लेबिल (कुल समाचार - 146): मजदूर हालात

सासमुसा मिल में मजदूरों की मौत


    सासमुसा, गोपालगंज (बिहार) में चीनी मिल का स्टीम पाइप फटने से 6 मजदूरों की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी और 6 मजदूर नाजुक अवस्था में पटना के P.M.C.H. में रेफर कर दिये गये। जो मजदूर मरे अथवा घायल हुए वे सभी जिला गोपालगंज के रहने वाले हैं। 

    सासमुसा चीनी मिल में यह घटना रात्रि 12 बजे घटी। जिस पाइप के फटने से यह दुर्घटना हुयी वह कई महीनों से खराब चल रहा था। जो बाॅयलर का संचालक था उसने...

Read full news...


वर्ष 2017 : मजदूर-किसानों के संघर्षों का एक वर्ष


    वैसे तो जब से देश आजाद हुआ है तब से एक भी वर्ष ऐसा नहीं गुजरा है जब देश के मजदूरों-किसानों व बाकी मेहनतकशों को अपने हक की आवाज उठाने के लिये सड़कों पर न उतरना पड़ा हो। पर बीते वर्ष में इन संघर्षों की बढ़ती को स्पष्ट तौर पर महसूस किया गया।

    मजदूरों के संघर्ष

0. भारत के सभी प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों में बीते वर्ष एक के बाद एक मजदूरों के संघर्ष फूटते रहे। ये संघर्ष वेतन ...

Read full news...


स्वास्थ्य सेवा के कर्मचारियों का संघर्षं


    देश के बिहार व तमिलनाडु में आजकल स्वास्थ्य सेवा के कर्मचारी हड़ताल पर हैं। इनमें से तमिलनाडु के कर्मचारियों ने कोर्ट की धमकी के बाद आंदोलन को वापस ले लिया लेकिन बिहार में अभी कर्मचारी हड़ताल पर हैं।

    बिहार में 80,000 कर्मचारी समान काम के लिए समान वेतन की मांग कर रहे हैं वहीं तमिलनाडु में 3000 नर्सें अपने को निय...

Read full news...


प्रिकोल मजदूरों का दमन


    तमिलनाडु में स्थित कार के उपकरण बनाने वाली प्रिकोल कम्पनी में प्रबंधन द्वारा मजदूरों का दमन अभी भी जारी है। प्रबंधन द्वारा हर तरीके से यूनियन को तोड़ने के प्रयास जारी हैं। प्रबंधन द्वारा एच आर मैनेजर की तथाकथित हत्या के आरोप में मजदूरों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दायर की गयी है। 

    ज्ञात हो कि सितम्बर 2009 में फैक्टरी में एच आर मैनेजर की हत्या के आरोप में 2...

Read full news...


पंजाब में प्लास्टिक फैक्टरी में भीषण अग्निकांड, 13 लोगों की मौत


    19 नवम्बर की रात पंजाब की औद्योगिक राजधानी कहे जाने वाले लुधियाना में इमरसन पाॅलीमर फैक्टरी में आग लगने से 13 लोगों की मौत हो गयी। मरने वालों में फैक्टरी के मजदूर, फायरमैन व पास की इमारत में रहने वाले लोग थे। यह अग्निकांड इतना भयानक था कि दमकल की 150 गाड़ियां इस आग को बुझाने के लिए लगायी गयी थीं। कई दिनों तक मलबे से धुंआ निकलता रहा।  

    लुधियाना पंजाब का एक बड़ा औद्योगिक श...

Read full news...


मैक्सिको में सोने की खान में हड़ताल


दो हड़ताली खान मजदूरों की हत्या


    मैक्सिको में 3 नवम्बर से सोने की खान मीडिया लूना के 800 मजदूर हड़ताल पर हैं। यह खान ग्यूरेरो प्रांत के दक्षिण में अजकाला में है। यह खान कनाडा के स्वामित्व वाली कम्पनी टोरेक्स गोल्ड रिसोर्सेज इंक की है। ये मजदूर काम की परिस्थितियों में सुधार, वार्षिक बोनस और कम्पनी की जेबी यूनियन मेक्सिकन वर्कर्स कनफेडरेशन (सीटीएम) से अलग होकर मेक्सिको नेशनल यूनियन आॅफ माइन, मेटल, स्टील एण्ड एल...

