लकड़ी के तख्ते हैं। या फिर ढेरों घरों में लोग नीचे सोने को मजबूर हैं। खाना बनाते समय पूरे घर मे...

Read full news...


श्री सीमेन्ट लि. के मजदूरों का अनिश्चितकालीन धरना व अनशन


    हरिद्वार के समीप श्री सीमेन्ट लि. लक्सर के मजदूरों ने फैक्टरी से 500 मी. दूरी पर अपनी 25 सूत्रीय मांगों के लिए अनिश्चितकालीन धरना दे रखा है। 16 अक्टूबर से धरना शुरू हो गया है। 20 अक्टूबर को पांच मजदूर आमरण अनशन पर बैठ गये। 

    एक समझौता 19 सितम्बर 15 को श्रमिकों व प्रबंधकों के मध्य हुआ था परन्तु अभी तक प्रबंधक वर्ग ने 19 सितम्बर 2015 का समझौता लागू नहीं किया जिसमें श्रमिकों में ग...

Read full news...


दो निष्कासित मजदूरों की संघर्ष के दम पर कार्यबहाली


महिन्द्रा सी.आई.ई.


    ऊधमसिंह नगर उत्तराखण्ड में स्थित महिन्द्रा सी.आई.ई के दो प्लांटों पंतनगर व लालपुर में क्रमश हेम चन्द्र व शत्रुघ्न को कम्पनी प्रबंधन ने बेबुनियाद आरोप लगाकर कम्पनी से बाहर का रास्ता दिखा दिया या इसके विरोध में सहायक श्रम आयुक्त कार्यालय रुद्रपुर में 31 अगस्त 2016 से धरना प्रदर्शन आदि किया गया, 6 अक्टूबर 2016 को दोनों मजदूरों को काम पर वापस रखवाने के संघर्ष में मजदूर सफल हुये।    ...

Read full news...


जुझारू संघर्ष के दम पर कार्यबहाली का समझौता


20 दिन आमरण अनशन पर बैठे प्रिकाल के बहादुर मजदूर


    रुद्रपुर, प्रिकाल लि. के संघर्षरत मजदूरों ने लगभग 2 माह के अपने शानदार एवं जुझारू संघर्ष की बदौलत 4 अक्टूबर को प्रिकाल प्रबंधन को झुकने को मजबूर कर दिया। शासन-प्रशासन के लिए सिर दर्द पैदा करने वाले प्रिकाल के आंदोलन ने जिला प्रशासन को भी इस बार मजबूर कर दिया कि अड़ियल रुख अपना रहे प्रबंधन को प्रशासन ने डंडे के बल पर समझौता करने को विवश किया।     एस.डी.एम. रुद्रपुर के निर्देशानु...

Read full news...


मजदूरों की कार्यबहाली के लिए आमरण अनशन


यू.एन.ओ. मिण्डा


    रुद्रपुर, विगत कई महीनों से यू.एन.ओ. मिण्डा के मजदूर 26 मजदूरों की कार्यबहाली के लिए संघर्षरत हैं। इसी क्रम में वे 22 अगस्त से हड़ताल पर हैं। पिछले कई महीनों से प्रबंधन के साथ वार्ताएं भी नहीं हो रही हैं। 27 सितम्बर से पहले ये लोग सिडकुल चौक पर डेल्टा के मजदूरों के साथ धरनारत थे। सिडकुल की विभिन्न ट्रेड यूनियनों के द्वारा समझाने के बाद 27 सितम्बर से मिंडा के मजदूर ए एल सी कार्यालय पर ...

Read full news...


बैलसोनिका आंदोलन: घटनाक्रम व सबक


    विगत दो सालों के संघर्ष के बाद बैलसोनिका आॅटो कम्पोनेन्ट के मजदूरों को आज के दौर के मुताबिक अंततः सफलता मिली। यूनियन गतिविधियों के कारण निकाले गये 54 स्थाई मजदूरों, 32 ट्रेनी मजदूरों को स्थायी नौकरी के साथ पूर्ण पिछले वेतन (फुल बैक वेजेज) पर काम पर वापिस लिया गया वहीं इस दौरान निकाले गये 60 ठेका मजदूरों में से 25 को काम पर वापिस लिया गया तथा बाकी को पद रिक्त होने पर या नई भर्ती में क...

Read full news...


प्रतिरोध के मीडिया को आगे बढ़ाने की जरूरत


‘मीडिया और जातिवाद’ विषय पर सेमिनार


हल्द्वानी/ 28 सितम्बर शहीद भगत सिंह के जन्मदिवस पर ‘नागरिक’ हिन्दी पाक्षिक अखबार द्वारा ‘मीडिया और जातिवाद’ विषय पर एक सेमिनार नगर निगम हाॅल में आयोजित किया गया। सेमिनार में सेमिनार पत्र पर बात रखते हुए ‘नागरिक’ के सम्पादक नगेन्द्र ने कहा कि भारत में जाति व्यवस्था की जकड़न आज भी मौजूद है। जाति व्यवस्था के तहत ब्राह्मणवादी विचारों के खिलाफ प्रतिरोध अलग-अलग रूपों में लम्ब...

Read full news...


बंशी नगला (बरेली) में मेडिकल कैम्प


 बरेली शहर में सिटी रेलवे स्टेशन के पीछे काफी बड़े इलाके में बंशी नगला व नई बस्ती मुहल्ला बसा हुआ है। यह मुहल्ला जबसे बसा हुआ है तभी से शहर के जन प्रतिनिधियों व नगर निगम की उपेक्षा का शिकार रहा है। जैसा कि आम तौर पर पूंजीवादी व्यवस्था द्वारा गरीबों/मेहनतकशों को उपेक्षित किया जाता है यह भी उसी की बानगी भर है। कच्ची गलियां, बजबजाती नालियां, जल भराव और सड़ते हुए कूढ़े के ढेरों से उठती बदब...

Read full news...


रिचा के मजदूर फिर आंदोलन को मजबूर


अध्यक्ष, महासचिव पर हमले के विरोध में एक दिवसीय हड़ताल


 लम्बे धरने, 40 दिन की हड़ताल 4 दिन के आमरण अनशन के बाद 27 जून 16 को त्रिपक्षीय वार्ता में रिचा प्रबंधन व यूनियन के बीच समझौता सम्पन्न हुआ था। जिसके तहत काम से निकाले गये मजदूरों को 8 माह तक दूसरी जगह पर स्थानान्तरण स्वीकारने पर काम पर वापस लिया गया। आंदोलन के भारी दबाव के चलते प्रबंधन समझौते को मजबूर हुआ था। 3 मजदूरों को फरीदाबाद में तथा 3 मजदूरों को बिहार ट्रांसफर कर दिया गया।         ...

Read full news...


प्रिकोल के आमरण अनशनकारियों पर टूटा पुलिस का कहर


दमन के पश्चात भी मजदूर डटे हैं संघर्ष पर


रुद्रपुर/ प्रिकोल लि. के मजदूरों का संघर्ष जारी है। पुलिस द्वारा अनशनकारियों सहित बाकी मजदूरों पर भयंकर लाठीचार्ज करने, महिलाओं के कपड़े फाड़ने व बदतमीजी करने के बावजूद संघर्षरत मजदूरों के हौंसले टूटे नहीं। दमन पश्चात मजदूर पुनः संघर्ष को तेज करने की राह पर हैं। 

    ज्ञात रहे कि प्रिकॉल के 150 ठेका मजदूरों की जो 7-8 सालों से कम्पनी में मशीनों पर काम कर रहे थे, 8 अगस्त को कम्पनी ...

Read full news...


आंगनबाड़ी कर्मचारियों का धरना प्रदर्शन


    9 अगस्त 2016 से आंगनबाडी कर्मचारी सहारनपुर जिले मे अपने वेतनमान व अवकाश व अन्य मांगों को लेकर धरने पर बैठी हैं, उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार के समक्ष 01 मई 2012 को चार बाग रेलवे स्टेशन लखनऊ में आयोजित विशाल रैली में जिसमें प्रदेश भर से आंगनबाड़ी कर्मचारियों ने हिस्सा लिया था इसमें इन्हांने अपनी 17 सूत्रीय मांग पत्र भी प्रस्तुत किया था, जिस पर मुख्यमंत्री जी ने चरणबद्ध तरीके से इनकी म...

Read full news...


देश भर में मजदूर वर्ग ने भरी हुंकार


2 सितम्बर की आम हड़ताल


    केन्द्रीय ट्रेड यूनियन सेण्टरों द्वारा आहूत 2 सितम्बर की देश व्यापी हड़ताल में पूरे देश में मजदूरों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सेदारी की। पूंजीवादी-सुधारवादी सेण्टरों द्वारा हड़ताल को रस्मी बनाने के प्रयासों के उलट मजदूरों की व्यापक भागीदारी ने उनके इस जज्बे को दिखलाया कि मजदूर वर्ग अब एक दिन की हड़ताल से आगे बढ़ना चाहता है। 

    जहां केरल, त्रिपुरा, तमिलनाडु, कर्नाटक में हड़ता...

Read full news...


ताइवान में पेंशन सुधारों का विरोध


    ताइवान में 3 सितम्बर को पेंशन सुधारों के विरोध में 1 लाख सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारी सड़कों पर उतरे। वे राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन द्वारा पेंशन में किये जा रहे सुधारों के खिलाफ हैं। त्साई के मई में राष्ट्रपति चुने जाने के बाद का यह सबसे बड़ा प्रदर्शन है। इसके साथ ही उनकी लोकप्रियता में भी गिरावट आयी है। 

    2008 के आर्थिक संकट के बाद से हो यह रहा है कि मजदूर वर्ग को मिलन...

Read full news...


अमेरिका में कैदियों की हड़ताल


    अमेरिका के कई राज्यों में कैदी हड़ताल पर हैं। यह हड़ताल कैदियों द्वारा अपने द्वारा किये जा रहे काम के एवज में बहुत कम वेतन का मिलना व रहने, खाने व साफ-सफाई की उचित व्यवस्था न होने के एवज में की जा रही है। इसका मुख्य केन्द्र अलबामा है। इण्डस्ट्रियल वर्कर्स ऑफ वर्ल्ड के बैनर तले बनी कमेटी इनकारकेरेटेड वर्कर्स ऑर्गनाइजिंग कमेटी द्वारा अप्रैल में इस तरह की हड़ताल की तैयारी शुरू कर ...

Read full news...


बांग्लादेश की पैकेजिंग फैक्टरी में आग लगने से 23 मजदूरों की मौत


    बांग्लादेश की राजधानी ढाका के बाहरी इलाके टोंगी इण्डस्ट्रियल इलाके में स्थित टैम्पेको फोइल्स फैक्टरी में 10 सितम्बर को आग लगने से 23 मजदूरों की मौत हो गयी। इसके बाद दर्जनों मजदूर गम्भीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। यह आग फैक्टरी में बॉयलर के फटने के बाद लगी। यह कम्पनी बहुराष्ट्रीय कम्पनी नेस्ले व ब्रिटिश-अमेरिकन टोबेको कम्पनी के लिए माल बनाती है। 

    बांग्ला...

Read full news...


सुप्रीम कोर्ट का मारुति मजदूरों के खिलाफ फैसला


    पिछले दिनों देश की सर्वोच्च अदालत ने हरियाणा सरकार की एक अपील पर निर्णय देते हुए मारुति मजदूरों के खिलाफ एक निर्णय दिया। 

    18 जुलाई 2012 को मारुति के मानेसर प्लाण्ट में मैनेजमेण्ट व मजदूरों के बीच झड़प के दौरान आग लगने से जनरल मैनेजर अविनाश देव की मृत्यु हो गयी थी। अविनाश देव की हत्या का आरोप संघर्षरत डेढ़ सौ मजदूरों को बना कर जेल में ठूंस दिया गया। साथ ही प्रबंधन ने क...

Read full news...


‘मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान’ द्वारा मजदूर कन्वेंशन


    दिल्ली/ देश की संघर्षशील मजदूर यूनियनों के साझे अभियान के अंतर्गत 28 अगस्त को स्थानीय अंबेडकर भवन में एक मजदूर कन्वेंशन आयोजित किया गया। इस कन्वेंशन में देश के 20 राज्यों से 14 यूनियनों के कार्यकर्ताओं ने भागीदारी की।

    कन्वेंशन की शुरूआत देश दुनिया में मजदूर वर्ग के हितों के लिए संघर्ष में शहीद हुए साथियों को 2 मिनट का मौन रखने के साथ हुई।

    इसके बाद ‘मजद...

Read full news...


प्रिकोल के ठेका मजदूरों का कार्यबहाली हेतु धरना प्रदर्शन जारी


    अगस्त से प्रिकोल लि. के 150 ठेका मजदूरों की कम्पनी ने गेटबंदी कर दी जिसमें करीब 45-50 महिला मजदूर भी हैं। मजदूर अपनी कार्यबहाली की मांग हेतु सहायक श्रमायुक्त महोदय रुद्रपुर के कार्यालय पर धरने पर बैठे हैं। जिला प्रशासन द्वारा मजदूरों व मैनेजमेण्ट के बीच करायी गयी वार्ताएं बेनतीजा रही हैं। 

    प्रिकोल लि. पंतनगर सिडकुल के सेक्टर 11, प्लाॅट न. 45 में स्थित है। मालिक का दूस...

Read full news...


गंदगी और बीमारी से जूझते मजदूर


    हरिद्वार, सिडकुल से सटी बस्तियां जिनमें रावली महदूद, सलेमपुर, रोशनाबाद, ब्रह्मपुरी आदि हैं। इन बस्तियों में सिडकुल में काम करने वाली आबादी अधिक संख्या में रहती है। मजदूरों का फैक्टरियों में शोषण उत्पीड़न के बाद अपने रहने के स्थानों पर भी अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ता है। मजदूरों को बस्तियों में सामान्य मौसम में तो गंदगी का सामना करना ही पड़ता है, लेकिन बरसात शुरू होते ह...

Read full news...


मिंडा यू.एन.ओ. के मजदूर हड़ताल पर


    रुद्रपुर/ 22 अगस्त 2016 से मिण्डा के मजदूर अपने साथियों के अवैध निलम्बन एवं निष्कासन के खिलाफ हड़ताल पर चले गये। मिण्डा यू.एन.ओ. के मजदूर सिडकुल चैक पर धरने पर बैठे हैं। 26 मजदूर साथियों की कार्यबहाली हेतु 103 मजदूर भी हड़ताल पर आ गये। फैक्टरी में अभी करीब 10-15 स्थाई मजदूर एवं 30-35 ठेके के मजदूर काम कर रहे हैं। मिण्डा यू.एन.ओ. फैक्टरी में बैटरी का उत्पादन होता है। 

    ज्ञात रहे 2015 की ...

Read full news...


डेल्टा पावर सोल्यूशन के मजदूर हड़ताल पर


यूनियन बनाने के प्रयास में 4 मजदूर निष्कासित


    रुद्रपुर (पंतनगर) सिडकुल के सेक्टर-5, प्लांट न.-35 में स्थापित डेल्टा पावर सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड के मजदूर अपने चार नेताओं को प्रबंधन द्वारा बगैर किसी कानूनी प्रक्रिया अपनाये निष्कासित किये जाने के खिलाफ 19 अगस्त से हड़ताल पर हैं। मजदूर सिडकुल चैक (ब्रिटानिया चैक) पर धरने पर बैठे हैं और अपने नेताओं की कार्यबहाली की मांग कर रहे हैं। श्रम विभाग में चली त्रिपक्षीय वार्ताओं में ...

Read full news...


प्लाईवुड फैक्टरी में आग लगने से 1 मजदूर की मौत


    उत्तराखण्ड में नैनीताल जिले के रामनगर कस्बे में दिनांक 8 अगस्त को राज प्लाईवुड फैक्टरी में बाॅयलर फटने से 1 मजदूर (पूरन आर्या, उम्र 27-28 वर्ष) की मौत हो गयी तथा दो अन्य मजदूर घायल हो गये। घायलों में एक मजदूर जसपाल पुत्र श्री गोविन्द सिंह चौहान की दांये पैर की जांघ की हड्डी टूट गयी तथा चेहरे व शरीर पर भाप से जल गया। इनका इलाज शहर के ही एक निजी अस्पताल में चल रहा है। इस फैक्टरी में 10-150 ...

Read full news...


बैलसोनिका मजदूरों की जीत पर चुनौतियां जारी हैं


    आई.एम.टी. मानेसर गुड़गांव में स्थित बैलसोनिका आटो कम्पोनेन्ट इण्डिया लिमिटेड जो कि मारूति कि ज्वाइन्ट वेन्डर कम्पनी है। इस कम्पनी में पिछले दो साल से यूनियन बनाने के कारण लगभग 150 मजदूरों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था, जिसमें 54 स्थायी श्रमिक तथा 60 अस्थायी श्रमिक थे, पिछले दो साल से मजदूर टेªड यूनियन संघर्ष में लगे हुए थे, कम्पनी के अन्दर लगभग 100 मजदूर कार्य करते हैं। संस्था...

Read full news...


दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप


    मालधन शिवनाथपुरी न. 2 रामनगर में मुरादाबाद में तैनात एक होमगार्ड का परिवार रहता है। 23 जुलाई 2016 को रात्रि 2 बजे 10 से 12 लोगों ने इस घर में डकैती डालने के साथ होमगार्ड की बड़ी एवं छोटी दोनों बहनों के साथ चाकू की नोंक पर दुष्कर्म किया। उन्होंने घर वालो के मोबाइल फोन छीन मां और नानी के सामने ही दोनों बेटियों के साथ दुष्कर्म किया। होमगार्ड अपनी ड्यूटी पर था। ये दलित परिवार बेहद गरीबी और ...

Read full news...


ई.एस.आई. निगम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन


ई.एस.आई. निगम की कुव्यवस्था के खिलाफ दिनांक 1/7/2016 से दोनों ई.एस.आई अस्पतालों और विभिन्न डिस्पेन्सरियों में इंकलाबी मजदूर केन्द्र, मजदूर मोर्चा एवं वीनस इंडस्ट्रीयल काॅरपोरेशन वर्कर्स यूनियन तीनों की संयुक्त पहल से अभियान चल रहा है जिसमें मजदूरों से सम्पर्क कर अपने न्यायिक संघर्षों को सामूहिक तौर पर लड़ने के लिये जागरुक किया जा रहा है, ‘ई.एस.आई. निगम की व्यवस्था सुधारने के लिय एकजुट...

Read full news...


‘उपनल’ के बाद ‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन’ के संविदा कर्मचारी संघर्षरत


    देश में 1991 से जारी उदारीकरण, वैश्वीकरण, निजीकरण की मार से उत्तराखण्ड के कामगार भी अछूते नहीं हैं। इन नीतियों के तहत चारों ओर सरकारी हों या निजी सभी विभागों में स्थाई रोजगार की जगह ठेके-संविदा का बोलबाला हो चुका है। उत्तराखण्ड के ‘उपनल’ कर्मचारियों से लेकर ‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन’ के संविदा कर्मचारी अपनी स्थाई नौकरी की मांग के लिए संघर्षरत हैं। 

    उपनल (...

Read full news...