Read full news...


तमिलनाडु में सेनमिना कम्पनी के मजदूर हड़ताल पर


    गत 21 नवम्बर से तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 50 किमी. दूर स्थित विशेष आर्थिक क्षेत्र ओरगेदम में स्थित सेनमिना कम्पनी के 280 मजदूर हड़ताल पर हैं। यह कम्पनी अमेरिका की बहुराष्ट्रीय कम्पनी सेनमिना एस.सी.आई. कारपोरेशन की सहायक कम्पनी है। मजदूरों की यह हड़ताल वेतन में वृद्धि, यूनियन को मान्यता दिये जाने व श्रम कानूनों के उल्लंघन को लेकर है।

    सेनमिना एस.सी.आई. कारपोरेशन अमे...

Read full news...


एनटीपीसी प्लांट में बाॅयलर के फटने से दर्जनों मजदूरों की मौत


    उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में ऊंचाहार एनटीपीसी के प्लांट में 1 नवम्बर को बाॅयलर के फटने से 32 मजदूरों की मौत हो गयी। हालांकि मौत के ये आंकड़े अभी और बढ़ सकते हैं। करीब साढ़े तीन बजे यह विस्फोट हुआ। विस्फोट के वक्त वहां 350 मजदूर काम कर रहे थे। इस हादसे में 100 से ज्यादा मजदूर घायल भी हुये हैं। 

    एनटीपीसी का यह प्लांट 1988 में शुरू हुआ था। बाद में उत्तर प्रदेश बिजली बोर्ड न...

Read full news...


दक्षिण कोरिया: दूरसंचार कम्पनी के कर्मचारी हड़ताल पर


    4 सितम्बर से दक्षिण कोरिया की सरकारी दूरसंचार कम्पनी केबीएस (कोरियन ब्राॅडकास्टिंग सर्विस) एवं एमबीसी (मिन्हवा ब्राॅडकास्टिंग कम्पनी) के पत्रकार एवं प्रोडक्शन टीम के 3800 कर्मचारी हड़ताल पर हैं। ये कर्मचारी दोनों कम्पनियों के सीईओ को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं साथ ही ये कर्मचारी सरकार के हस्तक्षेप के चलते भी नाराज हैं। 2012 के बाद इन कर्मचारियों की यह बड़ी हड़ताल है। 

...

Read full news...


अमेरिका में आॅटो वर्कर की आत्महत्या


    20 अक्टूबर को अमेरिका के डेट्रोइट में फोर्ड के वूडहेवन स्टाम्पिंग प्लांट में जेकोबी हेनिंग्स ने स्वयं को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। हेनिंग्स ने यह कदम उस समय उठाया जब उसे उपस्थिति को लेकर उस पर कार्यवाही की चेतावनी दी गयी। हेनिंग्स की उम्र मात्र 21 वर्ष थी। वह एक पार्ट टाइम वर्कर था। 

    हेनिंग्स द्वारा उठाया गया यह कदम आॅटो क्षेत्र में मजदूरों की काम की बुरी होत...

Read full news...


आस्ट्रेलिया: आॅटो सेक्टर में मजदूरों की छंटनी


    20 अक्टूबर को दक्षिणी आस्ट्रेलिया के एलिजाबेथ में होल्डन कार असेम्बली प्लांट को जनरल मोटर्स ने बंद करने की घोषणा कर दी इससे वहां काम कर रहे 900 मजदूर छंटनी का शिकार हो गये। इससे पहले अल्टोना (मेलबोर्न) में टोयटा ने 3 अक्टूबर को प्लांट बंद कर 2700 मजदूरों की नौकरी छीन ली। फोर्ड ने पिछले साल छंटनी से बच गये बाकी 600 मजदूरों को विक्टोरिया प्लांट से बाहर कर दिया। 

    एलिजाबेथ म...

Read full news...