गुजरात में दलित उत्पीड़न और प्रतिरोध


तथ्यान्वेषी टीम की रिपोर्ट


(हाल में गुजरात में हुई दलित उत्पीड़न की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया। उना तालुका के एक गांव मोटा समढियाला में घटित इस घटना को जानने के लिए एक तथ्यान्वेषी टीम वहां गई। तथ्यान्वेषी टीम में इंकलाबी मजदूर केन्द्र, क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन व परिवर्तनकामी छात्र संगठन के कार्यकर्ता शामिल थे। तथ्यान्वेषी टीम द्वारा पाड़ित दलितों व उनके गांव के विभिन्न समुदायों के लो...

Read full news...


ठेका मजदूरों का संघर्ष और पूंजीवादी पार्टियां


    पंतनगर/ अभी जून-जुलाई माह 2016 में पूंजीवादी चुनावबाज पार्टियों के पक्ष-विपक्ष के स्थापित नेताओं द्वारा पंतनगर विश्व विद्यालय में लम्बे समय से नारकीय जीवन जी रहे ठेका मजदूरों की समस्याओं को उठाने में होड़ सी मच गयी थी। जिसमें 10 जुलाई को पंतनगर बड़ी मार्केट में भाजपा नेता क्षेत्रीय विधायक द्वारा आंशिक धरना दिया गया, जिसमें भगत सिंह कोश्यारी जैसे बड़े नेताओं के बीच कांग्रेस सरका...

Read full news...


सरकारी बेरुखी के शिकार बस्तडी गांव के ग्रामीण


बस्तडी आपदा रिपोर्ट


(उत्तराखण्ड राज्य के पिथौरागढ़ जिले में डीडीहाट तहसील के अंतर्गत आने वाले गांव बस्तडी में 1 जुलाई को सुबह बादल फटने से आयी तबाही के बाद 19 जुलाई को नागरिक की टीम ने वहां दौरा किया। दौरे के बाद की वहां की परिस्थितियों के सम्बन्ध में एक रिपोर्ट यहां प्रकाशित की जा रही है जो तबाही के बाद शासन-प्रशासन व सरकार की आम जनता के प्रति संवेदनहीनता को दिखाती है।)

    बस्तडी गांव पिथौरा...

Read full news...


बैलसोनिका केे मजदूर संघर्ष की ओर


    आई.एम.टी. मानेसर, गुड़गांव में स्थित बैलसोनिका आॅटो कम्पोनेन्ट इण्डिया इम्प्लाईज यूनियन के मजदूर पिछले दो साल से यूनियन की लड़ाई लड़ रहे हैं। इस लड़ाई के चलते कम्पनी प्रबंधन ने 150 मजदूरों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। यूनियन पिछले 2 साल से कानूनी लड़ाई लड़ रही थी। और कानूनी लड़ाई से जीत हासिल होने के बावजूद भी कम्पनी प्रबंधन मजदूरों को काम पर वापिस लेने के लिए तैयार नहीं है। दूसरी ओर श...

Read full news...


न्याय के लिए दर-दर भटकती महिलायें


    हमारे इस पूंजीवादी समाज में महिलाओं के सशक्तिकरण की बड़ी-बड़ी बातें तो बहुत की जाती हैं और, कुछ महिलाओं के लिए हो भी रहा है लेकिन इस पुरुष प्रधान मानसिकता वाले समाज में महिलाओं की अधिकांश आबादी (जो मजदूर मेहनतकश महिलाएं हैं) को अपना अपमान सहकर भी चुपचाप अपमान करने वालों के साथ मजबूरी में रहना पड़ता है और अगर वे संघर्ष करना चाहती भी हैं तो उन्हें बदनामी झेलनी पड़ती है। इसके कई उदाह...

Read full news...


ई.एस.आई. अस्पतालों में मरीजों की हालत


    फरीदाबाद औद्योगिक क्षेत्र में ई.एस.आई. के दो अस्पताल हैं। एक ई.एस.आई. निगम के द्वारा चलाया जाता है और दूसरा हरियाणा सरकार द्वारा। हालांकि दोनों में ही द्वारा खर्च की जाने वाली राशि का अनुपात 8:2 का है। ई.एम.आई. निगम जहां 8 रुपये खर्च करती है। वहीं हरियाणा सरकार 2 रुपये ही खर्चा करती है। 

    फरीदाबाद में 6 लाख बीमा धारक(प् च्)जिनसे सालाना 400 करोड़ रुपये वसूला जा रहा है। परन्त...

Read full news...


एल.जी. के मजदूर संघर्ष की राह पर


    ग्रेटर नोएडा (गौतम बुद्ध नगर, उ.प्र.) प्रबंधन द्वारा मजदूरों की एकता तोड़ने व यूनियन गठन की प्रक्रिया को खत्म करने की नीयत से 11 नेतृत्वकारी मजदूरों के देश में विभिन्न स्थानों पर स्थानांतरण का विरोध एवं वेतन वृद्धि सहित अन्य मांगों को लेकर एल.जी. इलेक्ट्रोनिक्स प्रा.लि. के मजदूर संघर्षरत हैं। 

    सोमवार 11 जुलाई को मजदूरों को जैसे ही अपने 11 नेतृत्वकारी साथियों के स्था...

Read full news...


रिचा मजदूर आन्दोलन के कुछ सबक


    काशीपुर (उत्तराखण्ड) स्थित रिचा इण्डस्ट्रीज की स्थापना 2006 में हुई थी। इस फैक्टरी में बिल्डिंगों-पुलों आदि के निर्माण सम्बन्धी सामग्री बनती हैैै। कम्पनी के मालिकों की इसके अलावा फरीदाबाद में भी एक अन्य उत्पादक इकाई है। काशीपुर स्थित फैक्टरी में मजदूरों ने अंततः 9 माह लम्बे संघर्ष के पश्चात आंशिक सफलता हासिल की। इस संघर्ष का संक्षिप्त विवरण व उससे निकलने वाले सबकों को यहां...

Read full news...


मानसी हत्याकांड में सी.बी.सी.आई.डी. जांच की घीमी प्रक्रिया


धमकी मामले में दो माह बाद एफ.आई.आर.


    कोटद्वार (उत्तराखण्ड) में 29 फरवरी 2016 को मानसी हत्याकाण्ड के विरोध में जनाधिकार संघर्ष समिति के बैनर तले लगातार संघर्ष चलाया गया। 16 मई 2016 को इस सम्बन्ध में एक धरना प्रदर्शन भी किया गया था व एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के लिए भेजा गया था। 

    जिसके कुछ दिन बाद अखबारों के माध्यम से सी.बी.सी.आई.डी. जांच करवाये जाने की बात सामने आयी थी। स्वास्थ्य मंत्री व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के ...

Read full news...


मजदूरों की हड़ताल आंशिक सफलता के साथ साथ समाप्त....


रिचा इण्डस्ट्रीज


    रिचा इण्डस्ट्रीज के मजदूर अपनी 39 दिन की हड़ताल (जिसमें 4 दिन आमरण अनशन भी शामिल है) के बाद 6 बर्खास्त श्रमिकों को पुनर्बहाल करवाने और यूनियन को मान्यता दिलवाने में सफल रहे। हालांकि बर्खास्त श्रमिकों को 8 माह दूसरी साइटों पर स्थानान्तरण पर जाना होगा। मजदूरों की इस सफलता से काशीपुर क्षेत्र की अन्य फैक्टरियों के मजदूरों को भी हौंसला मिलेगा। 

    रिचा इण्डस्ट्रीज के मज...

Read full news...


रुद्रपुर में मेडिकल कैम्प का आयोजन


    19 जून रविवार को इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा प्रोग्रेसिव मेडिकोज फोरम व सिडकुल की कुछ यूनियनों के सहयोग से मजदूर इलाके ट्रांजिट कैम्प के श्री श्री राधा कृष्ण मंदिर में एक दिवसीय मेडिकल कैम्प (चिकित्सा शिविर) का आयोजन किया। इस स्वास्थ्य शिविर में प्रोग्रेसिव मेडिकोज फोरम के डाॅक्टर साथियों ने करीब 350 मजदूरों की जांच की और दवाईयां वितरित कीं। 

    मेडिकल कैम्प के ...

Read full news...


अवैध छंटनी के खिलाफ संघर्षरत हैं जी.के बाइडिंग के मजदूर


    ग्रेटर नोएडा(गौतम बुद्ध नगर, उ.प्र.) के सूरजपुर के देवला गांव स्थित जी.के. वाइडिंग प्रा.लि. के 18 मजदूर मालिकान द्वारा घोर शोषण, उत्पीड़न एवं अवैध छंटनी के खिलाफ संघर्षरत हैं। जहां फैक्टरी के भीतर मालिक इनका घोर शोषण करने के साथ इनके साथ दबंगई से पेश आता था तथा मारपीट तक करता था वहीं फैक्टरी के बाहर पुलिस प्रशासन इनसे दबंगई से इस तरह पेश आ रहा है जैसे ये कोई पेशेवर अपराधी हों। श्रम ...

Read full news...


लंबे समय से संघर्षरत हैं शेखूपुर चीनी मिल मजदूर


    किसान सहकारी चीनी मिल शेखूपुर बदायूं के सेवानिवृत्त व सीजनल कर्मचारी पिछले 12 दिनों से मालवीय आवास गृह बदायूं पर धरना दे रहे हैं। इतनी भीषण गर्मी में मजदूर हौंसले के साथ मैदान में डटे हुए हैं। कर्मचारियों का धरना 6 जून 2016 से शुरू हुआ है। कर्मचारियों की मांगें कोई ऐसी मांगें नहीं हैं जिनको लेकर मिल प्रशासन व जिला प्रशासन को कुछ सोचना पड़े बल्कि ये कर्मचारी अपने कर चुके काम का भु...

Read full news...


अवैध छंटनी के खिलाफ गीसा डिजायन के मजदूर संघर्षरत


    नोएडा (उ.प्र.), गीसा डिजायन प्रा.लि. के 26 मजदूर कम्पनी प्रबंधन द्वारा की गयी अवैध छंटनी के खिलाफ 18 मई से संघर्षरत हैं। एक महीने से अधिक समय से मजदूर फैक्टरी गेट के पास शांतिपूर्ण धरना चला रहे हैं लेकिन शासन-प्रशासन से लेकर श्रम विभाग कोई उनका हाल जानने की कोशिश नहीं कर रहा है। 

    गीसा डिजायन प्रा.लि. बी-147, सेक्टर-6 नोएडा (उ.प्र.) में स्थित है। इस कम्पनी के मालिक पारस व शालि...

Read full news...


लंढौरा में साम्प्रदायिक दंगा भड़काने का प्रयास


    हरिद्वार जिले के रुड़की के निकट लंढौरा कस्बे में 2 जून 16 को हिन्दू-मुस्लिम दंगा भड़काया गया। इसमें 11 पुलिस के अधिकारी व सिपाही गम्भीर रूप से घायल हुए हैं। दर्जनों की संख्या में आम आदमी भी घायल हुए हैं। पूरा लंढौरा बाजार एक हफ्ते से पूर्णतया बंद है। 

    दंगे की शुरूवात एक दुकान को जबरदस्ती खाली करवाते वक्त एक धार्मिक पुस्तक के गिरने की अफवाह से हुई जो कि जांच में झूठी प...

Read full news...


रिचा इण्डस्ट्रीज में हड़ताल जारी


शासन-प्रशासन, पूंजीवादी नेता, श्रम विभाग सबके मजदूर विरोधी चेहरे उजागर


    रिचा इण्डस्ट्रीज लि. काशीपुर के मजदूर प्रबंधन शासन-प्रशासन और मौसम की मार के बावजूद हड़ताल जारी रखे हुए हैं। हड़ताल को मजदूरों की यूनियन रिचा श्रमिक संगठन तथा इंकलाबी मजदूर केन्द्र नेतृत्व दे रहे हैं। 20 मई से जारी हड़ताल शासन-प्रशासन की पक्षधरता और समाज के विभिन्न हिस्सों की पक्षधरता से रूबरू हुई, जिसने मजदूरों को पूंजीवादी व्यवस्था के असली चरित्र को समझने में भारी मदद की। ...

Read full news...


ई.एम.के. आॅटोमोबाइल के मजदूरों का संघर्ष आंशिक जीत के साथ समाप्त


    4 मजदूरों की कार्यबहाली व मांग पत्र पर ई.एम.के. सिडकुल पंतनगर के मजदूरों का संघर्ष 3 मार्च से सहायक श्रमायुक्त(ए.एल.सी.) कार्यालय रुद्रपुर पर धरना 9 जून को आंशिक जीत के साथ समाप्त हुआ। उपश्रमायुक्त हल्द्वानी की मध्यस्थता में हुयी द्विपक्षीय वार्ता में तमाम तिकडमों के साथ मैनेजमेण्ट दो मजदूरों की कार्यबहाली के लिए राजी हुआ। तीन अन्य मजदूरों की बहाली के लिए आगे वार्ता जारी रहे...

Read full news...


हैवल्स के मजदूरों का संघर्ष जारी


धरना क्रमिक अनशन में बदला


    19 मई को भारी लाठीचार्ज कर हैवेल्स कम्पनी, हरिद्वार के प्रबंधन ने सभी डेढ़ हजार मजदूरों को काम से बाहर कर दिया था। तब से ये मजदूर धरनारत थे। अभी भी उपश्रमायुक्त (।स्ब्) आॅफिस पर हैवल्स इंडिया लिमिटेड के मजदूरों का धरना जारी है। 24 मई की असफल वार्ता के बाद वार्ता की अगली तारीख 30 मई तय थी। 30 मई को निर्धारित वार्ता में मैनेजमेंट नहीं आया। कम्पनी की ओर से भेजे गये एक सुपरवाईजर ने मैनेज...

Read full news...


बंगलुरु में गारमेण्ट मजदूरों की ऐतिहासिक हड़ताल


(यह रिपोर्ट इंकलाबी मजदूर केन्द्र, परिवर्तनकामी छात्र संगठन, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र एवं मजदूर पत्रिका की संयुक्त तथ्य अन्वेषी टीम द्वारा जून के पहले सप्ताह में बंगलुरू जाकर जुटाई गई जानकारियों पर आधारित है।)

    बंगलुरु में 1200 से अधिक गारमेण्ट फैक्टरियों में 5 लाख से भी अधिक मजदूर काम करते हैं। इनमें से अधिकांश महिला मजदूर हैं, जिनकी संख्या कुल मजदूरों में 85 प्र...

Read full news...


यूनियन बनाने का संघर्ष कार्यबहाली के संघर्ष में तब्दील


मिण्डा (यू एन ओ)


    मिण्डा के मजदूर 18 मई 16 से सहायक श्रमायुक्त (ए.एल.सी.) कार्यालय रुद्रपुर ऊधमसिंह नगर उत्तराखण्ड में 18 निलम्बित मजदूरों की कार्यबहाली के लिए धरनारत हैं। पिछले साल वर्ष 2015 से ही कुछ मजदूर कम्पनी प्रबंधन से अपने हक अधिकारों को प्राप्त करने के लिए यूनियन बनाने के प्रयास कर रहे थे। यूनियन की फाइल रजिस्ट्रेशन के लिए लगाते ही प्रबंधन द्वारा नेतृत्व के मजदूरों पर दबाव डालकर इस्तीफा ल...

Read full news...


हैवल्स के मजदूर संघर्ष में उतरे


    19 मई को प्रातः उत्तराखण्ड पुलिस ने घृणित हरकत की। पुलिस ने हरिद्वार सिडकुल स्थित हैवल्स फैक्टरी में घुस कर मजदूरों को लाठी-डंडों से पीटा और कई मजदूरों को फैक्टरी परिसर से बाहर खदेड़ दिया। इसमें कई मजदूरों को गम्भीर चोटें आयी हैं। ‘मित्र’ पुलिस ने हैवल्स मैनेजमेण्ट के भाड़े के लठैतों की तरह व्यवहार कर मजदूरों के सामने अपना चरित्र उजागर किया।  

    हुआ यह कि हैवल्...

Read full news...


रिचा इंण्डस्ट्रीज के मजदूर हड़ताल पर


    रिचा श्रमिक संगठन काशीपुर के श्रमिक 25 दिसम्बर से उपजिलाधिकारी कार्यालय काशीपुर में धरना, प्रदर्शन कर रहे थे। यूनियन कम्पनी द्वारा निकाले गये अध्यक्ष, महामंत्री, कोषाध्यक्ष समेत 6 श्रमिकों को वापस लेने तथा कम्पनी में श्रम कानूनों को लागू करने की मांग कर रही है। आंदोलन के दौरान श्रमिकों की सहायक श्रमायुक्त रुद्रपुर व उपश्रमायुक्त हल्द्वानी की मध्यस्थता में कई दौर की वार्...

Read full news...


टॉलब्रास में ट्रेनी मजदूर आक्रोशित


    फरीदाबाद! टॉलब्रास में प्रबंधन के रवैये के खिलाफ ट्रेनी मजदूरों का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। यहां 20-25 आई.टी.आई. पास अप्रेन्टिस किये हुए कुशल मजदूरों को ट्रेनी के नाम पर न्यूनतम वेतन पर भर्ती किया गया और आश्वासन दिया गया कि एक साल बाद कम्पनी में स्थायी कर दिया जायेगा। लेकिन एक साल बीतने पर प्रबंधन ने उन्हें चालाकी से पुनः एक साल के लिए ट्रेनी रख लिया कि अगले साल सबको स्थायी कर दे...

Read full news...


कच्ची शराब के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन


    दिनांक 9 मई 2016 को ग्राम सभा कमसड़ी, पो. असावर, थाना करिमुद्दीनपुर जि. गाजीपुर में ग्राम सभा के इर्द-गिर्द ईंट भट्ठों पर कच्ची शराब की बिक्री बंद कराने हेतु महिलाओं का उग्र प्रदर्शन किया गया।

    उन भट्ठों पर कच्ची शराब जोर-शोर से बन रही है। उस शराब को पीने के लिए आस-पास तथा तीन-चार कि.मी. से मजदूर आते हैं क्योंकि वह शराब सस्ती यानि 10 रुपये में एक पाव मिल जाती है। सस्ती के चक्क...

Read full news...


मजदूरों-किसानों का धरना


    दिनांक 6 मई 2016 को बदायूं में किसानों, खेत मजदूरों व मिल मजदूरों की समस्याओं को लेकर एक दिवसीय धरना दिया गया तथा विभिन्न मांगों से संदर्भित एक ज्ञापन जिलाधिकारी बदायूं के माध्यम से प्रधानमंत्री, भारत सरकार को भेजा गया।

    धरने में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, खेत मजदूर यूनियन, किसान सभा, इंकलाबी मजदूर केन्द्र व चीनी मिल शेखूपुर के मजदूर साथी उपस्थित रहे।

    ध...

Read full news...


सिलेण्डर बनाने में अपना शरीर गलाते मजदूर


मौर्या उद्योग फरीदाबाद


    मौर्या उद्योग लिमिटेड, सेक्टर- 25 सोहना रोड़ फरीदाबाद में स्थित है। इसके मालिक का नाम नमनीत सुरेख है। यह फैक्टरी लगभग 30 साल पुरानी है। मौजूदा हालत में करीब 1700 मजदूर काम करते हैं जिसमें 200 महिला मजदूर भी हैं। 

    यह फैक्टरी हर प्रकार के एलपीजी सिलेण्डर बनाने का काम करती है। शुरू में एलपीजी सिलेण्डर रिपेयरिंग के काम से शुरूवात हुई थी। 5-7 सालों तक ऐसे ही चलता रहा जिसमें भी ...

Read full news...


हरिद्वार में बी.एच.ई.एल. में मान्यता चुनाव


    4 मई 2016 को बी.एच.ई.एल. हरिद्वार में मान्यता चुनाव हुआ। जिसमें विभिन्न ट्रेड यूनियनों के अलावा इंकलाबी मजदूर केन्द्र से जुड़ी भेल मजदूर ट्रेड यूनियन (बी.एम.टी.यू.) ने भी पहली बार भागीदारी की। बी.एम.टी.यू. ने मजदूरों के मध्य सवाल-जबाव के लिए विभिन्न गतिविधियां कीं। जिसमें ट्रेड यूनियन व प्रबंधक वर्ग के द्वारा मिलकर मजदूरों के हितों के खिलाफ की जा रही कटौती पर पूरे प्लाण्ट में ‘क्य...

Read full news...


जोश-ओ-खरोश से मनाया गया मई दिवस


    1 मई अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के अवसर पर ‘मई दिवस की क्रांतिकारी विरासत को आगे बढ़ाओ’ नारे के साथ विभिन्न स्थानों पर प्रभात फेरी, सभा, जुलूस, नाटक आदि कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। स्थानीय स्तर पर क्रांतिकारी, जनवादी, प्रगतिशील संगठनों व ट्रेड यूनियनों ने मिलकर कार्यक्रमों का आयोजन किया। 

    मई दिवस मजदूरों के काम के घण्टे आठ करने तथा श्रम परिस्थितियों को बे...

Read full news...


नाबालिग किरन की तलाश में दर-दर की ठोकरें खाते परिजन


    10 अप्रैल 2016 को प्रातः 10 बजे कोचिंग को घर से निकली किरन आज तक घर वापस नहीं लौटी।

    16 वर्षीय नाबालिग किरन नारायण कालोनी ट्रांजिट कैम्प रुद्रपुर की रहने वाली है और सनातन इण्टर काॅलेज में 12वीं की छात्रा है। किरन के पिता परमेश्वरी लाल सिरडी इण्टस्ट्रीज में स्थाई मजदूर के रूप में माली सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत हैं और शिरडी श्रमिक संगठन के सक्रिय सदस्य हैं। 

    ...

Read full news...


कोटद्वार में मानसी हत्याकांड के आरोपियों को बचाती स्थानीय पुलिस


    तकरीबन दो माह पहले 29 फरवरी की रात को कोटद्वार (पौढ़ी, उत्तराखंड) में लगभग 15 साल की लड़की का शव रेलवे ट्रेक के पास मिला। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक ट्रेन की चपेट में आने से शव के दोनों पैर टखनों से कटकर अलग हो गए थे जबकि बायां हाथ भी कटकर अलग हुआ था। 

    29 तारीख को यह घटना हुई थी। मानसी के परिजन 29 को ही शाम को 5 बजे पुलिस के पास गए। लेकिन पुलिस ने इस मामले में भी बेहद लाप...

Read full news...


अघोषित आपातकाल का सामना कर रहे हैं होंडा टपूकेड़ा के संघर्षरत मजदूर


    19 फरवरी की शाम को बर्बर लाठीचार्ज कर कम्पनी परिसर से खदेड़े गये 3000 होेण्डा मजदूरों पर 18 अप्रैल को एक बार फिर पुलिस ने लाठीचार्ज कर कहर बरपाया। 18 अप्रैल को होण्डा कम्पनी से कुछ दूरी पर धरना देने का कार्यक्रम जैसे ही पुलिस प्रशासन को पता चला उसने मजदूरों के घरों में जा-जाकर उन्हें धमकाना शुरू कर दिया। पुलिस-प्रशासन ने मजदूरों पर झूठे मुकदमे दर्ज कर उन्हें डराने की कोशिश की। इस स...

Read full news...


उबलते कैंपस: राज्य दमन एवं संघर्षों की एकजुटता


    शिक्षा के बाजारीकरण, भगवाकरण एवं विश्वविद्यालयों पर हो रहे फासीवादी हमलों के खिलाफ दिल्ली विश्वविद्यालय में गठित मंच ‘सेव डी.यू.’ के द्वारा 7 अप्रैल को दिल्ली विश्वविद्यालय में ‘‘उबलते कैंपस- राज्य दमन व संघर्षों की एकजुटता’’ विषय पर एक जनसभा का आयोजन किया गया। इस जनसभा में दिल्ली के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ाने वाले अध्यापकों, बुद्धिजीवियों, सामाजिक का...

Read full news...


अम्बेडकर जयन्ती को बाजार बंद कराने हेतु अभियान


    बरेली में मार्केट वर्कर्स एसोसिएशन के साथियों ने अम्बेडकर जयन्ती 14 अप्रैल को बाजार बंद कराने के लिए एक आम सभा का आयोजन किया। इसके लिए पर्चे छपवाकर बरेली शहर की दुकानों पर दुकान कर्मचारियों में पर्चे बांटे। एवं साथियों ने  कर्मचारियों से सभा में अधिक से अधिक संख्या में इकट्ठा होने का आहवान किया। साथ ही उपश्रमायुक्त के यहां ज्ञापन देने हेतु सूचनार्थ पत्र भेजा गया। फिर 7 अप...

Read full news...


ई.पी.एफ. में धांधली के खिलाफ मजदूर संघर्षरत


    ग्रेटर नोएडा गौतमबुद्ध नगर (उ.प्र.) के सूरजपुर स्थित वी.एन.एम. कम्पोनेन्ट के मजदूर विगत 5 अप्रैल से कम्पनी प्रबंधन द्वारा तीन माह की कर्मचारी भविष्य निधि (ई.पी.एफ.) की राशि जमा न करने के खिलाफ संघर्षरत हैं। मजदूरों का मार्च माह का वेतन व जनवरी के ओवरटाइम की राशि का भी भुगतान प्रबंधन द्वारा नहीं किया गया है। 

    बी.एन.एम. कंपोनेन्ट प्राइवेट लि. ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर औद...

Read full news...


सन फ्लैग अस्पताल में एस.आर.एस. ग्रुप की तानाशाही


    सन फ्लैग अस्पताल फरीदाबाद के सेक्टर-16 ए में स्थित है जिसमें हर छोटी-बड़ी सुविधाओं से लैस और बड़े स्टाफ के तहत अस्पताल को देखा जाता है। 16 दिसम्बर 1991 में श्री भारद्वाज परोपकार प्रतिष्ठान ने सूर्यकेतु चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र की नींव उस समय के हरियाणा के मुख्यमंत्री चौ.भजनलाल के द्वारा रखवाई। 26 सितम्बर 1996 के दिन अस्पताल का उदघाटन कर दिया गया। इस समय ये अस्पताल फरीदाबाद ...

Read full news...


डेल्फी टी वी एस श्रमिकों का जुझारू संघर्ष


    18 मार्च 2016 को डेल्फी टी.वी.एस. संयुक्त कर्मकार यूनियन के श्रमिकों को 91 दिन आंदोलनरत रहते हुए हो चुके थे। प्रशासन के समक्ष अनेकों वार्ताएं हुईं लेकिन प्रबंधन के मनमानेपूर्ण रवैय्ये और हठधर्मिता के कारण कोई निष्कर्ष नहीं निकला। श्रमिकों ने आंदोलन को तेज करते हुए दिनांक 19 मार्च 16 को कलेक्ट्रेट परिसर रुद्रपुर ऊधमसिंह नगर में अनिश्चितकालीन अनशन प्रबंधन केे खिलाफ शुरू कर दिया। ...

Read full news...


ई.एस.आई. निगम की व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए संघर्ष जरूरी


    मजदूरों की जेब से चलने वाले ई.एस.आई. निगम के अस्पतालों में इलाज के दौरान मजदूरों को कितनी परेशानियां उठानी पड़ती हैं एवं उनके साथ कितना अमानवीय बर्ताव होता है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है लखानी में काम करने वाले मजदूर- शिव प्रसाद।

    शिव प्रसाद को 5 मार्च को एन.एच. 3 स्थित ई.एस.आई. निगम के अस्पताल से एक निजी अस्पताल - पार्क अस्पताल रेफर किया जाता है, क्योंकि शिव प्रसाद को मु...

Read full news...


80 वर्षीया महिला से गैंगरेप के विरोध में जुलूस प्रदर्शन


    पंतनगर विश्वविद्यालय के एन. ब्लाॅक फार्म कालोनी पंतनगर में प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र, इंकलाबी मजदूर केन्द्र तथा ठेका मजदूर कल्याण समिति, परिवर्तनकामी छात्र संगठन द्वारा एक बुजुर्ग महिला की कुछ असामाजिक दरिन्दों द्वारा गैंगरेप के बाद मौत होने पर 27 मार्च 2016 को शोक सभा में दो मिनट का मौन रख श्रद्धांजलि दी गयी और विरोध में 01 अप्रैल 2016 को परिसर में सभा और जुलूस का कार्यक्रम क...

Read full news...


आशा वर्करों पर एक नजर


    देश में भारत सरकार ने लगभग सभी जगह आशा कार्यकर्ताओं का जाल बिछा दिया है। इसी कड़ी में हरियाणा में फरीदाबाद जिले की संजय कालोनी में भी कुछ आशायें कार्यरत हैं।

    फरीदाबाद की संजय कालोनी मजदूरों की बस्ती है जिसमें बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड के मजदूर रहते हैं जो आस-पास सेक्टर-24, 25 और छोटी-बड़ी वर्कशाॅपों में काम करते हैं। 

    संजय कालोनी या सेक्टर- 22, 23 ...

Read full news...


ग्रुनर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड में जारी है मजदूरों पर तानाशाही


    हरिद्वार/ ग्रुनर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी बीएसएनएल चौक के पास हरिद्वार सिडकुल में स्थित है। ग्रुनर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी जर्मनी की कम्पनी है। जर्मनी में यह कम्पनी ग्रुनर ‘जी’ के नाम से स्थित है। हरिद्वार स्थित ग्रुनर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के मालिक का नाम बृजमोहन वैश्य है। 

    ग्रुनर इण्डिया प्राइवेट लिम...

Read full news...


पंतनगर में गैंगरेप पर जनता आक्रोशित


    24 मार्च को जहां पूरा देश होली के रंगों से खेल रहा था वहीं पंतनगर के छ ब्लाॅक में दिन के लगभग 1-1ः30 बजे के बीच तीन नौजवान दरिन्दों ने एक 80 साल की बुजुर्ग महिला को घर में से खींच कर घर के ही पास गेहूं के खेत में ले जाकर बलात्कार (गैंगरेप) किया जिसमें महिला की रक्तस्राव न रुकने की वजह से लगभग 5 बजे मौत हो गयी। 

    महिला के दो बच्चे हैं। एक लड़का और लड़की। लड़का कहीं बाहर रहता है...

Read full news...


प्रबंधक से वार्ता करने पर 9 महिला रेलवे कर्मचारी निलम्बित


    दक्षिणी रेलवे की चेन्नई डिवीजन की कुछ महिला कर्मचारी मुख्य व्यावसायिक प्रबन्धक अजीत सक्सेना से 23 मार्च को अपनी कुछ शिकायतों के संदर्भ में मिलीं। बीच वार्ता के दौरान ही प्रबन्धक ने महिलाओं को अपने कार्यालय से बाहर खदेड़ दिया तथा उन्हें घमकाया। एक जिम्मेदार अधिकारी के इस अपमानजनक व्यवहार और गुण्डागर्दी के चलते महिलाओं ने इसकी शिकायत केन्द्रीय रेलवे पुलिस (जी.आर.पी.) के पा...

Read full news...


भारी दमन के बीच जारी है टपूकेड़ा मजदूरों का संघर्ष


    होण्डा दुनिया की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कम्पनी है। इसका घरेलू दोपहिया वाहन बाजार में 26 प्रतिशत हिस्सा है तथा इसकी चार औद्योगिक ईकाईयां हैं, मानेसर (हरियाणा), टपूकेड़ा (राजस्थान), नरसापुर बंगलुरू (कर्नाटक) और विथलपुर (गुजरात)। 

    राजस्थान के अलवर में स्थित टपूकेड़ा इकाई, अप्रैल 2011 में स्थापित होण्डा मोटरसाइकिल और स्कूटर इण्डिया लिमिटेड (एच एम एस आई) की दूस...

Read full news...


इंकलाबी मजदूर केन्द्र का चौथा सम्मेलन सम्पन्न


फरीदाबाद/ इंकलाबी मजदूर केन्द्र का चौथा सम्मेलन 5-6मार्च को स्थानीय वैश्य धर्मशाला में सम्पन्न हुआ। 

    सम्मेलन की शुरूआत इंकलाबी मजदूर केन्द्र के अध्यक्ष कैलाश भट्ट द्वारा झंडारोहण कार्यक्रम के साथ हुई। इस अवसर पर सम्मेलन के प्रतिनिधियों द्वारा पूंजीवाद-साम्राज्यवाद व श्रम कानूनों में संशोधन व हिन्दू फासीवाद के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गयी तथा एक क्रांतिकारी गीत ...

Read full news...


जे एन यू प्रकरण पर हल्द्वानी में सभा एवं जुलूस


    जेएनयू छात्रों पर लगे देशद्रोह के फर्जी मुकदमे व लगातार जनवादी अधिकारों पर बोले जा रहे हमलों के खिलाफ हल्द्वानी में दिनांक 28 फरवरी को सभा व जुलूस का कार्यक्रम किया गया। 

    सभा में बोलते हुए क्रालोस के पी पी आर्या ने कहा कि राजद्रोह का कानून अंग्र्रेजों के समय में बनाया गया था। आज आजाद भारत में संघी सरकार इसे जनवाद को दबाने के लिए इस्तेमाल कर रही है। आज इस कानून को ...

Read full news...


जे एन यू पर बोले जा रहे हमले के खिलाफ प्रदर्शन


    संघ गिरोह द्वारा तथाकथित देशभक्ति की आड़ में जे एन यू पर किए जा रहे हमलों के खिलाफ दसियों हजार लोग 18 फरवरी को सड़कों पर उतरे। जनवाद और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बचाने की इस लड़ाई में छात्रों-शिक्षकों के साथ कई मजदूर, किसान, कर्मचारी संगठन ने भी विरोध प्रदर्शन में भागीदारी की।

    गौरतलब है कि 9 फरवरी को जेएनयू में अफजल की बरसी पर आयोजित एक कार्यक्रम में तथाकथित देशद...

Read full news...


टपूकेडा होन्डा में दोहराया होंडा 2005


    टपूकेडा राजस्थान स्थित होंडा मोटरसाइकिल प्लांट के मजदूरों का धैर्य 16 फरवरी को मैनेजमेंट के उकसावे पूर्ण कार्यवाही में टूट गया। हुआ ये कि होंडा मैनेजमेेंट के मजदूरों ने 6 अगस्त 2015 को यूनियन बनाने की प्रक्रिया शुरू की। कंपनी में 450 स्थाई व 3000 के लगभग अस्थाई मजदूर काम करते हैं। प्रतिदिन 4500 बाईक-स्कूटर का उत्पादन होता है। स्थाई मजदूर की जहां लगभग 16,000 तनख्वाह ...

Read full news...


सिडकुल में 1 दिन की आम हड़ताल का एलान


    रुद्रपुर, 19 फरवरी को अम्बेडकर पार्क पर सिडकुल की करीब 30 यूनियनों एवं कई ट्रेड यूनियन सेंटरों व मजदूर संगठनों के द्वारा मजदूर महापंचायत का आयोजन किया गया। यह मजदूर महापंचायत सिडकुल में मजदूरों के उत्पीड़न के खिलाफ एवं वर्तमान समय में काफी लम्बे समय से प्रबंधकों के उत्पीड़न के खिलाफ डी.एम. कार्यालय पर धरनारत 4 फैक्टरियों के मजदूरों के न्यायप्रिय संघर्ष के समर्थन में की गयी थ...

Read full news...


तमिलनाडु के 2 लाख राज्य कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर


    10 फरवरी को तमिलनाडु के 2 लाख राज्य कर्मचारी अपनी 20 सूत्रीय मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये। उससे पहले राज्य के वित्तमंत्री ट्रेड यूनियन प्रतिनिधियों से मिले और उनकी मांगों पर मौखिक आश्वासन ही दिया जबकि ट्रेड यूनियन प्रतिनिधि लिखित आश्वासन चाहते थे। ऐसा न होने पर वे 10 फरवरी को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये। अनेक जगह पर हजारों कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया...

Read full news...


दिल्ली नगर निगम के कर्मचारियों की हड़ताल


    दिल्ली नगर निगम के कर्मचारियों की अपने वेतन के भुगतान को लेकर की गयी व्यापक और प्रभावी हड़ताल ने राजधानी दिल्ली को अस्त व्यस्त कर दिया। लगभग 13 दिन चली इस हड़ताल ने जहां एक ओर निगम कर्मचारियों की संगठित ताकत और राजधानी को अस्त व्यस्त कर उसकी चमक को बिखरा देने की उनकी क्षमता के दर्शन कराये तो वहीं दूसरी तरफ केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार एवं दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार क...

Read full news...


इफको आंवला में यूनियन चुनाव


    इफको आंवला इकाई बरेली उत्तर प्रदेश में इफको आंवला इम्प्लाईज यूनियन का चुनाव सम्पन्न हो गया जिसमें सर्वेश यादव अध्यक्ष, जीत सिंह इजेठा महामंत्री एवं सर्वेश कुमार राय कोषाध्यक्ष चुने गये। 

    यूनियन का चुनाव समय से एक महीने पहले इसलिए कराया गया कि इफको के प्रबंध निदेशक उदय शंकर अवस्थी प्लांट के दौरे पर आने वाले थे और प्रबंध निदेशक की इच्छानुसार यूनियन का कार्यक...

Read full news...


ठेका मजदूर की कैन्सर पीडि़ता मां के इलाज हेतु चंदा अभियान


    पंतनगर/ इंकलाबी मजदूर केन्द्र व ठेका मजदूर कल्याण समिति पंतनगर के कार्यकर्ताओं द्वारा संगठन के सदस्य ठेका मजदूर की कैन्सर पीडि़ता मां के इलाज हेतु दिनांक 29 दिसम्बर 2015 से पंतनगर परिसर में मजदूर, कर्मचारी, शिक्षकों में घर-घर जाकर चंदा व पर्चा वितरण अभियान चलाया जा रहा है। 

    बताते चलें कि पंतनगर विश्व विद्यालय में पिछले 10-15 वर्षों से लगातार अति अल्प न्यूनतम वेतन पर...

Read full news...


भारत में कृषि संकट पर दो दिवसीय कार्यशाला


    भारत में गहराते कृषि संकट पर गहरी व व्यापक समझ हासिल करने व इसके सही समाधान को खोजने के मद्देनजर पंजाब के बरनाला जिले में 16-17 जनवरी को इंकलाबी केन्द्र पंजाब व कर्नाटक जनशक्ति द्वारा एक दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गयी। इस वर्कशाॅप में देश के कई राज्यों से किसान व मजदूर संगठनोें, कृषिविदों, शोधार्थियों, शिक्षाविदों एवं अनेक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भागीदारी की। 

  ...

Read full news...


मित्तर फास्टनर्स के मजदूरों का धरना जारी


    यूनियन रजिस्ट्रेशन को खारिज करवाने के लिए प्रबंधन ने 34 मजदूरों को छंटनी का नोटिस देकर हैरान परेशान करने की कार्यवाही की। इसके विरोध में मजदूरों का ए.एल.सी. कार्यालय पर धरना चल रहा है। ए.एल.सी. के समक्ष त्रिपक्षीय वार्ताओं में प्रबंधन मजदूरों को लेने से मना कर रहा है। इसी क्रम में 15 जनवरी की वार्ता में मजदूर प्रतिनिधियों ने प्रबंधन पर आरोप लगाया कि वह स्थायी मजदूरों के स्थान प...