फ्रांस में श्रम सुधारों के खिलाफ लाखों मजदूरों की हड़ताल


    10 अक्टूबर को फ्रांस में लाखों मजदूर श्रम सुधारों के खिलाफ सड़कों पर उतरे। ज्ञात हो कि फ्रांस के राष्ट्रपति मेक्रोन द्वारा कर्मचारियों पर किये जा रहे हमलों के खिलाफ सितम्बर माह में भी हड़ताल हुयी थी लेकिन उसके बाद भी मेक्रोन श्रम सुधारों से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं।     

    कहा जा रहा है कि पिछले 10 सालों में पहली बार 10 अक्टूबर की हड़ताल में देश की सभी 9 बड़ी ट्रेड यून...

Read full news...


कम्बोडियाः वेतन वृद्धि के मामले में मजदूरों को मिली आंशिक सफलता


    पिछले कई महीनों से कम्बोडिया में गारमेण्ट व जूता बनाने वाले मजदूरों की वेतन वृद्धि को लेकर चल रहा संघर्ष फिलहाल समाप्त हो गया है। नया वेतनमान जनवरी 2018 से लागू होगा। जिसके अनुसार मजदूरों को 170 डाॅलर प्रतिमाह मिलेंगे। इसमें से 5 डाॅलर सरकार देगी। यानी फैक्टरी मालिकों को मजदूरों को 165 डाॅलर देने होंगे। अभी तक मजदूरों को 153 डाॅलर प्रति माह मिल रहे थे। हालांकि यूनियन पहले 176 डाॅलर प...

Read full news...


श्रीलंका सरकार ने आम मेहनतकश जनता पर बढ़ाया टैक्स का भार


    श्रीलंका सरकार ने 7 सितम्बर को अंतर्देशीय राजस्व बिल संसद में पेश कर आम मेहनतकश जनता पर टैक्स का भार बढ़ा दिया है। पहले यह बिल 25 अगस्त को पेश किया जाना था लेकिन विपक्षी दलों की तरफ से इसके विरोध की संभावना को देखते हुए कुछ सुधारों के साथ इसे पेश किया गया, 1 अक्टूबर से यह कानून की शक्ल ले लेगा और 1 अप्रैल 2018 से यह लागू होगा। विपक्षी दलों ने आरोप लगाया कि उन्होंने जो सुझाव दिये थे उनके ...

Read full news...


अमेरिका में आॅटो सेक्टर में ले आॅफ


    22 सितम्बर को अमेरिका की प्रसिद्ध कार निर्माता कम्पनी जी.एम. (जनरल मोटर्स) ने टेनेसी में स्थित स्प्रिंग हाॅल प्लाण्ट में तीसरी शिफ्ट में ले आॅफ की घोषणा की जिसका असर वहां काम कर रहे 1000 मजदूरों पर पड़ेगा। इसके साथ ही फोर्ड ने भी अपने पांच कार प्लाण्टों में ले आॅफ की घोषणा की है। इन पांच प्लाण्टों में तीन अमेरिका में और दो मैक्सिको में हैं। इसका असर 20,000 मजदूरों पर पड़ेगा।

    ...

Read full news...


पुर्तगाल में नर्सों की पांच दिवसीय हड़ताल


    गत 11 सितम्बर को पुर्तगाल की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा की नर्सें 5 दिन की हड़ताल पर चली गयीं। पुर्तगाल की समाजवादी पार्टी की हड़ताल रद्द करने की मांग को ठुकराते हुए नर्सों ने हड़ताल की। सरकार की धमकी को धता बता करीब 70 हजार नर्सों में से 85 प्रतिशत ने हड़ताल में हिस्सा लिया। इस हड़ताल से पुर्तगाल की स्वास्थ्य सेवायें बुरी तरह चरमरा गयीं। यहां तक कि आपातकालीन सेवायें भी पं्रभावित हो ग...

Read full news...


वियतनाम में 6000 मजदूरों ने की हड़ताल


    6 सितम्बर को वियतनाम में थान्ह हो के उत्तरी प्रांत में स्थित गारमेण्ट फैक्टरी एस एण्ड एच वीना काॅ.प्रा. लि. के 2000 मजदूर सुपरवाइजर के दुव्र्यवहार के कारण काम बंद कर फैक्टरी से बाहर आ गये। बाद में बाकी मजदूर भी उनके साथ आ गये। मजदूरों ने दूसरे दिन भी काम बंद रखा और ्रप्रबंधन को अपना 14 सूत्रीय मांग पत्र दिया। 

    घटना की शुरूआत उस समय हुयी जब लंच में फैक्टरी के मजदूर खाना ...

Read full news...


फ्रांस में श्रम सुधारों के विरोध में प्रदर्शन


    फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन द्वारा किये जा रहे श्रम सुधारों के खिलाफ 12 सितम्बर को फ्रांस के मजदूर वर्ग ने बड़े पैमाने के प्रदर्शन किये। राष्ट्रपति बनने के बाद मेक्रोन के खिलाफ होने वाला ये पहला बड़ा विरोध प्रदर्शन है। इन श्रम सुधारों के द्वारा पूंजीपति को मजदूरों को रखने-निकालने की सुविधा मिल जायेगी वहीं मजदूरों को निकालने पर दिये जाने वाले भुगतान में मालिक को फा...

Read full news...


बी.एच.ई.एल. ठेका मजदूरों के हालात


    बी.एच.ई.एल. हरिद्वार जो केन्द्र सरकार का एक सार्वजनिक औद्योगिक उपक्रम है। इसमें आज की तारीख में स्थाई मजदूरों की कुल संख्या घटकर 2500 सौ के करीब रह गयी है। इस फैक्टरी को चलाने के लिये सरकार ने ठेकेदारी प्रथा लागू कराई है और उनकी संख्या लगभग 5000 के करीब है और स्थायी भर्तियां सरकार ने लगभग बंद कर दी हैं और सारा काम ठेका मजदूरांे से कराया जाता है। स्थाई मजदूरों का वे...

Read full news...


मेरी दुकान का हाल खराब


    मेरी दुकान बरेली शहर के अन्दर होल सेल कपड़ा मंडी में नामचीन है। इस दुकान पर लगभग 150 लोग काम करते हैं। इसमें कुछ लोग (सूरत) कपड़ा कम्पनी के लोग भी काम करते हैं। इस दुकान में दस से बारह महिला कर्मचारी भी काम करती हैं। हमारी दुकान के जो मालिक हैं वह देखने में तो बहुत सुंदर व आचरण के धनी लगते हैं लेकिन केवल दुनिया वालों के लिये ही। 

Read full news...


मिस्र: माहल्ला के हजारों टैक्सटाइल मजदूर हड़ताल पर


    मिस्र में माहल्ला अल-कुब्रा के हजारों टैक्सटाइल मजदूर 7 अगस्त की शाम को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये। इन मजदूरों की मांग है कि उनके वेतन में 10 प्रतिशत की वृद्धि की जाये जिसका वायदा राष्ट्रपति अल-सिसी ने मई में किया था। इसके अलावा बोनस व खाद्य भत्तों को बढ़ाने की भी उनकी मांग है।

    ज्ञात हो कि नवम्बर 2016 में मिस्री पाउण्ड की कीमत गिरकर आधी रह गयी थी जिसके बाद महंगाई की...

Read full news...


लखनऊ में टीसीएस कम्पनी के कर्मचारी सम्भावित छंटनी के खिलाफ संघर्षरत


    पिछले दिनों आई.टी. क्षेत्र की दिग्गज कम्पनियों में छंटनी की खबरें आने लगी थीं। ऐसा लगता है कि लखनऊ टीसीएस में 2000 कर्मचारियों की संभावित छंटनी इसी कड़ी का एक हिस्सा है। लखनऊ टीसीएस के कर्मचारी इन दिनों अपनी नौकरी की सुरक्षा के लिए संघर्ष कर रहे हैं। 

    दरअसल टीसीएस के मैनेजमेण्ट ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि वह लखनऊ से अपना आॅफिस शिफ्ट कर रहे हैं और नोयडा, इंदौर, प...

Read full news...