Read full news...


डेल्फी टी.वी.एस. के मजदूरों का संघर्ष जारी


धरना ए.एल.सी. कार्यालय से पुनः डी.एम. कार्यालय पर लगाया


    15 जनवरी से डेल्फी टी.वी.एस. के मजदूर ए.एल.सी. कार्यालय से पुनः डी.एम. कोर्ट पर धरने पर आ गये हैं। इसी दिन ए.डी.एम., एस.डी.एम., ए.एल.सी. की मध्यस्थता में त्रिपक्षीय वार्ता हुयी। वार्ता बिना किसी निष्कर्ष के समाप्त हो गयी। अगली तारीख 20 जनवरी को तय की गयी। 20 जनवरी को पहले उक्त की मध्यस्थता में वार्ता हुयी। यहां पर कुछ भी बात न बन पाई तो पुनः डी.एम. के सम्मुख वार्ता हुयी। प्रबंधन स्थायीकरण, य...

Read full news...


महिन्द्रा सी.आई.ई. लालपुर किच्छा में पांच मजदूरों का गेट बंद


निष्कासित मजदूरों का ए एल सी रुद्रपुर में धरना शुरू


    14 जनवरी को महिन्द्रा सी.आई.ई. लालपुर के पांच मजदूरों उमेश पाल, शिव कुमार, संजीव कुमार, राकेश चंदोला व रोहित वर्मा का प्रबंधन द्वारा गेट बंद कर दिया गया। इन मजदूरों को फैक्टरी में काम करते हुए सात साल हो गये थे। विगत एक साल से कम्पनी ने इन मजदूरों को कम्पनी रोल पर ले लिया था। उससे पूर्व 6 साल से ये लगातार ठेकेदारी के तहत काम कर रहे थे। मजदूरों ने इसकी शिकायत उपश्रमायुक्त रुद्रपुर ...

Read full news...


नैनीसार की जनता के संघर्ष को कुचलने पर उतारू उत्तराखंड सरकार


जिंदल प्रेम में गणतंत्र दिवस पर सरकार ने उड़ाई अपने संविधान की धज्जियां


     जिन्दल प्रेम में आकण्ठ डूबे उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बेशर्मी की सारी हदें पार कर दी हैं। उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिले का पुलिस-प्रशासन जिन्दल इन्टरनेशनल स्कूल के मालिक प्रतीक जिन्दल के भाड़े के नौकर से ज्यादा कुछ भी नहीं बचा है। जिस न्यायपालिका की पवित्रता की कसम खाते हुए देश का शासक वर्ग कभी नहीं थकता, उस न्यायपालिका के आदेश की जिन्दल ग्रुप का मुखिया प्रत...

Read full news...


वी.एच.बी. में मजदूरों की कार्यबहाली


    दिनांक 5 सितम्बर 2015 को डी.एम. कार्यालय में यूनियन के पदाधिकारी एवम् वी.एच.बी. प्रबंधक तथा एस.डी.एम. के समक्ष वार्ता हुयी जिसमें यह निर्णय निकाला गया कि सभी श्रमिकों (आठ) को कार्य में वापस लिया जायेगा। बाकी निलम्बित 5 श्रमिकों की 20 दिन बाद कार्यबहाली की जायेगी। बाकी 5 श्रमिकों को छोड़कर सभी श्रमिक दिनांक 8 सितम्बर 2015 को कम्पनी में कार्यबहाल हो गये। यथा समय आने पर दिनांक 25 सितम्बर 2015 क...

Read full news...


ऐडो कोनमेट इंडिया में मजदूरों की छंटनी


    सिडकुल पंतनगर में मजदूरों का शोषण-उत्पीड़न चरम पर है। कई सारी फैक्टरियों के मजदूर अपनी मांगों को लेकर संघर्षरत हैं। केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा पूंजीपतियों के हितोनुरूप श्रम कानूनों में व्यापक संशोधन की घोषणा से ही पूंजीपति वर्ग इतना उत्साहित है कि वह वर्तमान में जारी श्रम कानूनों का पालन न करने का स्पष्ट मन बना चुके हैं। 

    सिडकुल के प्लांट न. 684 सेक्टर, 06, की ए...

Read full news...


पंतनगर वि.वि. के ठेका मजदूरों का संघर्ष


    पंतनगर ठेका मजदूर कल्याण समिति की ओर से पंतनगर विश्व विद्यालय में ई.एस.आई. लागू किये जाने के सम्बन्ध में अधिकारियों को ज्ञापन भेजा गया। ज्ञापन शाखा प्रबंधक ई.एस.आई. लालकुंआ जिला नैनीताल को दिया जिसकी प्रतियां सहायक श्रमायुक्त ऊधमसिंह नगर, क्षेत्रीय निदेशक ई.एस.आई. देहरादून, उत्तराखण्ड, मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड, श्रमायुक्त उत्तराखण्ड, कुलपति विश्व विद्यालय को भेजी गयी। 

Read full news...


27 यूनियनों का साझा संघर्ष


संघर्ष रोकने को लगी धारा-144


    ज्यों-ज्योें शासक वर्ग का दमन बढ़ता है उसी के अनुरूप इस दमन के विरोध में आवाज भी बढ़ती रहती है। इस बढ़ी हुयी आवाज को दबाने की कोशिश में विरोध विद्रोह का रूप ग्रहण करता है और शासक वर्ग विद्रोह को दबाने के नये-नये हथकंडे अपनाता रहता है। 

    पंतनगर सिडकुल में विगत समय में विभिन्न कम्पनियों के मजदूरों का संघर्ष एकजुट रूप में 5 जनवरी 2016 को रुद्रपुर की सड़कों पर दिखाई दिया...

Read full news...


रिचा के मजदूरों का संघर्ष जारी


    रिचा इंडस्ट्रीज रामनगर रोड़ काशीपुर के मजदूर पिछले वर्ष सितम्बर माह से ही आंदोलन कर रहे हैं। 9 मजदूरों को काम से निकाल देने पर 21-22 सितम्बर 15 को मजदूरों ने अचानक हड़ताल कर दी थी। 22 सितम्बर 15 को एस.डी.एम. काशीपुर की मध्यस्थता में त्रिपक्षीय वार्ता के बाद मजदूरों ने हड़ताल खत्म की। इस हड़ताल से मैनेजमेण्ट निकाले गये मजदूरों को काम पर वापस लेने तथा कुछ अन्य मांगों को मानने का आश्वा...

Read full news...


दिल्ली नगर निगम के कर्मचारी संघर्षरत


27 जनवरी से अनिश्चित कालीन हड़ताल


    दिल्ली नगर निगम के विभिन्न कर्मचारी अपने वेतन की मांग को लेकर पिछले लम्बे समय से संघर्षरत हैं। इन संघर्षरत कर्मचारियों में सफाई कर्मचारी, दिल्ली नगर निगम के स्कूलों के अध्यापकों सहित विभिन्न निगम कर्मचारी शामिल हैं। 

    अपनी वेतन की मांग को लेकर नगर निगम कर्मचारी पिछले तीन माह से लगातार संघर्षरत हैं। 

    नगर निगम कर्मचारी पिछले एक माह से अधिक समय से ...

Read full news...


न्यूनतम वेतन देने को भी मालिक/प्रबंधन तैयार नहीं


फरीदाबाद/ हरियाणा सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में न्यूनतम मजदूरी अधिनियम के तहत न्यूनतम मजदूरी की दरों को निरीक्षित किया था। लेकिन अधिकांश फैक्टरियों के मालिकान इस न्यूनतम मजदूरी को भी देने को तैयार नहीं हैं। कुछ फैक्टरियों ने तो घोषणा होते ही मजदूरों की छंटनी शुरू कर दी। जब से न्यूनतम वेतन में वृद्धि की घोषणा हुई है, तभी से मजदूरों को आशंका थी कि ये न्यूनतम वेतन लागू होगा भी कि नह...

Read full news...


डीयू में साम्प्रदायिक सेमिनार के विरोध में प्रदर्शन


    दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में ‘अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ’ (ए.वी.ए.पी.) द्वारा ‘राम-मंदिर’ के मामले पर 9-10 जनवरी को एक सेमिनार का आयोजन किया गया। विश्व हिन्दू परिषद (वी.एच.पी.) के नेता अशोक सिंघल, ए.वी.ए.पी. के संस्थापक थे। वर्तमान में बीजेपी के सुब्रमण्यम स्वामी इस संगठन के अध्यक्ष हैं। आर.एस.एस. द्वारा इसका गठन शोध आदि कामों के लिए किया गया था अर्थात् आर.एस.एस. जो भी जहर उगल...

Read full news...


राजश्री मेडिकल रिसर्च इन्स्टीट्यूट के कर्मचारी संघर्षरत


    बरेली/ 10 दिसम्बर 2015 को राजश्री मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट बरेली के प्रबंधन ने 46 बार्ड ब्याय, बार्ड आया व अटेन्डेंटों के वेतन में कटौती व काम के घंटों में बढ़ोत्तरी का फरमान सुनाया तो कर्मचारी भड़क उठे। मैनेजमेण्ट का कहना है कि जो कर्मचारी 2500 रुपये में 12 घंटे काम करेगा वही रुके बाकी लोग घर जाएं। इस पर सभी 46 कर्मचारी काम से बाहर आ गये। कुछ दिन तक कर्मचारी अकेले-अकेले संघर्ष करते रह...

Read full news...


आंदोलनों के समर्थन में ट्रेड यूनियनों की संयुक्त संघर्ष की घोषणा


    विगत लम्बे समय से जिला मुख्यालय उधमसिंह नगर (उत्तराखण्ड) में ट्रेड यूनियनों के दमन के विरोध में मजदूरों के धरने-प्रदर्शन निरन्तर जारी हैं। एक कम्पनी के मजदूरों का आंदोलन समाप्त होने से पूर्व ही दूसरी कम्पनी के मजदूर ट्रेड यूनियन के दमन के खिलाफ में डी.एम. कार्यालय में पहुंच जाते हैं। 

    पूरे भारत वर्ष की तरह ही सिडकुल पंतनगर में भी मालिकों को ट्रेड यूनियनें गवार...

Read full news...


सिडकुल पंतनगर में मजदूर संघर्षों का तांता


रुद्रपुर/ ज्यों-ज्यों आर्थिक संकट गहराता जा रहा है, पूंजीपति वर्ग की सेवा में सरकार लगातार सार्वजनिक क्षेत्रों में कटौती कर पूंजीपतियों पर सरकारी खजाना लुटा रही है। सरकारें मजदूरों मेहनतकशों के अधिकारों में फेर बदल कर पूंजीपतियों की लूट को जायज ठहरा रही है। मजदूर वर्ग भी इन सब चालबाजियों का जबाव दे रहा है। ऐसी ही परिघटना पंतनगर सिडकुल में मौजूदा समय में उत...

Read full news...


जंतर मंतर पर धरना व प्रदर्शन


हिमांशु एजूकेशनल सोसाइटी को अवैध भूमि आवंटन के खिलाफ


    दिल्ली, 27 दिसंबर, उत्तराखंड के अल्मोड़ा के नानीसार में ग्राम समाज की जमीन राज्य सरकार द्वारा हिमांशु एजूकेशनल सोसाइटी को बेहद महंगे अंतर्राष्ट्रीय विद्यालय खोलने के लिए अवैध रूप से आवंटित करने के खिलाफ नानीसार बचाओ संघर्ष समिति, उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी, इंकलाबी मजदूर केन्द्र, क्रांतिकारी जनवादी मंच, परिवर्तनकामी छात्र संगठन सहित विभिन्न जनवादी संगठनों के कार्यकर्त...

Read full news...


काकोरी के शहीदों की याद में...


असहिष्णुता व हिन्दू फासीवाद के खिलाफ विभिन्न कार्यक्रम


    देश में बढ़ रही असहिष्णुता एवं हिन्दू फासीवादी उभार के खिलाफ जनप्रतिरोध को मजबूत करने के उद्देश्य से शहीदों की क्रांतिकारी विरासत को याद करते हुए विभिन्न स्थानों पर शहीदी सप्ताह का आयोजन किया गया।  

     इंकलाबी मजदूर केन्द्र, परिवर्तनकामी छात्र संगठन, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र व क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन द्वारा संयुक्त तौर पर आयोजित इस शहीदी सप्ताह पर ...

Read full news...


मजदूरों की एकता के सामने झुका प्रबंधन


    फरीदाबाद, फ्लैस इलेक्ट्रोनिक्स इंडिया प्रा.लि. के मजदूरों ने अपनी एकता से कम्पनी प्रबंधन को झुकने पर मजबूर कर दिया। सेक्टर 27 बी के प्लांट न. 3, 8 व 9 में स्थित कम्पनी के दोनों प्लांटों ने नया ग्रेड देने का नया फार्मूला अपनाया। इसके बाद मजदूरों ने संघर्ष शुरू किया। कम्पनी में गाडि़यों का गीयर तथा अन्य इलेक्ट्रोनिक पार्ट बनते हैं। 

    ज्ञात हो कि हरियाणा सरकार ने लम्ब...

Read full news...


नेपाल की अघोषित नाकेबंदी के खिलाफ प्रदर्शन


    भारत द्वारा नेपाल की अघोषित नाकेबंदी के खिलाफ 6 दिसम्बर को जंतर मंतर पर विभिन्न नेपाली संगठनों व भारत के जनवादी व मजदूर संगठनों द्वारा एक जोरदार प्रदर्शन किया गया। 

    6 दिसम्बर को दोपहर 3 बजे जंतर मंतर से सटे पार्क में लगभग 2 से 3 हजार की तादात में प्रदर्शनकारी एकजुट हुए। प्रदर्शनकारियों में मुख्य रूप से नेपाली एकता समाज (मूल प्रवाह), अखिल भारत नेपाली एकता मंच, प्रव...

Read full news...


मजदूर न्याय अधिकार कन्वेंशन का आयोजन


    पिछले तीन से अधिक सालों से मारुति-सुजुकी मानेसर (हरियाणा) के मजदूर राजसत्ता के भारी दमन का सामना कर रहे हैं। इसके बावजूद उनका संघर्ष लगातार जारी है। आंदोलन के क्रम में मारुति सुजुकी वर्कर्स यूनियन मानेसर(प्रोविजनल कमेटी) ने 27 नवम्बर 2015 को गुड़गांव में ‘मजदूर न्याय अधिकार कन्वेंशन’ का आयोजन किया। शासन-प्रशासन के दबाव में गुड़गांव में कोई हाॅल न मिल पाने के कारण अंततः गुड...

Read full news...


तीखे दमन के बावजूद जल रही है मशाल


आक्यूपाई यू.जी.सी. आंदोलन


    यू.जी.सी. द्वारा अक्टूबर में नाॅन नेट फेलोशिप को खत्म किये जाने की घोषणा के बाद से शुरू हुआ आक्यूपाई यू.जी.सी. आंदोलन निरंतर जारी है। 21 अक्टूबर से शुरू हुए इस आंदोलन को निरंतर ही सरकार के दमन का सामना करना पड़ा है। 23 अक्टूबर, 27 अक्टूबर के बाद अब 9 दिसम्बर को छात्रों को पुलिसिया दमन सहना पड़ा। 9 दिसम्बर को छात्रों की पहले से ही प्रस्तावित रैली पर दिल्ली पुलिस ने बर्बरतापूर्वक लाठी...

Read full news...


मजदूर बस्ती में मेडिकल कैम्प


    हरिद्वार सिडकुल से सटी मजदूर बस्ती ‘रावली महदूद’ में 6 दिसम्बर को एक मेडिकल कैंप का आयोजन किया गया। इस कैंप का आयोजन इंकलाबी मजदूर केन्द्र, भेल मजदूर ट्रेड यूनियन और प्रोग्रेसिव मेडिकोज फोरम(पी.एम.एफ.) द्वारा किया गया। 

    इस कैम्प के आयोजन की तैयारी के लिए ‘इंकलाबी मजदूर केन्द्र के कार्यकर्ताओं/सदस्योें ने मजदूर बस्ती में प्रचार-प्रसार किया। मजदूर-मेहनतकश...

Read full news...


अभी तो ये अंगडाई है आगे और लड़ाई है


    रुद्रपुर/ महिन्द्रा सी.आई.ई. पंतनगर के मजदूरों का धरना 66वें दिन प्रबंधन से समझौते के बाद समाप्त हो गया। समझौते में दोनों निष्कासित मजदूरों की बहाली व 8 प्रतिशत वेतन बढ़ोत्तरी पर प्रबंधन ने सहमति बनायी है। दोनों मजदूर 14 दिसम्बर से काम पर वापस लौट जायेंगे। 11 दिसम्बर 2015 की देर सांय 8 बजे ए.एल.सी. कार्यालय में ए.एल.सी. अनिल यादव की मध्यस्थता में उक्त समझौता हुआ।

    इससे पूर्...

Read full news...


सिडकुल की अन्य फैक्टरियों में संघर्ष की संक्षिप्त रिपोर्ट


- पारले में समझौते को लेकर प्रबंधन व यूनियन में रस्साकशी जारी है। 

- वोल्टास में यूनियन व प्रबंधन के बीच हुए समझौते को प्रबंधन के धता बताने के विरोध में 20 नवम्बर 15 को मजदूरों ने डीएम कार्यालय पर एक दिवसीय धरना दिया।

- टी.वी.एस. चक्रा में यूनियन गठन के बाद प्र्रबंधन ने एक मजदूर को निलम्बित कर दिया। इसके व मांगपत्र के बारे में प्रबंधन के विरोध में ए.एल.सी. रुद्रपुर में 26 नवम्बर 15 ...

Read full news...


मजदूरों को अपंग बनाती फैक्टरियां


    पूंजीवादी समाज में पूंजीपति वर्ग अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए मजदूरों को हर प्रकार से निचोड़ने का काम करता है। मालिक फैक्टरी में कुशल(स्थायी) मजदूरों के बदले अकुशल(ठेका मजदूर) मजदूरों से काम करवाता है। एक मजदूर से एक ही समय में एक से ज्यादा मशीनों पर काम करवाता है। उत्पादन बढ़ाने का लगातार दबाव मजदूरों के ऊपर बनाता है। मजदूरो के ऊपर कामबंदी (बेरोजगारी) का खतरा लगातार बना रहत...

Read full news...


तीन कम्पनियों के मजदूरों का साझा धरना


1. ब्रिजस्टोन के मजदूरों का संघर्ष जारी

गुड़गांव/17 अक्टूबर को संघर्षरत ब्रिजस्टोन कंपनी के मजदूरों के धरना स्थल पर लगे टेन्ट पर पुलिस द्वारा बुलडोजर चला दिया गया था। तब से मजदूर अपनी मांगों के लिए श्रम विभाग/कोर्ट के हर दरवाजे पर गये। यहां तक कि जिले के अधिकारी डीसी को भी ज्ञापन दिया गया। परन्तु कुछ भी नहीं हुआ। 

    2 नवम्बर को मजदूरों ने जुलूस निकाला और सहायक श...

Read full news...