केन्या की नर्सों की 8 हफ्ते लम्बी हड़ताल


    केन्या की 25000 से अधिक नर्सें पिछले 8 हफ्ते  से हड़ताल पर हैं। इस हड़ताल से केन्या की सरकारी स्वास्थ्य सेवायें ठहर गयी हैं। सरकारी अस्पतालों के तमाम विभाग, जिसमें जच्चा बच्चा केन्द्र भी शामिल है। लगभग बंद से हो गये हैं। नर्सों की इस हड़ताल से मातृत्व मृत्यु दर के बढ़ने की संभावना है। नवजात शिशुओं का टीकाकरण भी प्रभावित हो रहा है। 

    डाक्टरों ने नर्सों के बगैर आपरेशन स...

Read full news...


भारत: केरल में हजारों नर्स हड़ताल पर


    केरल में राज्य सरकार से नर्सों के संगठन यूएनए(यूनाइटेड नर्सेज एसोसिएशन- UNA) और आईएनए (इण्डियन नर्सेज एसोसिएशन - INA) की वार्ता विफल होने के बाद 80,000 नर्सें हड़ताल पर चली गयी हैं। नर्सों के ये दोनों ही संगठन स्वतंत्र संगठन हैं। ये संगठन पिछले साल जनवरी 2016 में सुप्रीम कोर्ट के एक निर्णय को लागू करने की मांग कर रहे हैं जिसके अनुसार सभी राज्यों में नर्सों का न्यूनतम वेतन 20,000 रुपये होना चा...

Read full news...


बांग्लादेश में गारमेण्ट फैक्टरी में बाॅयलर फटने से 13 मजदूरों की मौत


    3 जुलाई को शाम को बांग्लादेश के ढाका के बाहरी इलाके गाजीपुर में स्थित मल्टीफेब लिमिटेड गारमेण्ट फैक्टरी में बाॅयलर फटने से 13 मजदूरों की मौत हो गयी और 50 से ज्यादा लोग घायल हो गये। यह घटना उस समय की है जब 3 जुलाई शाम को बाॅयलर की मरम्मत के बाद उसे शुरू किया गया और 1 घंटे बाद ही वह फट गया। इससे पहले प्लांट ईद की छुट्टी के कारण बन्द था और 4 जुलाई से इसमें काम शुरू होना था। अगर छुट्टी न हो...

Read full news...


स्लोवाकिया: फाक्सवैगन मजदूरों की आंशिक सफल हड़ताल


    स्लोवाकिया के फाक्सवैगन आटोमोबाइल प्लांट के लगभग 9000 मजदूर वेतन बढ़ोत्तरी की मांग को लेकर 20 जून से हड़ताल पर चले गये थे। राजधानी ब्रातीसल्वा स्थित इस प्लांट में 12000 से कुछ ज्यादा मजदूर काम करते हैं। फाक्सवैगन प्लांट के 1991 में स्लोवाकिया में स्थापित होने के बाद यह पहली हड़ताल थी। इस हड़ताल में फाक्सवैगन के कई ब्रांड कारों का उत्पादन रुक गया।

    जहां मजदूर लम्बे समय से 16 प्...

Read full news...


चेन्नई के कामराजार बंदरगाह के संभावित निजीकरण के खिलाफ कर्मचारियों का प्रदर्शन


    22 जून को चेन्नई से 25 किमी. दूर स्थित कामराजार बंदरगाह के संभावित निजीकरण के खिलाफ वहां के कर्मचारियों ने सुबह 9 बजे से 10 बजे तक प्रदर्शन किया। बंदरगाह के कर्मचारियों ने बताया कि केन्द्र सरकार इस बंदरगाह का निजीकरण कर इसे अदाणी को सौंपने की तैयारी कर रही है। उन्होंने कहा कि यह प्रदर्शन हमारे संघर्ष का प्रथम चरण है। इसके द्वारा हम सरकार द्वारा इस बंदरगाह के निजीकरण का विरोध करत...

Read full news...