नैनीसार में भूमि अधिग्रहण के विरोध में देहरादून में प्रदर्शन


    नैनीसार (अलमोडा, उत्तराखण्ड) में भूमि अधिग्रहण के विरोध में नैनीसार बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले कई राजनीतिक व सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं ने देहरादून में 24 नवम्बर को प्रदर्शन किया। परेड ग्राउंड, हिन्दी भवन के पास हुयी सभा में वक्ताओं ने सरकार की दोहरी नीति की आलोचना करते हुए कहा कि एक तरफ तो भूमिहीनों को जमीन से वंचित रखा जा रहा है और पूंजीपतियों के लिए सरकार जमीनों क...

Read full news...


अपराधियों को हुआ आजीवन कारावास


    उत्तराखण्ड के पौड़ी जनपद के कोटद्वार में 9 नवम्बर 2012 को एक ट्रेक्टर में काम करने वाला प्रदीप रावत को खनन माफियाओं ने जान से मारकर उसके घर के समीप फेंक दिया। जब सुबह घर वालों ने प्रदीप की लाश देखी तो पूरा परिवार व क्षेत्रवासी स्तब्ध रह गये। क्षेत्रवासियों ने हत्या के खुलासे के लिए सड़क जाम, धरना व अधिकारियों का घेराव किया। अधिकारियों द्वारा मात्र आश्वासन ही दिये जा रहे थे। को...

Read full news...


‘‘मित्र’’ पुलिस की गुण्डागर्दी के खिलाफ संघर्ष


    कोटद्वार जी.आई.सी. के बाहर सालों से पूरी-भाजी का ठेला लगाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले सुनील कुमार को पुलिस कांस्टेबल द्वारा चालान की रसीद मांगने पर गाली-गलौज करने के बाद थप्पड़ जड़ दिया गया। 10 अक्टूबर को बिना दरोगा के हस्ताक्षर वाली चालान की बुक लेकर बाजार  चौकी में तैनात कांस्टेबल सुशील कुमार सुबह साढ़े सात बजे सभी ठेले वालों से 250 रुपये चालान के मांग रहा था। जब सुनी...

Read full news...


ट्रेड यूनियनों का कन्वेंशन


    मारुति सुजुकी मानेसर (हरियाणा) के मजदूर पिछले तीन से अधिक सालों से राज्य सत्ता के दमन का सामना कर रहे हैं। वे लगातार आंदोलनरत हैं। उनके आंदोलन के साथ अपनी एकजुटता प्रदर्शित करते हुए इंकलाबी मजदूर केन्द्र और वीनस इंडस्ट्रियल काॅरपोरेशन वर्कर्स यूनियन ने संयुक्त रूप से एक कन्वेंशन का आयोजन फरीदाबाद में किया। कन्वेंशन का विषय ‘‘मजदूर वर्ग के वर्तमान हालात और ट्रेड यूनि...

Read full news...


दिवाली पर मजदूरों की छंटनी


रात के 7ः30 बजे हैं और मजदूर फैक्टरी पर अपनी ड्यूटी के लिए पहुंच रहे हैं। फैक्टरी गेट पर पहुंच कर पता चलता है कि रात की पाॅली के सभी मजदूरों का गेट बंद कर दिया गया है। ये घटना दीवाली से पूर्व 9 नवम्बर की है। ये सभी ठेके के तहत रखे गये मजदूर थे। कुछ का हिसाब उसी समय दे दिया गया और बाकी को अगले दिन हिसाब के लिए बुलाया। दिवाली से एक दिन पहले उनका हिसाब कर दिया गया। मजदूरों में इस बात को लेकर आक्...

Read full news...


नैनीसार में भूमि अधिग्रहण के विरोध में ग्रामीण आंदोलनरत


शासन-प्रशासन ने आंदोलनकारियों पर लगाये मुकदमे


    उत्तराखण्ड के अल्मोडा जिले के नैनीसार (रानीखेत) में जिंदल ग्रुप को अवैध तरीके से जमीन दिये जाने के विरोेध में वहां के ग्रामीण आंदोलनरत हैं। जिंदल ग्रुप के हिमांशु एजुकेशन सोसाइटी को यह जमीन एक इण्टरनेशनल स्कूल खोलने के लिए दी जा रही है जिसमें 30 प्रतिशत सीटें उत्तराखण्ड शासन के पास होंगी जिसमें उस इलाके में रहने वाले अधिकारियों के बच्चे पढ़ेंगे शेष सीटें एनआरआई, माओवादी प्...

Read full news...


मजदूरों की लाश पर कंस्ट्रक्शन -सुनील कुमार


    सभी की चाहत होती है कि उसका एक अपना घर हो। लोग रोजगार की तलाश में महानगरों और बड़े शहरों की ओर भाग रहे हैं जिससे कुछ शहरों की आबादी में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। यही कारण है कि महानगरों में ज्यादा लोग किराये के मकान में रहते हैं। इसका सबसे ज्यादा फायदा रीयल एस्टेट को हो रहा है। इसी कारण दिल्ली, मुम्बई, बंगलौर जैसे शहरों में एक फ्लैट की कीमत इतनी ज्यादा है ...

Read full news...


पछास का नवां सम्मेलन


    परिवर्तनकामी छात्र संगठन का नवां सम्मेलन 31 अक्टूबर-1 नवम्बर को दिल्ली में सम्पन्न हुआ। सम्मेलन 31 अक्टूबर को नियत समय पर झंडारोहण व यूथ इंटरनेशनल के साथ शुरू हुआ। संगठन के अध्यक्ष ने अध्यक्षीय भाषण रखते हुए पूंजीवादी व्यवस्था के आर्थिक संकट और सरकारों के पूंजीपरस्त चरित्र के कारण भयावह हो रहे सामाजिक संकट के खिलाफ मेहनतकश छात्रों-नौजवानों को मजबूती से खड़े होने तथा समाजव...

Read full news...


अक्टूबर क्रांति दिवस का आयोजन


    7 नवम्बर अक्टूबर क्रांति दिवस पर इंकलाबी मजदूर केन्द्र, क्रालोस, पछास व प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र द्वारा विभिन्न स्थानों पर प्रभातफेरी, गोष्ठी, सभा फिल्म प्रदर्शन जैसे कार्यक्रमों का आयोजन कर महान अक्टूबर क्रांति की विरासत को याद किया गया तथा भारत में समाजवाद की स्थापना का संकल्प लिया गया। 

    इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा अक्टूबर क्रांति दिवस के अवसर पर &lsquo...

Read full news...


रिचा इण्डस्ट्रीज लिमिटेड के मजदूर संघर्ष की राह पर


    काशीपुर/ उत्तराखण्ड के काशीपुर शहर के पास स्थित रिचा इण्डस्ट्रीज फैक्टरी के मजदूर फैक्टरी प्रबंधन द्वारा मजदूरों को डराने-धमकाने, उनके साथ मारपीट करने के विरोध में फैक्टरी के बाहर हैं। 27 अक्टूबर को फैक्टरी प्रबंधन ने मजदूर अरुण कुमार यादव के साथ बुरी तरह मारपीट की जिसके कारण् वह काशीपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती है।  

    22 सितम्बर को मजदूर अपनी मांगों क...

Read full news...


वी.एच.बी. प्रबंधन ने समझौते को नकारा


    रुद्रपुर/ एसडीएम रुद्रपुर की मध्यस्थता में वी.एच.बी. मेडिसाइंस लि. के प्रबंधक वर्ग व वी.एच.बी. श्रमिक संगठन के बीच हुए त्रिपक्षीय समझौते को वी.एच.बी. मेडिसाइंस के प्रबंधक वर्ग ने मानने से इंकार कर दिया है। वी.एच.बी. के मजदूर 25 सितम्बर से प्रशासन से गुहार लगा रहे हैं लेकिन जिला प्रशासन अपने मध्य हुए समझौते को ही लागू नहीं करा पा रहा है। मजदूर पुनः संघर्ष में उतरने की तैयारी ...

Read full news...


मजदूरों के धरने पर चला पुलिस का बुलडोजर


ब्रिज स्टोन कम्पनी के मजदूरों का संघर्ष जारी


    गुड़गांव/ गुड़गांव में 17 सितम्बर से कम्पनी के बाहर धरने पर बैठे मजदूरों को अपने संघर्ष को बढ़ाते हुए भूख हड़ताल शुरू करनी पड़ी। 16 अक्टूबर को वार्ता में जब कोई निष्कर्ष नहीं निकला तो मजदूरों को मजबूरन अपने चार साथियों को भूख हड़ताल पर बैठाना पड़ा। 

    16 अक्टूबर को ब्रिजस्टोन कम्पनी के अमरपाल, संतोष कुमार, ग्रिजेश यादव और देवेन्द्र अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल ...

Read full news...


बढ़ती असहिष्णुता के खिलाफ साहित्यकारों लेखकों ने निकाला मौन जुलूस


    दिल्ली/ साहित्यकारों, लेखकों पर हो रहे हमलों, अल्पसंख्यकों के खिलाफ बढ़ती हिंसा और विचार चिंतन, आचार व्यवहार को नियंत्रित करने तथा आजादी और जनवाद पर बढ़ते खतरे के खिलाफ देश के प्रतिष्ठित साहित्यकारों ने 23 अक्टूबर को मंडी हाउस के पास श्री राम कला केन्द्र से साहित्य अकादमी के मुख्यालय रवीन्द्र भवन तक एक मौन जुलूस निकाला। 

    इस जुलूस में शामिल लेखकों में अन...

Read full news...


प्रतिरोध सभा- आजादी और विवेक के हक में


    दिल्ली/ भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन राजग सरकार के शासनकाल में बढ़ रही असहिष्णुता से क्षुब्ध साहित्यकारों व लेखकों ने 20 अक्टूबर को प्रेस क्लब में एक प्रतिरोध सभा आयोजित की। ‘‘आजादी और विवेक के हक में’’ के नाम से आयोजित इस प्रतिरोध सभा का आयोजन ‘जन संस्कृति मंच’, ‘जनवादी लेखक संघ’, ‘प्रगतिशील लेखक मंच’, ‘साहित्य संवाद’, ‘प्रेस क्लब आॅफ इ...

Read full news...


मजदूरों का विरोध प्रदर्शन


​फरीदाबाद- इस वीभत्स हत्याकांड के विरोध में इंकलाबी मजदूर केन्द्र एवं आॅल वीनस इंडस्ट्रियल वर्कर्स यूनियन से जुड़े मजदूरों ने स्थानीय बी.के. चैक पर एकत्र होकर विरोध-प्रदर्शन किया और हरियाणा सरकार का पुतला फूंका। 

    इस मौके पर हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि देश की राजधानी दिल्ली के नजदीक दादरी की दर्दनाक घटना के बाद सुनपेड़ की यह स्तब्ध कर देने वाली दूसरी घटना है। आ...

Read full news...


दबंगों ने जिंदा जला दिया मासूमों को


- फरीदाबाद में दलित उत्पीड़न की झकझोर देने वाली घटना।

- दलितों का पुलिस आयुक्त पर दबंग सवर्णों के पक्ष में काम करने का आरोप।

- सुनपेड़ गांव बना चुनावबाज राजनीतिक दलों का अखाड़ा।


    फरीदाबाद के सुनपेड़ गांव में एक दलित परिवार पर गांव के ही दबंगों ने खिड़की से पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी। इसमें परिवार के दोनों बच्चों- दस महीने की दिव्या एवं ढाई वर्ष ...

Read full news...


दलितों को मंदिर में प्रवेश पर मनाही के विरोध में संघर्ष


    उत्तराखण्ड के देहरादून जिले का साहिया क्षेत्र आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है। साहिया क्षेत्र के गबेला पंचायत में स्थित कुकुरशी मंदिर में दलितों को मंदिर में प्रवेश से मनाही है। मंदिर में प्रवेश से मनाही के विरोध में जौनसार भावर परिवर्तन यात्रा को संगठित किया जा रहा था। यह ‘अराधना ग्रामीण विकास समिति’ के नेतृत्व में हो रहा था। इस संस्था ने मंदिर में दलितों के भी प्रवेश क...

Read full news...


महिन्द्रा सी.आई.इ. के मजदूरो का डी.एम. कार्यालय पर धरना


    रुद्रपुर/ महिन्द्रा सी.आई.इ. के मजदूरों ने 7 अक्टूबर से गैर कानूनी रूप से दो मजदूरों की कार्यबहाली के लिए डी.एम. कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया है। धरने में निष्कासित मजदूरों के समर्थन में कम्पनी के अन्य मजदूर भी शिफ्टों के हिसाब से बैठते हैं, अन्य कम्पनियों की यूनियनों के मजदूर भी इनके समर्थन के लिए धरना स्थल पर पहुंच रहे हैं। मजदूरों के जिलाधिकारी से गुहार लगाने पर मामला एस.ड...

Read full news...


कोटद्वार को साम्प्रदायिक दंगों में झोंकने का षड्यंत्र


    28 सितम्बर का दिन शहीदे आजम भगतसिंह का जन्मदिन था उसी रात में उत्तराखण्ड के कोटद्वार शहर में दो व्यक्तियों की लड़ाई को साम्प्रदायिक दंगों का रूप देने के लिए भाजपा व अन्य हिंदू संगठनों ने झूठी अफवाहें फैलाकर गर्दन कटे फोटो सोशल मीडिया में वायरल कर दिये। 29 सितम्बर को गरीब फड़ खोखे वालों का सामान सड़कों पर फेंककर कुछ जगहों पर आगजनी भी कर दी गयी। दो दिन तक स्कूल-काॅलेज व बाजार बं...

Read full news...


दिल्ली में संयुक्त प्रतिरोध रैली


दादरी हत्याकांड व बढ़ते साम्प्रदायिक फासीवाद के खिलाफ


    11 अक्टूबर को दिल्ली के लगभग सभी जनवादी, प्रगतिशील, क्रांतिकारी, मजदूर व छात्र संगठनों व व्यक्तियों ने दिल्ली में मंडी हाउस से प्रधानमंत्री आवास तक दादरी हत्याकांड व बढ़ते साम्प्रदायिक फासीवाद के खिलाफ विशाल और संयुक्त प्रतिरोध रैली का आयोजन किया। 

    11 अक्टूबर को दोपहर एक बजे सैकड़ों की संख्या में संगठनों के कार्यकर्ता, सदस्य तथा प्रगतिशील व बुद्धिजीवी लोग मं...

Read full news...


संजना हत्याकांड में आरोपी की रिहाई से क्षेत्रवासी आक्रोशित


    नैनीताल जिले के बिन्दुखत्ता गांव में 3 वर्ष पूर्व 8 वर्षीय संजना की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गयी थी। क्षेत्र के जनसंगठनों व क्षेत्रीय जनता के लम्बे संघर्ष के बाद पुलिस ने संजना के ही रिश्तेदार फूफा दीपक आर्या को गिरफ्तार किया था। जिला अदालत से फांसी की सजा पाये दीपक आर्या को उत्तराखण्ड राज्य के नैनीताल हाइकोर्ट ने 8 अक्टूबर 2015 को दोषमुक्त करार देते हुए बरी कर दिया। 

&...

Read full news...


भेल में आंशिक जीत के साथ आंदोलन समाप्त


    भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लि. हरिद्वार सार्वजनिक क्षेत्र की एक महारत्न कम्पनी है जिसमें टरबाइन व जनरेटर का निर्माण किया जाता है जो देश के लगभग 75 प्रतिशत विद्युत संयत्रों की आपूर्ति करता है। देश की अर्थव्यवस्था में भेल एक अहम भूमिका निभाता है। केन्द्रीय श्रम संगठनों द्वारा आहूत 2 सितम्बर की एक दिवसीय आम हड़ताल में भेल हरिद्वार के मजदूर भी पूूरे जोश के साथ शामिल हुए। भेल में 20...

Read full news...


रिचा फैक्टरी के मजदूरों के सामने झुका प्रबंधन


    उत्तराखण्ड के काशीपुर शहर से 10 किमी. रामनगर रोड पर रिचा फैक्टरी है। यह फैक्टरी लोहे के गाडर आदि बनाती है। इस फैक्टरी में लगभग 300 मजदूर काम करते हैं जिसमें जागरूक मजदूरों को भी सही-सही यह नहीं पता कि कितने मजदूर स्थायी व कितने ठेके के हैं। पूरे काशीपुर क्षेत्र के मजदूरों की तरह ही इस फैक्टरी में भी मजदूरों का शोषण-उत्पीड़न होता है। दो-दो, चार-चार साल से कार्यरत मजदूरों को दर्जनो...

Read full news...


स्थायी मजदूरों से समझौता, छले अस्थायी मजदूरों पर लाठीचार्ज


मारुति सुजुकी कम्पनी का तीन सालाना वेतन समझौता


    मारुति सुजुकी कम्पनी में अप्रैल माह से निलम्बित तीन सालाना समझौता 25 सितम्बर को हो गया। यह मानेसर, गुड़गांव और पावर ट्रेड मानेसर तीनों प्लांटों का है। वेतन में औसतन 16,800 रुपये की मासिक वृद्धि की गयी है जो तीन चरणों में लागू होगी। 2015-16 में 50 प्रतिशत तथा आगे 25-25 प्रतिशत की वृद्धि होगी। यानी पहले साल 8400 रुपये व बाकी अगले दो सालों में 4200-4200 रुपये। समझौते में जो मजदूर अपने परिवहन से आते है...

Read full news...


‘वो सुबह हमीं से आयेगी’


‘हिन्दू फासीवाद और मीडिया’ पर सेमिनार


    ‘नागरिक’ द्वारा प्रतिवर्ष समसामयिक एवं ज्वलंत मुद्दों पर सेमिनार आयोजित किया जाता है। इस कड़ी में शहीदे आजम भगतसिंह के जन्म दिवस की पूर्व संध्या (27 सितम्बर) पर दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में ‘‘हिन्दू फासीवाद और मीडिया’’ विषय पर सेमिनार आयोजित किया गया। सेमिनार की शुरूआत जर्मनी के क्रांतिकारी कवि बर्टोल्ट ब्रेख्त के गीत ‘वो सब कुछ करने को तै...

Read full news...


ट्रेड यूनियन नेताओं का एक दिवसीय शिविर


    रुद्रपुर! 13 सितम्बर को इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा ‘‘ट्रेड यूनियन आन्दोलन की चुनौतियां’’ विषय पर एक दिवसीय शिविर का आयोजन आहूजा धर्मशाला, रुद्रपुर में किया गया। शिविर में गुड़गांव, फरीदाबाद, बरेली, हरिद्वार, पंतनगर, आदि जगह के ट्रेड यूनियन नेताओं एवं प्रतिनिधियों ने भागीदारी की। 

    शिविर में इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा एक आधार पत्र(शिविर पत्र) रखा गया...

Read full news...


ब्रिजस्टोन कम्पनी के मजदूर संघर्ष की राह पर


    गुड़गांव! ब्रिजस्टोन इण्डिया आॅटोमोटिव लि. आईएमटी मानेसर के सेक्टर-3 प्लाट न. 11 में है। कम्पनी मालिक और प्रबंधक की ज्यादतियों और शोषण के खिलाफ यहां के मजदूर हड़ताल पर हैं। 

    इस कम्पनी में 400-425 मजदूर काम करते हैं जिसमें से 185 मजदूर ही स्थायी हैं जो पिछले 12-14 सालों से यहां काम कर रहे हैं। शेष मजदूर 2 से 5 साल से कम्पनी में काम कर रहे हैं। कम्पनी में 40 के लगभग महिला मजदूर भी ह...

Read full news...


बी.एच.ई.एल. में आठ मजदूर हुए निलम्बित


2 सितम्बर की देशव्यापी हड़ताल के दिन बी.एच.ई.एल. के मजदूरों और प्रबंधकों के बीच टकराव


    2 सितम्बर की देशव्यापी हड़ताल का बी.एच.ई.एल. की अधिकांश यूनियनों ने समर्थन किया। ‘विशाल एकता मंच’ के बैनर तले इस हड़ताल का आयोजन किया गया। पिछले कुछ समय से बी.एच.ई.एल. के मजदूरों के अधिकार कटते रहे हैं। इस वजह से हड़ताल को लेकर सभी ट्रेड यूनियन के कार्यकर्ताओं में उत्साह था। 2 सितम्बर के दिन हड़ताल को सफल बनाने के लिए विभिन्न प्रवेश द्वार (गेट) की जिम्मेदारी अलग-अलग यूनियनों क...

Read full news...


देशव्यापी हड़ताल का सिडकुल के मजदूरों के बीच प्रचार करना जुर्म है


    केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों की 2 सितम्बर की राष्ट्रव्यापी हड़ताल सरकारी संस्थानों तक ही सीमित रही। निजी संस्थानों में हड़ताल के बारे में प्रचार करने की भी व्यवस्थापरस्त ट्रेड यूनियनों ने जहमत नहीं उठायी। हरिद्वार के सिडकुल में इंकलाबी मजदूर केन्द्र की हरिद्वार इकाई ने अपने दम पर ही केन्द्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों का पर्दाफाश करते हुए 2 सितम्बर की देशव्यापी हड़ताल क...

Read full news...


देश व्यापी हड़ताल में जगह-जगह हुए प्रदर्शन व हड़तालें


रुद्रपुर/ उत्तराखण्ड के रुद्रपुर में विभिन्न ट्रेड यूनियनों, मजदूर संगठनों एवं वामपंथी पार्टियों द्वारा संयुक्त रूप से अम्बेडकर पार्क में सभा की गयी और उसके बाद जुलूस निकाला गया जिसमें 1000 मजदूरों ने भागीदारी की। टाटा मोटर्स, एच.पी., नैस्ले, ब्रिटानिया, राने मद्रास और रिद्धी-सिद्धी में हड़ताल हुयी। टाटा मोटर्स में हड़ताल होने से टाटा वैण्डर पार्क सेक्टर-11 सिडकुल पंतनगर की द...

Read full news...


उत्तराखण्ड में नर्सें हड़ताल पर


    उत्तराखण्ड में अपने ग्रेड पे को उच्च किये जाने की मांग को लेकर नर्सें 7 सितम्बर से हड़ताल पर हैं। उत्तराखण्ड सरकार ने इनकी मांगों पर कोई कार्यवाही के बजाय एस्मा लगा दिया है और हड़ताल को कुचलने की कोशिश की है। लेकिन नर्सें अपनी मांगों को लेकर आन्दोलनरत हैं। वे सरकार के आगे झुकने को तैयार नहीं हैं। 

    नर्सों के बीच असंतोष उस समय पैदा हुआ जब सरकार ने दिसम्बर 2012 में एक ...

Read full news...


गीता प्रेस में मजदूरों की हडताल


    दुनिया भर में धार्मिक आस्था का प्रचार-प्रसार करने वाला प्रकाशन गीता प्रेस गोरखपुर आजकल विवादों में हैं। लगभग एक महीने से इसमें कार्यरत मजदूर अपने कर्म का उचित फल प्रबंधन से मांग रहे हैं लेकिन प्रबंधन उनको कर्म करते रहने की सीख दे रहा है। बात अब प्रकाशन से निकलकर प्रशासन तक पहुंच चुकी है। कई दौर की समझौता वार्ता के बाद भी कोई सार्थक बात नहीं बन पाई है। फिलहाल आस्था के नाम पर ...

Read full news...


वी.एच.बी. के मजदूरों का संघर्ष रंग लाया


9 से 13 हुए निलम्बित सभी मजदूरों की कार्यबहाली का समझौता हुआ


    पंतनगर सिडकुल स्थित कम्पनी वीएचबी के मजदूर 22 जुलाई से 9 मजदूरों की कार्यबहाली के लिए संघर्षरत थे। वी.एच.बी. के मजदूरों का 5 सितम्बर को रुद्रपुर एस.डी.एम. की मध्यस्थता में समझौता सम्पन्न हुआ। वी.एच.बी. श्रमिक संगठन 20 अगस्त से डी.एम. कोर्ट में धरने पर बैठ कर पहले आंदोलन को आगे बढ़ा रहे थे। ए.एल.सी. के समक्ष वार्ताओं में कम्पनी में प्रबंधक पहले तो किसी भी मजदूर को काम पर लेने को तैयार न...

Read full news...


शव को फैक्टरी गेट पर रखकर मजदूरों ने किया प्रदर्शन


इफको में ठेका मजदूर की मौत


    इफको (आंवला) में 20 अगस्त को स्टोर के छत की गली हुई सीमेंट की चादर बदलने का काम चल रहा था। नरेश नाम का मजदूर जो रामबाबू के ठेके में मजदूरी का काम कर रहा था, सिर पर नयी सीमेंट की चादर लेकर छत पर चल रहा था कि पुरानी चादर टूटने से अचानक 40 फिट नीचे फर्श पर आ गिरा। उसे एम्बुलेंस में रखकर टाउनशिप में स्थित हाॅस्पिटल ले गये। वहां से एक डाक्टर, नरेश का भतीजा रवि, ठेकेदार रामबाबू नरेश को लेकर ए...

Read full news...


बीएचबी मेडिर्साइंस के मजदूर संघर्ष की राह पर


    रूद्रपुर/ 22 जुलाई को वीएचबी मेडिर्साइंस लि.(प्लाॅट न. 20,21,22,49,50,51, सेक्टर-5 सिडकुल पंतनगर उधमसिंह नगर) कंपनी के 55 मजदूर फैक्टरी गेट पर धरने पर बैठे थे। मजदूरों ने कंपनी द्वारा गैर कानूनी तरीके से 9 मजदूरों के गेट बंद करने के खिलाफ कार्य बहिष्कार किया हुआ है। 18 अगस्त 15 तक मजदूर फैक्टरी गेट पर बैठे थे। 19 अगस्त को मैनेजमेण्ट ने पुलिस के माध्यम से कोर्ट का स्टे आॅर्डर दिखाकर मजदूरों को फैक...

Read full news...


एक एनजीओ की लूट


    उत्तराखंड के लालकुआं कस्बे के बिन्दुखत्ता गांव में आजकल एक सरकारी संस्था एनजीओ सैटीन नाम से काम कर रही है जिसका उदेश्य गांव वालों को रोजगार के नाम पर 15-15 लोगों का एक ग्रुप बनाना और उनको 25-25 हजार का लोन देना है। जो लोग या महिलायें इस ग्रुप से जुड़ी है। उनको दो साल दो महीने के भीतर ब्याज सहित पूरी किस्तें चुकानी हैं जिससे ब्याज 5450 रुपये देना है। इस लोन को देने में इस संस्था द्वारा ब...

Read full news...


पोंण्डीचेरी के छात्र भी संघर्ष की राह पर


    पोंण्डीचेरी एक केन्द्र शासित व शांत प्रदेश होने की वजह से अधिकांशतः खबरों में नहीं आता। लेकिन पिछले 15 दिनों से पोंण्डीचेरी केन्द्रीय विश्व विद्यालय के छात्र इस खामोशी को तोड़कर सड़कों पर हैं। वे पिछली सरकार द्वारा 2013 में नियुक्त कुलपति चन्द्रा कृष्णामूर्ति के खिलाफ नारे लगाते हुए कक्षाओं का बहिष्कार किए हुए हैं। उनकी मांग है कि कुलपति चन्द्रा कृष्णामूर्ति को तत्काल बर...

Read full news...


मजदूरों की झोंपडि़यों पर गुण्ड़ों का हमला


    लालकुंआ उत्तराखण्ड नैनीताल जिले में बजड़ी कम्पनी नाम से एक कालोनी है। यहां पर एक स्टोन क्रेशर है जो लगभग 40-45 सालों से यहां लगा हुआ है। यह गोला नदी के खनन से चलता है। गोला से खनन आकर यहां रेत और बजड़ी छानकर अलग-अलग किया जाता है। जब यह कम्पनी यहां लगी थी तभी से जो मजदूर यहां काम करते थे उन मजदूरों को रहने के लिए जगह दी जिस पर उन मजदूरों ने अपने रहने के लिए झोंपड़ी बना रखी हैं। ये मजदू...

Read full news...


आॅटोलाइन मजदूरों का संघर्ष रंग लाया


14 मजदूरों का निलम्बन समाप्त


    रुद्रपुर/ 29 जून से जिलाधिकारी कार्यालय पर धरने पर बैठे आॅटोलाइन इण्डस्ट्रीज लि. के मजदूरों ने आखिरकार 10 अगस्त की देर रात को अपने 14 निलम्बित साथियों की कार्यबहाली के लिए मैनेजमेण्ट को मजबूर कर ही दिया। आॅटोलाइन के मजदूरों ने अपनी संगठित ताकत के दम पर निलम्बित साथियों की कार्यबहाली कर सिडकुल पंतनगर के मजदूरों में संघर्ष के प्रति एक प्रेरणा का संचार किया है। 

    ज्...

Read full news...


शहीद ऊधम सिंह की याद में सभा


रुद्रपुर/ 31 जुलाई को शहीद ऊधम सिंह की शहादत दिवस के अवसर पर इंकलाबी मजदूर केन्द्र द्वारा अन्य संगठनों व ट्रेड यूनियनों के साथ मिलकर ‘कौमी एकता मंच’ के बैनर तले डी.एम. कोर्ट परिसर में एक सभा की और शहीद ऊधम सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। सभा में बोलते हुए इंकलाबी मजदूर केन्द्र के अध्यक्ष कैलाश भट्ट ने कहा कि ऊधम सिंह अपने जीवनपर्यन्त साम्राज्यवाद से लड़ते रहे और अंततः शहीद हो ...

Read full news...


रामदरश की मौत का दोषी कौन ?


खुखुन्दू थाने में फरियादी की मौत का मामला


    उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद के खुखुन्दू थाने में बीते 5 अगस्त को घटी एक घटना ने न सिर्फ पुलिसिया चरित्र को उजागर कर दिया है। अपितु समूचे संवेदनहीन होते शासन-प्रशासन, समाज में मौजूद अंधविश्वास पूर्ण माहौल को भी सबके सामने ला दिया है। इस जघन्य वारदात ने समूची व्यवस्था पर कई तरह के प्रश्न खड़े कर दिये हैं। 

    ज्ञात हो कि यूपी के देवरिया जिले में खुखुन्दू थाना परिसर ...

Read full news...


साम्प्रदायिक उभार और आज की चुनौतियां


सेमिनार


    दिल्ली! 6 अगस्त को ‘साम्प्रदायिक उभार एवं आज की चुनौतियां विषय पर दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में एक सेमिनार आयोजित किया गया। इस सेमिनार में विभिन्न मजदूर एवं जनसंगठनों के कार्यकर्ताओं ने भागीदारी की। 

    सेमिनार में बात रखते हुए ‘मजदूर पत्रिका’ से जुड़े साथी संतोष ने कहा कि सभी सामाजिक समस्याओं की तरह साम्प्रदायिकता का एक निश्चित राजनैतिक अर्थशास्...

Read full news...


शिवम के ठेका मजदूरों का गुस्सा फूटा


    मानेसर (गुड़गांव) से 10 किमी दूर बिनौला में स्थित ‘शिवम आॅटोटेक लिमिटेड’ के ठेका मजदूरो का गुस्सा 15 जुलाई को फूट पड़ा। सभी ठेका मजदूरों ने अपनी मशीनों को बंद कर दिया। तथा एचआर डिपार्टमेंट के सामने इकट्ठा हो गये। मजदूर कम्पनी प्रबंधन द्वारा बेवजह ठेका मजदूरों की की जा रही छंटनी का विरोध कर रहे थे। 13 जुलाई को कम्पनी प्रबंधन ने दो ठेका मजदूरों को काम से निकाल दियां यहां तक कि म...

Read full news...


श्रम कानूनों में परिवर्तन पर विचार गोष्ठी


    केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की संघी सरकार ने अपने एक साल के कार्यकाल में श्रम कानूनों में कई बड़े फेरबदल प्रस्तावित कर दिये हैं। ये सभी फेरबदल पूंजीपतियों के संगठनों की वर्षों से की जा रही मांगों एवं द्वितीय श्रम आयोग की 2002 में आई सिफारिशों के अनुरूप ही हैं। यदि सरकार श्रम कानूनों में इन बड़े बदलावों को लागू करने में कामयाब हो जाती है तो मजदूर वर्ग आज से 100 साल पुरानी अधिकार वि...

Read full news...


सरकारी स्कूलों में मजदूरों के बच्चों की जान जोखिम में


दिल्ली के शाहबाद डेयरी स्थित उच्चतर माध्यमिक स्कूल, जिसे लोग लाल स्कूल के नाम से भी जानते हैं, में पिछले कुछ समय से लगातार छात्रों को करंट लग रहा है। लेकिन जब 16 जुलाई को सुबह की शिफ्ट में एक साथ आठवीं कक्षा की चार छात्राओं को करंट लगा और उन्हें अस्पताल में भर्ती करना पड़ा तो बच्चों के परिजनों के सब्र का बांध टूट गया। परिजनों के साथ स्थानीय लोगों ने इस घटना के विरोध में मुख्य बवाना रोड ...

Read full news...


आंशिक जीत के साथ मित्तर फास्टनर्स के मजदूरों की हड़ताल समाप्त


    रुद्रपुर/ 16 जून से मित्तर फास्टनर्स के मजदूरों की चल रही हड़ताल अंततः 3 जुलाई को समाप्त हो गयी। समझौता एस.डी.एम. की मध्यस्थता में सम्पन्न हुआ। समझौते मे दो निलंबित मजदूरों की कार्यबहाली, विकलांग मजदूरों को पेंशन व मुआवजे, न्यूनतम वेतन कटौती एरीयल के साथ भुगतान व पांच निष्कासित मजदूरों को सम्भावित राशि मैनेजमेण्ट देगा। यह समझौता कांग्रेस के नेताओं द्वारा करवाया गया। 

...

Read full news...


बंशी नगला के निवासियों ने एकता के दम पर हासिल की जीत


    बरेली के एक मोहल्ला बंशी नगला में पिछले दिनों सड़क बनाने को लेकर यहां के लोग सड़कों पर उतर आये। ये लोग पिछले कई वर्षों से नगर निगम व इस इलाके के विधायक राजेश अग्रवाल के यहां सड़क बनाने को लेकर मिल चुके थे लेकिन सड़क का निर्माण नहीं हो पा रहा था। बरसात में सिटी श्मशान भूमि से मढ़ीनाथ को जाने वाले कच्चे रास्ते में पानी भर जाता था जिससे लोगों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ता ...

Read full news...


निलंबित मजदूरों की कार्यबहाली व मांग पत्र के लिए आॅटो लाइन के मजदूरों का धरना जारी


यूनियन तोड़ने के लिए मैनेजमेण्ट का मजदूरों की एकता तोड़ने का प्रयास


    29 जून से आॅटोलाइन के मजदूर डी.एम. कार्यालय पर धरने पर बैठे हैं। आॅटो लाइन के मजदूरों ने अप्रैल माह में अपनी यूनियन पंजीकृत करवायी जिस कारण मैनेजमेण्ट ने अध्यक्ष, महामंत्री समेत 13 स्थायी मजदूरों को बिना सफाई का मौका दिये ही निलम्बित कर दिया। इससे पूर्व मजदूरों ने फैक्टरी में श्रम कानूनों को लागू करवाने के लिए एक मांगपत्र श्रमिक प्रतिनिधियों की ओर से दिया था जिसमें केबिन, बस, ...

Read full news...


मलेथा के आंदोलन ने उत्तराखण्ड सरकार को झुका दिया


    उत्तराखण्ड के पौड़ी जनपद के मलेथा में स्टोन क्रशरों को निरस्त करने के लिए स्थानीय ग्रामीणों ने 13 अगस्त 2014 से आंदोलन शुरू किया। 11 माह से आंदोलन कई पड़ावों से गुजरते हुए वर्तमान में उत्तराखण्ड सरकार मलेथा में पांचों क्रशरों को निरस्त कर दिया है। 

    मई 2015 मंे मलेथा की महिलाओं ने क्रशरों के निरस्तीकरण के लिए क्रमिक अनशन शुरू किया। 12 मई से विमला देवी व देव सिंह नेगी ने ...

Read full news...


मार्केट वर्कर्स एसोसिएशन ने दुकान से बंधुआ मजदूर को मुक्त कराया


    बरेली में बड़ा बाजार में अमर पेन हाउस के नाम से एक दुकान है। इस दुकान पर हर्षित नाम का एक लड़का पिछले कई सालों से बंधुआ मजदूर की तरह काम कर रहा था। जब इस लड़के ने कहीं और काम करना चाहा तो मालिक ने उस पर 25,000 रुपये उधार निकाल दिये और काम न छोड़ने के लिए दबाव बनाने लगा। 

    हर्षित जब काम पर लगा था तब मालिक ने उसके घर वालों से 3000 रुपये प्रति माह वेतन देने को कहा था लेकिन वेतन मा...

Read full news...


आॅटो लाइन के मजदूरों का धरना


    सिडकुल पंतनगर (ऊधमसिंह नगर) में आॅटोलाइन के 13 मजदूरों के निलम्बन के खिलाफ मजदूरों का संघर्ष जारी है। 27 जून को एएलसी रुद्रपुर की मध्यस्थता में हुई त्रिपक्षीय वार्ता में कम्पनी प्रबंधक 15 जून को हुई वार्ता में अपने ही आश्वासन से मुकर गया मजदूरों को आंदोलन स्थगित रखने एवं और अधिक समय देने की मांग करने लगा। यूनियन नेतृत्व द्वारा कम्पनी प्रबंधकों पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए ...

Read full news...


एफटीआईआई के छात्रों के समर्थन में दिल्ली में प्रदर्शन


    गजेन्द्र चौहान की नियुक्ति के खिलाफ व फिल्म एण्ड टेलीविजन इंस्टीट्यूट आॅफ इण्डिया (एफटीआईआई) के छात्रों के समर्थन में दिल्ली में विभिन्न जनवादी व छात्र संगठनों द्वारा 16 जून को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के बाहर प्रदर्शन किया गया। 

    गौरतलब है कि गजेन्द्र चौहान 2004 से भाजपा के सदस्य रहे हैं। 10 जून को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के आदेश पर उन्हें भारतीय फिल्म एवं...

Read full news...


उत्तेजित ओरियण्ट गारमेण्ट फैक्टरी के मजदूरों ने की आगजनी


    गुड़गांव के सेक्टर-37 स्थित ओरियन्ट क्राफ्ट कम्पनी में एक बार फिर मजदूरों का आक्रोश फूट पड़ा। गुस्साये मजदूरों ने कंपनी परिसर में खड़ी दर्जन भर से ज्यादा गाडि़यों में तोड़फोड़ की तो कुछ को आग के हवाले कर दिया तथा कम्पनी में भी तोड़फोड़ की। 

    20 जून को आम दिनों की तरह मजदूर काम पर गये हुए थे। सुबह 9 बजे के आसपास मजदूरों ने देखा कि पवन नाम का उनका साथी सामान ढोने वाली ल...