राजनैतिक पार्टियों का गलत कार्य - जनता परेशान


    हल्द्वानी के रेलवे-स्टेशन के पास ही ढोलक बस्ती-गफूर बस्ती, किदवई नगर, इन्द्रानगर बस्तियां करीब 1985 से यहां स्थापित हैं।

    ढोलक बस्ती में रहने वाले लोग परिवार सहित यहां बिना मकान, बिना शौचालय झोपड़ियों में रहते हैं। विद्युत की सुविधा सभी परिवारों को नहीं है। यह ढोलक बनाते हैं व कूड़ों में पालीथीन व अन्य चीजों को बीनकर बेचते हैं। पढ़े-लिखे दो व्यक्ति हैं बाकी अनपढ़ हैं। य...

Read full news...


पंतनगर विश्वविद्यालय एवं ठेका मजदूरों का संघर्ष


ठेका मजदूर कल्याण समिति को व्यवस्था परस्त यूनियनों ने संघर्ष में किया प्रतिबंधित


    पंतनगर विश्वविद्यालय में ठेका मजदूर कल्याण समिति, पंतनगर कर्मचारी संगठन, विश्व विद्यालय श्रमिक कल्याण संघ, राष्ट्रीय शोषित परिषद एवं राष्ट्रीय सफाई मजदूर कांग्रेस के द्वारा संयुक्त मोर्चा बनाकर ठेका एवं स्थाई मजदूरों की समस्याओं के समाधान हेतु 15 नवम्बर 2016 से संघर्ष चलाया जा रहा है। इस दिन वि.वि. प्रशासन को पिछले 10-15 वर्षों से लगातार कार्यरत कर्मियों को गैर कानूनी ठेका प्र...

Read full news...


सकल घरेलू उत्पाद -संजय कुन्दन


ऐसा पहली बार हो रहा था कि

अर्थशास्त्री चुप थे और शोहदे बता रहे थे

देश के सकल घरेलू उत्पाद के बारे में

वे कुछ-कुछ धमकी देने के अंदाज में कहते थे

देश बहुत खुशहाल हो चुका है



पहली बार एक हिंसक भाषा में

खुशहाली पर बात हो रही थी

चाकू की नोंक पर दी जा रही थी शुभकामनाएं



एक दिन एक गुण्डा चाकू लहराते 

हुए कहता - इतनी अच्छी सरकार

कभी नहीं...

Read full news...


हरियाणा सरकार मारुति सुजुकी के 117 मजदूरों को रिहा करने के खिलाफ अपील करेगी


    जुलाई 2012 में मानेसर में मारुति सुजुकी कांड के दोषी (सरकार के अनुसार) 117 मजदूरों को निचली अदालत से बरी किये जाने के फैसले के खिलाफ हरियाणा सरकार उच्च न्यायालय में अपील दायर करेगी। 

    ज्ञात हो कि मानेसर के इस प्लांट में एक एचआर मैनेजर की हत्या के आरोप में 148 मजदूरों को गिरफ्तार किया गया था। साढ़े चार साल तक जेल में बिना जमानत दिये मजदूरों को रखने व पर्याप्त सबूत न होने क...

Read full news...


मध्य प्रदेश में पटाखा फैक्टरी में धमाका, 25 मजदूरों की मौत


    जून के महीने में जब मध्य प्रदेश किसानों के आंदोलन व 6 किसानों की मौत की वजह से सुर्खियों में आया वहीं एक और घटना मध्य प्रदेश में हुयी जो कम दर्दनाक नहीं थी लेकिन यह सुर्खियां नहीं बन सकी। यह घटना थी मध्य प्रदेश के बालाघाट में एक पटाखा फैक्टरी में विस्फोट की वजह से 25 मजदूरों की मौत। सरकार ने मजदूरों के मरने पर मात्र 2 लाख रुपये मुआवजे के रूप में देकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर ल...

Read full news...


बंगाल में चाय बागान के मजदूर हड़ताल पर


    12 जून को आखिरकार बंगाल के चाय बागान के लाखों मजदूर 2 दिन की हड़ताल पर चले गये। इस हड़ताल को रोकने के लिए बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने काफी कोशिश की। भावनात्मक अपीलों से लेकर धमकी तक दी। हड़ताल को अवैध घोषित करने की बात की। मजदूरों की हड़ताल को कांग्रेस, बीजेपी व सीपीएम की साजिश बताया लेकिन वह हड़ताल को टाल नहीं सकी। इस हड़ताल से चाय बागान मालिकों को दो दिन में 10 करोड़ का नुकसान ह...