Read full news...


मित्तर फास्टनर्स के मजदूर हड़ताल पर


    विगत दिनों में दो निलंबित मजदूरों को काम पर वापस लेने पर सहमति बनी थी। परन्तु मैनेजमेण्ट की वादा खिलाफी के विरोध में मित्तर फास्टनर्स के मजदूरों ने 16 जून से हड़ताल कर दी है। 16 की सुबह 5 बजे से ही मजदूर फैक्टरी गेट पर एकत्र हो गये। फैक्टरी में लगभग 70 मजदूर कंपनी बेस पर काम करते हैं। उनमें से 55-60 मजदूर हड़ताल पर आ गये। इनके अलावा लगभग 30-40 मजदूर ठेकेदार के कम्पनी में कार्यरत हैं। कुछ ...

Read full news...


आपातकाल और फासीवाद के खिलाफ गोष्ठी


    बलिया, 26 जून 2015 को क्रान्तिकारी लोक अधिकार संगठन द्वारा ‘आपात काल के काले दिनों को याद करो, फासीवाद की ओर बढ़ते ‘अच्छे दिनों’ का विरोध करो! विषय पर गोष्ठी आयोजित की गयी। स्थानीय उच्च माध्यमिक विद्यालय उससा में विचार गोष्ठी में इन्कलाबी मजदूर केंद्र, किसान फ्रन्ट, एसयूसीआई सहित किसानों, मजदूरों के हमदर्दों ने भागीदारी की। 

    गोष्ठी के मुख्य वक्ता किसान फ्रन्...

Read full news...


पंतनगर विश्वविद्यालय में ठेका मजदूरों का तीव्र शोषण


    पंतनगर विश्वविद्यालय में पिछले 10-15 वर्षों से लगातार अति अल्प न्यूनतम मजदूरी पर कार्यरत ठेका मजदूरों को श्रम नियमानुसार देय अति आवश्यक सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं। इतने वर्षों से लगातार कार्यरत होने के बावजूद आज तक बोनस नहीं दिया गया। प्रशासन विश्व विद्यालय शिक्षण संस्था होने के नाते प्रशासन को उत्पादन से जुड़ा बोनस देने न देने की छूट है बावजूद अपने कर्मचारियों को तदर्थ ब...

Read full news...


अशोक लिलैण्ड के मजदूरों को आक्रोश फूटा


    सिडकुल पंतनगर (रुद्रपुर) में एक अंतर्राष्ट्रीय कंपनी अशोक लिलैण्ड भारतीय व जापानी पूंजी का साझा उपक्रम है। जहां सही प्रोडक्शन होने पर करीब 7000 मजदूर स्थायी, ट्रेनी व ठेकेदार के काम करते हैं। इस कंपनी में बस, ट्रक व डम्पर के साथ-साथ छोटी व मध्यम ‘वास’ व ‘दोहत’ जैसी गाडि़यां बनायी जाती हैं। यहां पर एनटीटी व ओपन यूनिवर्सिटी के माध्यम से टेक्नीकल छात्रों को पढ़ाया जाता है व...

Read full news...


अभी और चलना है संघर्ष की राह पर


    दमन विरोधी संघर्ष समिति, वीरपुर लच्छी रामनगर के तत्वाधान में 9 जून 2015 को एस.डी.एम. कार्यालय पर धरना दिया गया। ज्ञात हो कि वीरपुर लच्छी ग्रामवासी और रामनगर की इंसाफपसंद जनता लम्बे समय से खनन माफिया की गुण्डागर्दी के खिलाफ संघर्षरत हैं। इसी संघर्ष के दौरान खनन माफिया सोहन सिंह और डी.पी.सिंह द्वारा नागरिक सम्पादक मुनीष कुमार और उपपा महासचिव प्रभात ध्यानी पर हमला करवाया था जिसम...

Read full news...


अटाली में साम्प्रदायिक हिंसा


. अल्पसंख्यक मुसलमानों पर लाठी-डण्डों से हमला, घरों मे आगजनी एवं लूटपाट।

. मस्जिद में कानूनन हो रहे निर्माण कार्य को जबरन विवादित बनाया गया।

. पुलिस-प्रशासन बना संघी आकाओं की कठपुतली, अभी तक एक भी गिरफ्तारी नहीं।

. बेहद डरे हुए हैं अल्पसंख्यक मुसलमान, कुछ गांव छोड़ने का भी बना रहे हैं मन।


    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से लगे फरीदाबाद के अटाली ग...

Read full news...


आॅटोलाइन कम्पनी प्रबंधन का नवगठित यूनियन पर हमला


    सिडकुल पंतनगर (उत्तराखण्ड) के सैक्टर-11, टाटा वैण्डर पार्क के प्लाॅट संख्या- 5,6 एवं 8 में अवस्थित आॅटोलाइन इण्डस्ट्रीज कंपनी के मजदूरों ने 11 अप्रैल 2015 को अपनी यूनियन पंजीकृत कराई। यूनियन का नाम ‘आॅटोलाइन इम्प्लाइज यूनियन’ रखा गया। इस कंपनी में लगभग 150 स्थाई, 70 कैजुअल/ट्रेनी एवं 300 से अधिक ठेका मजदूर कार्यरत हैं। यह कंपनी टाटा मोटर्स के लिए पार्ट्स बनाती है। मजदूरों का न्यूनतम ...

Read full news...


मित्तर फास्टनर्स के दो मजदूरों की कार्यबहाली के साथ संघर्ष विराम


    10 जून को मित्तर फास्टनर्स के मजदूरों व मैनेजमेण्ट की एडीएम से वार्ता हुयी इसमें दो निलंबित मजदूरों की कार्यबहाली का समझौता प्रशासनिक दबाव के कारण सम्पन हुआ। चार मजदूरों के निष्कासन का मामला एएलसी ने डीएलसी को ट्रांसफर कर दिया। 11 जून के दोपहर बाद मजदूरों ने डी.एम. कोर्ट पर धरना समाप्त कर दिया। 

    विगत 23 मई से मित्तर फास्टनर्स के मजदूर डी.एम. कोर्ट रुद्रपुर उधमसिंह...

Read full news...


सांस्कृतिक प्रतिरोध की चुनौतियां


कविताः 16 मई के बाद


    दिल्ली/ केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की ताजपोशी और भाजपानीत राजग गठबंधन के सत्तारूढ़ होने के बाद साम्प्रदायिक फासीवाद के उभार के अल्पसंख्यकों पर बढ़ते हमले, लव जिहाद, धर्मांतरण (घर वापसी), शिक्षा के भगवाकरण, विज्ञान कांग्रेस, इतिहास परिषद सहित शैक्षणिक सांस्कृतिक वैज्ञानिक संस्थाओं के फासीवादी करण की मुहिम के खिलाफ सांस्कृतिक प्रतिरोध की चुनौतियों का चिह्नित करते हुए ‘&ls...

Read full news...


नेपाल में फिर से भूकंप में 57 लोग मरे


    12 मई को एक बार फिर नेपाल भूकम्प से दहल उठा। पहले से ही भूकम्प से मौतों, गुमशुदा, घायलों व भारी नुकसान झेल रहे नेपाल में इस भूकम्प में 57 लोगों की मौत हो गयी और 1117 लोग घायल हो गये। 12ः30 बजे से लेकर 2 बजे के बीच में 8 बार भूकम्प के झटके महसूस किये गये। यह 4.1 से लेकर 7.3 तीव्रता के भूकम्प के झटके थे। भूकम्प का केन्द्र नेपाल के दोलाखा...

Read full news...


सरकार नाकाम, राजनैतिक दल निष्क्रिय पर पूरे हौंसले से जूझती जनता


नेपाल में भूकम्प प्रभावित क्षेत्रों की रिपोर्ट


    नेपाल में 25 अप्रैल को आये भूकम्प जिसकी तीव्रता 7.9 थी जिसने नेपाल में भारी तबाही मचायी। इस भूकम्प के कारण जहां कई हजार लोगों की जान चली गयी। वहीं लाखों लोग बेघर हो गये। टीवी चैनलों के माध्यम से जितना दिखाया जा रहा है नुकसान उससे कहीं ज्यादा है। टीवी चैनलों का मुख्य केन्द्र जहां काठमाण्डू तक सीमित है जिसमें धरहरा टा...

Read full news...


मुंजाल आॅटो के मालिक की मनमर्जी


    मुंजाल आॅटो इण्डस्ट्रीज लिमिटेड, प्लाॅट न. 37, सेक्टर-5, फेज-III ग्रोथ सेन्टर बावल, जिला रेवाडी में लगभग 100 मजदूरों को लेकर 1 जुलाई 2009 से उत्पादन शुरू हुआ था। उस समय इस प्लांट में हीरो ग्रुप की दोपहिया गाड़ी के एक-दो माॅडलों के लिए ही पार्ट्स तैयार किये जाते थे। और आज सभी माॅडलों के लिए पार्ट्स तैयार कियेे जाते हैं। 

    इस समय इस प्लांट में 350 ठेक...

Read full news...


ऐप्प पेपर कम्पनी में मजदूरों की जान के साथ खिलवाड़


    ऐप्प (APP) पेपर प्राइवेट लिमिटेड बावल रेवाडी के सेक्टर-6 प्लाॅट न. 122 बी में स्थित है। जो पिछले 6 महीनों से ही चालू हुई है। इसमें अभी 30-35 मजदूर ही काम करते हैं। इनमें महिला मजदूर भी काम करती हैं। 

    कम्पनी में काम कर रहे सभी मजदूर बीएमएस (बालकपुरी मैन पाउर साल्यूश्न) ठेकेदारी के तहत काम करते हैं जो रेवाडी क्षेत्र में मजदूर का पैसा मारने और डरा-धमकाकर काम करने के लिए कुख्या...

Read full news...


उत्तराखण्ड सरकार व माफिया गठजोड़ के खिलाफ दिल्ली में प्रदर्शन


    उत्तराखण्ड सरकार और खनन माफिया के गठजोड़ के खिलाफ 5 मई 2015 को दमन विरोधी संघर्ष समिति ग्राम वीरपुर लच्छी के आहवान पर दिल्ली में धरना प्रदर्शन का कार्यक्रम किया गया। वीरपुर लच्छी, बाजपुर, गदरपुर, पटरानी, ढेला, सांवल्दे, मालधन, रामनगर, पीरूमदारा, लेटी, सुन्दरखाल आदि गांवों-कस्बों से लोग बड़ी संख्या में बसों में सवार हो...

Read full news...


विभिन्न स्थानों पर फूटा गुस्सा


    31 मार्च को थारी रामनगर में ‘नागरिक’ सम्पादक मुनीष कुमार और उत्तराखण्ड परिवर्तन पार्टी के महासचिव प्रभात ध्यानी पर हुए हमले के विरोध में और वीरपुर लच्छी गांववासियों की न्याय संगत मांगों के पक्ष में तमाम जगह घरना-प्रदर्शन हुए। रामनगर, नैनीताल व हल्द्वानी के वकील न्याय कार्यों से विरत रहे।  यह धरना प्रदर्शन 1 अप्रैल से लेकर 13 अप्रैल तक चलते रहे। 

दिल्ली- 2 अ...

Read full news...


बिना डरे, बिना झुके, संघर्षरत हैं वीरपुर लच्छी के ग्रामीण


    1 मई 2013 का वाकया है। ढिल्लन स्टोन क्रेशर स्वामी सोहन सिंह, उसके दोनों लड़के डी.पी.सिंह व सनी ने गुण्डों के साथ वीरपुर लच्छी पर हमला बोल दिया था। उन्होंने बुक्सा जनजाति के 3 लोगों के घरों में आग लगा दी। गांव में फायरिंग की। महिलाओं व ग्रामीणों को बंदूक की बटों से बुरी तरह मारा। हमला करने के बाद भी वे मौके से भागे नहीं, रास्ता रोक कर वहीं पर खड़े रहे। मौके पर पहुंची पुलिस के एक अधिका...

Read full news...


6 अपैल को वीरपुर लच्छी महापंचायत में पारित प्रस्ताव


1.    खनन माफिया सोहन सिंह, डी.पी.सिंह व हमले में शामिल अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। मुकदमें में दफा 307 व 326 लगायी जाए। 

2.    ग्राम वीरपुर लच्छी में बुक्सा जनजाति के किसानों के खेतों पर डम्परों/भारी वाहनों का संचालन बंद रहेगा। इसमें भारी वाहन चलाने वाले पर एस/एसटी एक्ट में मुकदमा कायम किया जाए। 

3.    नदियों में खनन, रेता, बजरी इत्यादि उपखनिज के विपणन, उप...

Read full news...


इंडियन आॅयल कंपनी से निकाले गये सफाई कर्मचारी


    फरीदाबाद सैक्टर-13 स्थित इंडियन आॅयल कंपनी के ‘रिसर्च और डवलपमेंट प्लांट’ से 150 ठेका मजदूरों को अप्रैल माह के शुरू में निकाल दिया गया है। जिसमें सफाई कर्मचारी और आफिस में काम करने वाले चतुर्थ क्षेणी कर्मचारी शामिल हैं।

    इंडियन आॅयल कंपनी के इस प्लांट में प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन, सफाई कर्मचारी, गार्डनर आदि सभी ठेके के कर्मचारी हैं और अलग-अलग विभागों के लिए अलग-अ...

Read full news...


लाल ट्रेड यूनियन की जरूरत भेल मजदूरों को भी है


    भारत हैवी इलैक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) भारत सरकार का एक सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है। हरिद्वार में इसके दो प्लाण्ट हैं- एच.ई.ई.पी. और सी.एफ.एफ.पी.। हरिद्वार स्थित बी.एच.ई.एल. के प्लांट इसके सबसे बड़े प्लाण्टों में से है। टरबाइन, जेरनेटर और ट्रांसफार्मर बनाने में देश के भीतर बी.एच.ई.एल. का एकाधिकार है। देश में उत्पादित होने वाली ऊर्जा का 70 प्रतिशत बी.एच.ई.एल. द्वारा निर्मित उपकरणो...

Read full news...


मारुति के मजदूरों की जमानत के दौरान फिर दिखा पूंजीवादी मशीनरी का वर्गीय चरित्र


    23 फरवरी 2015 को मारुति के 2 मजदूरों की सर्वोच्च अदालत से जमानत होने के बाद 79 मजदूरों की जमानत की अर्जी गुड़गांव की स्थानीय अदालत में लगायी गयी। जमानत की अर्जी के दौरान 11 मार्च को सुनवाई हुई। मजदूरों की तरफ से सर्वोच्च अदालत की वकील वृंदा ग्रोवर ने बहस की। सुनवाई के बाद फैसला रिजर्व रखा गया और 17 मार्च की तारीख मिली। 17 मार्च को इन मजदूरों को जमानत मिल गयी। लेकिन 11 मार्च की सुनवाई के द...

Read full news...


सुजुकी बाइक प्लाण्ट में मजदूरों का समझौता सम्पन्न


    सुजुकी प्रबंधन के अडियल रुख के बावजूद सुजुकी बाइक प्लाण्ट के मजदूरों का संघर्ष जारी रहा और अंततः 25 मार्च को उनका समझौता सम्पन्न हो गया। समझौते के तहत- 1. तीन सालाना वेतन वृद्धि में 14500 रुपये(60प्रतिशत, 20 प्रतिशत, 20 प्रतिशत), 2. कन्वेंस में जनवरी माह तक 35 किमी तक और आगे से 55 किमी तक 50 प्रतिशत प्रबंधक द्वारा और 50 प्रतिशत मजदूर वहन करेंगे। 3. ट्रेनी मजदूरों के लिए ट्रेनिंग तीन साल के बजाय अ...

Read full news...


वेतन वृद्धि व त्रिवर्षीय समझौते को लेकर मोजर बेयर के श्रमिक संघर्ष की राह पर


    मोजर बेयर इंडिया लि. दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के उद्योग विहार में स्थित है। विगत 27 फरवरी से मोजर बेयर के श्रमिक वेतन वृद्धि एवं त्रिवर्षीय समझौते को लेकर संघर्ष की राह पर हैं। 

    मजदूरों व प्रबंधन के बीच मौजूदा त्रिवर्षीय समझौता 31 मार्च 2015 को समाप्त होने वाला है। कंपनी में चूंकि कोई यूनियन नहीं है बल्कि वर्कर्स कमेटी है। पिछले समयों में लगातार बढ़ती महंगाई के ब...

Read full news...


जोशो-खरोश से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक महिला दिवस


8 मार्च को दिल्ली, उत्तराखण्ड व उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों में प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक महिला दिवस की विरासत को याद करते हुए, बिरादराना व प्रगतिशील संगठनों के साथ मिलकर अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक महिला दिवस मनाया गया। अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक महिला दिवस से पहले सभी इकाइयों द्वारा सप्ताह भर रिहायशी व औद्योगिक इलाकों तथा अलग-अलग फैक्टरियों आदि मे...

Read full news...


31 माह बाद मारुति के दो मजदूरों को मिली जमानत


    अंततः 31 माह यानी 2 वर्ष 7 माह बाद मारुति के दो मजदूरों को जमानत मिल गयी। इन वर्षों में शासन-प्रशासन और न्यायपालिका ने अपनी पूरी ताकत लगा दी कि वे मजदूरों के हौंसलों को तोड़ दें लेकिन मजदूरों ने हिम्मत नहीं छोड़ी। अंत में न्यायपालिका को मजबूर होकर दो मजदूरों की जमानत अर्जी स्वीकार करनी पड़ी। 

    18 जुला...

Read full news...


और मजदूरों का गुस्सा फूट पड़ा...


    12 फरवरी को गुड़गांव के डूंडाहेरा स्थित उद्योग बिहार में गौरव इंटरनेशनल फैक्टरी के मजदूरों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने कई गाडि़यों को आग के हवाले कर दिया। घटना की पृष्ठभूमि में प्रबंधकों व उनके बाउंसरों द्वारा एक मजदूर की बुरी तरह पिटाई करना था। 

    समीचंद नाम का एक मजदूर 10 फरवरी को 10 मिनट लेट आया। यह मजदूर पिछले दो दिनों से बीमार था। और दो दिन छुट्टी करने के बाद ...

Read full news...


प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में भ्रष्टाचार के खिलाफ फूटा आक्रोश


    बलिया, 24 फरवरी 2015 विकासखण्ड पन्दह ‘‘क्षेत्रीय संघर्ष समिति गढ़मलपुर-सहुलाई द्वारा आयोजित कार्यक्रम में स्थानीय सैकड़ों ग्रामीणों ने प्रा.स्वा. के. के गेट पर धरना एवं जनसभा की। स्थानीय  ग्रामीणों ने पंचायत भवन से ‘हमारी मांगें पूरी हो’ नारा लगाते हुए जुलूस निकाला। जुलूस व जनसभा में क्रालोस, इमके व किसान फ्रंट सहित महिलाएं भी प्रतीकात्मक शामिल रहे। 

    ज्...

Read full news...


एच एम टी घड़ी कारखाना मजदूरों द्वारा धरना-प्रदर्शन


    एच एम टी घड़ी कारखाना जो कि सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है तथा उत्तराखंड के रानीबाग (नैनीताल) में 1982 में स्थापित किया गया था।सरकार द्वारा तब यह बात कही गई कि आर्थिक रूप से पिछड़े पर्वतीय क्षेत्र के युवाओं को रोजगार दिया जायेगा।  एचएमटी को भारत में मैकेनिकल घडि़यों के उत्पादन के लिए जाना जाता है, जो कि अब बंदी की कगार पर है। लगभग 45 करोड़ रूपये के देशी-विदेशी ऋण से स्थापित यह का...

Read full news...


उत्तराखण्ड निवास पर विरोध प्रदर्शन


    उत्तराखण्ड राज्य के हरिद्वार में स्थित एवरेडी कम्पनी के आंदोलनकारी मजदूरों व उनके परिजनों पर 7 फरवरी को उत्तराखण्ड पुलिस ने दमन किया। इस दमन के खिलाफ दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के मजदूर-छात्र प्रगतिशील व सामाजिक संगठनों ने दिल्ली स्थित उत्तराखण्ड निवास पर 11 फरवरी को संयुक्त विरोध-प्रदर्शन किया।

    प्रदर्शनकारियों ने चाणक्यपुरी पुलिस स्टेशन से उत्तराख...

Read full news...


एवरेडी के मजदूरों के दमन के विरोध में श्रमिकों ने निकाला जुलूस


    11 फरवरी को हरिद्वार में सिडकुल मजदूर संगठन ने एवरेडी के मजदूरों के दमन व अन्य मजदूर नेताओं पर लाठीचार्ज किये जाने के विरोध में जुलूस निकाला। इस जुलूस में आईटीसी, एवरेडी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, वीआईपी, राॅकमैन, विप्रो, सत्यम, हीरो मोटो कार्प आदि कंपनियों के सैकड़ों मजदूर शामिल थे।

     पुलिस ने जुलूस में शामि...

Read full news...


ठेका प्रथा समाप्त कर नियमितीकरण के लिए पन्तनगर ठेका मजदूरों की सभा


    गोविन्द बल्लभ पन्त कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्व विद्यालय पन्तनगर, जिला ऊधम सिंह नगर, (उत्तराखण्ड) के गांधी पार्क में इन्कलाबी मजदूर केन्द्र तथा ठेका मजदूर कल्याण समिति के तत्वावधान में सभा का आयोजन किया गया। सभा में वक्ताओं ने कहा कि पन्तनगर विवि में पिछले 10-15 वर्षों से लगातार कार्यरत ठेका मजदूरों को आवास, अवकाश, बोनस, बीमा, सुरक्षा उपकरण, ई.एस.आई. चिक...

Read full news...


ऐरा मजदूरों की शानदार जीत


18 मजदूर नेताओं की पंतनगर प्लाण्ट में वापसी


रुद्रपुर/ ऐरा मजदूरों का संगठित संघर्ष एवं कुशल नेतृत्व रंग लाया। 3 फरवरी 2015 को समस्त 18 मजदूर नेताओं की सिडकुल पंतनगर प्लाण्ट में वापसी हो गयी है। ज्ञात हो कि 21 जुलाई 2014 को कंपनी प्रबंधकों-शासन-प्रशासन के अन्यायी गठजोड़ ने मजदूरों की नवगठित यूनियन को तोड़ने का घृणित षडयंत्र रचा। 21 जुलाई को यूनियन के ध्वजारोहण कार्यक्रम के दौरान षड्यंत्र के तहत पुलिस द्वारा मजदूरों पर बर्बर लाठीचार...

Read full news...


इम्पीरियल आटो: ठेका प्रथा, मेहनत की लूट और तरक्की की मिसाल


    इम्पीरियल आटो की शुरूआत सन् 1969 में एक छोटी सी वर्कशाॅप से हुई थी। इसके मालिक जगजीत सिंह और श्याम बिहारी सरदाना हैं। 31 मार्च, 1998 तक यह पार्टनरशिप कंपनी में चलने वाली प्राइवेट और अपै्रल, 1998 से यह प्राइवेट लिमिटेड कंपनी हो गयी। एक वर्कशाॅप से शुरू होकर एक बड़े उद्योग का रूप बन चुकी है। फरीदाबाद में इसके 16 प्लांट हैं और रुद्रपुर, लखनऊ, जमशेदपुर, पुणे, चेन्नई, गुजरात में भी प्लांट हैं।...

Read full news...


एवरेडी मजदूरों का संघर्ष जारी है.....


मैनेजमेन्ट द्वारा गैर कानूनी तालाबंदी कर 144 मजदूरों का निलम्बन


    एवरेडी इण्डिया इण्डस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी हरिद्वार सेक्टर-12 प्लाट न. 6 में स्थित है। इस कम्पनी में 122 स्थाई मजदूर हैं। फैक्टरी प्रबंधन ने 1 दिसम्बर 2014 को फैक्टरी में गैर कानूनी तालाबंदी कर 144 मजदूरों को निलम्बन कर दिया था। और तभी से मजदूर अपने निलम्बित साथियों का निलम्बन समाप्त कराने के लिए संघर्ष के विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी बीच मजदूरों और प्रबंधन क...

Read full news...


झांकी के माध्यम से किया ओबामा का विरोध


    बरेली/ 26 जनवरी को प्रगतिशील सांस्कृतिक मंच ने भारत में ओबामा यात्रा के विरोध में एक झांकी का आयोजन किया व सभाएं कीं। मंच ने झांकी का आरम्भ बरेली काॅलेज गेट से किया और अय्यूब खां चैराहा, इन्दिरा मार्केट होते हुए घण्टाघर पर झांकी का समापन किया। झांकी में क्रांतिकारी गीत व अमरीकी राष्ट्रपति के खिलाफ व्यंग गीत भी गाये गये। 

    झांकी में सभा को सम्बोधित करते हुए मंच के...

Read full news...


अमेरिकी साम्राज्यवाद का पुतला दहन


हरिद्वार/ ओबामा की भारत यात्रा के खिलाफ 25 जनवरी को सभा व अमेरिकी साम्राज्यवाद का पुतला दहन किया गया। पुलिस प्रशासन द्वारा सभा को शुरू में ही रोक दिया गया। पुलिस-प्रशासन की यह कार्यवाही जनता के बोलने की स्वतंत्रता के खिलाफ हैं। 25 जनवरी के कार्यक्रम को सफल बनाने और ओबामा की गणतंत्र दिवस पर भारत यात्रा का भारत की मेहनतकश जनता पर दूरगामी असर को बताते हुए जन सम्पर्क अभियान चलाया गया। शह...

Read full news...


पुलिस ने पोस्टर फाड़े


    काशीपुर शहर में ओबामा को गणतंत्र दिवस का मुख्य अतिथि बनाये जाने के विरोध में लगाये गये पोस्टरों को पुलिस ने एक-एक कर फाड़ डाला। पुलिस की इस कार्यवाही से समझा जा सकता है कि वे किस हद तक गिर गये हैं। शहर में चिपकने वाले अश्लील फिल्मी पोस्टरों व महिलाओं के अभद्र तरीके से पेश करने वाले विज्ञापनों पर इन्हें कोई परेशानी नहीं होती है परन्तु भारत की स्वतंत्रता, सम्प्रभुता के खतरे पर...

Read full news...


उत्तराखण्ड सरकार ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उड़ाया मजाक


पोस्टर लगाने पर इमके-पछास के कार्यकर्ता किये गिरफ्तार


    रुद्रपुर/ अमरीकी राष्ट्रपति को भारत के गणतंत्र दिवस का मुख्य अतिथि बनाये जाने का विरोध उत्तराखण्ड सरकार को रास नहीं आया। रुद्रपुर के प्रशासन ने 21 जनवरी को इंकलाबी मजदूर केन्द्र के अध्यक्ष कैलाश भट्ट व परिवर्तनकामी छात्र संगठन के केन्द्रीय कार्यकारिणी सदस्य महेन्द्र को गैर कानूनी ढंग से गिरफ्तार किया। 

    अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को गणतंत्र दिवस पर मुख्...

Read full news...


न्याय के लिए सड़कों पर उतरी महिलाएं


    19 जनवरी को रामनगर जिला नैनीताल में महिलाओं का एक जुलूस शहर में निकला। जुलूस में कई तलाक सम्बन्धी मामलों को कोर्ट में लड़ रही महिलाएं, समाज की तमाम जागरूक महिलाएं-पुरुष शामिल रहे। 

    महिलाओं की उपरोक्त मांगें समाज में महिलाओं की स्थिति और भारतीय कानून व्यवस्था की स्थिति को तीखे ढंग से उजागर कर देती हैं। ससुराल में पीडि़त महिलाएं यूं तो...

Read full news...


बेलसोनिका आॅटो कम्पोनेन्ट के मजदूर और पूंजीवादी कानून


    बैलसोनिका आॅटो कम्पोनेन्ट इण्डिया कम्पनी आईएमटी मानेसर गुड़गांव के सेक्टर-8, प्लाट न. 1 में मारुति कम्पनी की चारदिवारी के अंदर है और मारुति कम्पनी की बैण्डर है।

    इस कम्पनी का एमडी काजुताका सुजुकी है और जेएमडी ईशीकाशा है। सन् 2008 में यह कम्पनी लगी थी। उस समय कम्पनी में 150 मजदूर काम करते थे और सन् 2010 में कम्पनी का विस्तार दुगुना हो गया। और इस समय इसमें 500 मजदूर काम करते है...

Read full news...


लालकुंआ में दंगा भड़काने की कोशिश फिलवक्त नाकाम


    एक लड़का और एक लड़की के सामान्य से प्रेम सम्बन्ध कैसे ‘लव-जिहाद’ का मामला बन जाता है तथा उसके कारण पूरे शहर का माहौल कैसे साम्प्रदायिक हो जाता है। इसका एक ताजा उदाहरण उत्तराखण्ड के नैनीताल जिले में स्थित लालकुंआ शहर में सामने आया। 

    लालकुंआ में 10 दिसम्बर को बियरशिवा (हल्द्वानी) में पढ़ने वाली कक्षा 9 की छात्रा (16वर्ष) लंच टाईम क...

Read full news...


मजदूरों ने मृतक मजदूरों के शवों के साथ फैक्टरी पर घेरा डाला


जीवा डिजायन के दो मजदूरों की मौत


    डी.एल.एफ. इंडस्ट्रियल एरिया फेज-प् फरीदाबाद में एक्सपोर्ट लाइन की एक कंपनी जीवा डिजाइन के 3 मजदूर रात के एक बजे ओवरटाइम करके बाईपास रोड़ से पैदल ही अपने घर जा रहे थे कि पीछे से आ रही एक तेज रफ्तार गाड़ी ने उन्हें टक्कर मार दी। दो मजदूरों, इलाहाबाद के अवधेश कुमार एवं मऊ के त्रिभुवन की मौके पर ही मौत हो गयी। तीसरे मजदूर मनोज कुमार के पैर में फ्रैक्चर एवं कुछ अन्य चोटें आई हैं। मरने ...

Read full news...


दिल्ली से अवैध तरीके से कंपनियों का पलायन जारी


    दिल्ली, मंगोलपुरी स्थित साॅफ्ट आप्शन प्रा.लि. के मालिकान ने अवैध तरीके से ग्रेटर नोएडा(उ.प्र.) स्थानांतरित करके मजदूरों को जबर्दस्ती स्वैच्छिक सेवा अवकाश (वी.आर.एस.) लेने पर मजबूर कर दिया। गौरतलब है कि एक माह पूर्व ओखला स्थित वेयरवैल प्रा.लि. ने अपने सैंपलिंग विभाग को ग्रेटर नोएडा स्थानांतरित कर मजदूरों को स्वैच्छिक सेवा अवकाश (वी.आर.एस.) लेने के लिए मजबूर कर दिया था।

   ...

Read full news...


ऐरा मजदूरों का आंदोलन जारी


    सिडकुल पंतनगर की ऐरा बिल्डिसिस लि. कम्पनी के मजदूर विगत 15 अक्टूबर 2014 से डी.एम.कार्यालय रुद्रपुर में 18 निलम्बित मजदूरों की कार्यबहाली, मजदूर नेताओं पर दर्ज झूठे मुकद्मे वापिस लेने आदि मांगों को लेकर अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे हैं। 

    ऐरा श्रमिक संगठन द्वारा रविवार एवं दीपावली में भी धरना जारी रखा गया। दिनांक 27 अक्टूबर को सिडकुल पंतनगर की दर्जनों यूनियनों एवं मज...

Read full news...


फैक्टरी मालिक के खिलाफ एक महिला का संघर्ष


    किच्छा रुद्रपुर उधमसिंहनगर चुकटी देवरयिा गांव में मैसर्स ज्योति पैकेजिंग इण्डिया नाम की फैक्टरी है जो कैमिकल लगाकर गत्ता तैयार करती है। यह फैक्टरी गीता देवी परिहार के मकान के ठीक सामने है। इससे कैमिकल से गीता देवी का मकान दहल गया और मकान में दरार पड़ गयी गीता देवी परिहार ने अपने जुझारू संघर्ष के दम पर फैक्टरी मालिक खीमा सिंह विष्ट को फैक्टरी हटाने को मजबूर कर दिया। 

...

Read full news...


बेस्टर मजदूरों का जुझारू संघर्ष और हमलावर प्रबंधक


    बेस्टर इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड, प्लाट न.-183, सेक्टर-5, आईएमटी मानेसर गुड़गांव में सन् 2002 से स्थित है। यह अमेरिकी कम्पनी है। इसके भारत में तीन प्लाण्ट हैं। गुड़गांव के अलावा इसका एक प्लाण्ट महाराष्ट्र में व एक प्लाण्ट चेन्नई में है। गुड़गांव वाले प्लाण्ट को खोलने से पहले दिल्ली में यह एक छोटे स्तर पर काम करती थी। परन्तु मजदूरों के श्रम की लूट की बदौलत आज यह एक बड़ी कम्पनी का रू...

Read full news...


एल.जी.बी. के मजदूरों ने यूनियन बनायी


एलजीबी के मजदूरों का जुझारू संघर्ष जारी


    सिडकुल के सेक्टर 9 प्लाण्ट न. 16 में एलजीबी फैक्टरी है जो बजाज की बेण्डर है। यह बजाज के लिए चेन-स्पोकर बनाती है। और पिछले लगभग 4-5 सालों से यह काम करती है। इसमें उत्तराखण्ड-पूर्वी उत्तरप्रदेश के मजदूर काम करते हैं। इसमें उत्तराखण्ड के मजदूरों की संख्या अधिक है। यहां पर महिला मजदूर भी हैं। जिनकी संख्या 120 है। कुल मजदूरों की संख्या 875 हैं जिसमे 65 मजदूर स्थायी तौर पर काम करते हैं बाकी ...

Read full news...


सूर्या के मजदूरों एवं महिलाओं ने ए.एल.सी. का घेराव कर हासिल किया अपना बोनस


    सूर्या रोशनी लि. काशीपुर के मजदूरों का क्रमिक अनशन डी.एम. कार्यालय पर जारी है। 26 मई को डी.एल.सी. हल्द्वानी में परिवार की महिलाओं-बच्चों के साथ प्रदर्शन करने के बाद वहां से 5 दिन के भीतर प्रबंधकों के साथ ए.एल.सी. रुद्रपुर की मध्यस्थता में वार्ता का पत्र मिलने के बाद मजदूरों का एएलसी रुद्रपुर की ओर से 1 जून की वार्ता का पत्र प्राप्त हुआ। मजदूर वार्ता की बाट जोहने लगे। 

    ...

Read full news...


बजाज के मजदूरों ने आंशिक जीत हासिल की


    पंतनगर सिडकुल में मेन बजाज और एलजीबी के मजदूर प्रबंधकों और ठेकेदारी के खिलाफ एग्रीमेण्ट, यूनियन बनाने के लिए संघर्षरत हैं। इसमें ठेका व स्थायी मजदूरों ने अपनी शानदार जुझारू एकता बनाकर प्रबंधकों व पुलिस प्रशासन से मुकाबला किया। 

    सिडकुल में मेन बजाज सेक्टर 11 में है जिसमें लगभग एक हजार मजदूर काम करते हैं। यहां पर पूरी दुपहिया गाड़ी तैयार करके बाजार में उतारी जा...

Read full news...


पूछड़ी गांव में अवैध शराब बिक्री के खिलाफ महिलाएं हुयीं एकजुट


    रामनगर(उत्तराखण्ड) के पूछड़ी गांव में महिलायें गांव में बिक रही शराब की बिक्री के विरोध में लामबंद हो गयीं। पहले तो उन्होंने एक-दो करके बिक्री का विरोध किया लेकिन उसमें असफल रहने के बाद उन्होंने महिलाओं की बैठक कर ‘महिला संघर्ष समिति पूछड़ी’ के नाम से महिलाओं का संगठन बनाकर अवैध शराब बिक्री के खिलाफ अभियान छेड़ दिया। महिला संघर्ष समिति ने कोतवाल रामनगर से मिलकर एक ज्ञापन ...

Read full news...


आई.एम.पी.सी.एल.मोहान आंदोलन


शासन-प्रशासन का बेशर्मी भरा रुख सामने आया


    आई.एम.पी.सी.एल. मोहान के मजदूरों का संघर्ष तमाम कठिनाइयों के बावजूद 65 दिन बाद भी जारी है। मजदूर 7 अप्रैल से अपनी मांगों को मनवाने के लिए आन्दोलनरत हैं। परन्तु मैनेजमेण्ट मौखिक रूप से उनकी मांगों को जायज मानने के बावजूद मजदूरों के साथ समझौता कर मामले को सुलटाने के पक्ष में नहीं दिख रहा है। 

    इस आन्दोलन में शासन-प्रशासन व श्रम विभाग का बेशर्मी भरा व्यवहार व घृणित चे...

Read full news...


सिडकुलः ठेेकेदारों की खुली गुण्डागर्दी


    सिडकुल पंतनगर में प्रत्येक फैक्टरी के लिए सड़कें बनी हुयी हैं। सड़कों की मरम्मत करने के लिए सिडकुल के अधिकारियों ने शिवनन्दन ठेकेदार को ठेका दिया था। ठेकेदार ने 28 मजदूरों का 6500 रुपया मारकर भाग गया और मजदूर हताश-निराश होकर श्रम विभाग के चक्कर लगा रहे हैं। 

    सिडकुल की चमचमाती हुई सड़कों पर प्रबंधकों और फैक्टरी मालिकों, ठेकेदारों तथा अधिकारियों की गाड़ियां दौड़ती हैं...

Read full news...


घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर क्लिक करें।

अन्य महत्वपूर्ण लिंक्स


हमें जॉइन करे अन्य कम्यूनिटि साइट्स में

घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर
-फैक्टरी में घटने वाली घटनाओं की रिपोर्ट भेज कर
-मजदूरों व अन्य नागरिकों के कार्य व जीवन परिस्थितियों पर फीचर भेजकर
-अपने अनुभवों से सम्बंधित पत्र भेज कर
-विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं, बेबसाइट आदि से महत्वपूर्ण सामग्री भेज कर
-नागरिक में छपे लेखों पर प्रतिक्रिया व बेबाक आलोचना कर
-वार्षिक ग्राहक बनकर

पत्र व सभी सामग्री भेजने के लिए
सम्पादक
'नागरिक'
पोस्ट बाक्स न.-6
ई-मेल- nagriknews@gmail.com
बेबसाइट- www.enagrik.com
वितरण संबंधी जानकारी के लिए
मोबाइल न.-7500714375