Read full news...


स्पेन में बंदरगाह के मजदूर हड़ताल पर


    स्पेन में बंदरगाह के 6000 मजदूर 5 जून से हड़ताल पर हैं। मजदूरों ने अगले 3 हफ्तों में 9 दिन हड़ताल करने की घोषणा की है। हड़ताल की वजह स्पेन की संसद द्वारा बंदरगाह के मजदूरों के हितों के विपरीत में एक बिल का पास किया जाना है जिसके द्वारा बंदरगाह पर काम कर रही कंपनियों को मजदूरों को अपनी पसंद से रखने व निकालने की छूट मिल जायेगी। 

    ज्ञात हो कि अभी तक स्पेन में बंदरगाह पर लोडिंग...

Read full news...


पी एफ अंशदान में कटौती पर उतारू सरकार


    भारत की मोदी सरकार मजदूर वर्ग पर एक के बाद एक हमले कर रही है। इसी कड़ी में एक नये हमले के तहत सरकार सभी मजदूरों-कर्मचारियों के पी एफ (भविष्य निधि) में होने वाली मासिक कटौती को 12 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत करने की तैयारी में है। अभी किसी मजदूर को अपने वेतन का 12 प्रतिशत पी एफ कटवाना पड़ता है और 12 प्रतिशत ही अंशदान मालिक को करना पड़ता है। इस तरह मजदूर के वेतन का 24 प्रतिशत उसके पी एफ खाते म...

Read full news...


कनाडा: पौने दो लाख निर्माण मजदूर हड़ताल पर


    कनाडा के क्यूबेक प्रांत के पौने दो लाख निर्माण मजदूर 24 मई 2017 से हड़ताल पर चले गये हैं। ये मजदूर अपनी वेतन बढ़ोत्तरी की मांग कर रहे हैं। हड़ताल की वजह से क्यूबेक में पुल निर्माण हाइवे निर्माण समेत ढेरों निर्माण काम ठप पड़ गये हैं। सरकार के अनुसार प्रतिदिन 4.5 करोड़ डालर का नुकसान हो रहा है। 

    क्यूबेक प्रांत में विभिन्न तरीके के निर्माण सेक्टरों के मजदूर अपने सामान्य संग...

Read full news...


इण्डोनेशिया: फ्रीपोर्ट खान कम्पनी के मजदूर हड़ताल पर


    इण्डोनेशिया के पश्चिमी पापुआ प्रांत की ग्रेसबर्ग खान में हजारों मजदूर हड़ताल पर हैं। यह खान पीटी फ्रीपोर्ट इण्डोनेशिया कम्पनी की है जो फ्रीपोर्ट मेकमोरेन खान कम्पनी की सहायक कम्पनी है। यह खान मुख्यतः काॅपर का उत्पादन करती है और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी काॅपर की खान है। इसके अलावा सोने, माॅलिबिडेनम व पेट्रोलियम उत्पादन का काम भी यह कम्पनी करती है। अप्रैल महीने में 840 मजदूर...

Read full news...


तमिलनाडु के लाखों कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर


    तमिलनाडु के सरकारी कर्मचारी 25 अप्रैल से अनिश्चतकालीन हड़ताल पर चले गये। कर्मचारी नई पेंशन नीति की जगह पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने, 20 प्रतिशत वेतन के बराबर अंतरिम राहत समेत कई मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गये हैं। लगभग ढाई से चार लाख के बीच कर्मचारी हड़ताल पर हैं। 

    जहां ‘वामपंथी’ ट्रेड यूनियनें व कांग्रेस की ट्रेड यूनियनें हड़ताल का समर्थन कर रही हैं वहीं भ...

Read full news...


भारत : जिनटेक कम्पनी के मजदूरों की हड़ताल जारी


    तमिलनाडु के कांचीपुरम में श्रीपेरूम्बदूर तालुक में पोन्दूर गांव में स्थित कोरियन कम्पनी जिनटेक ऑटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड के मजदूर हड़ताल पर हैं। ये मजदूर पिछले 85 दिनों से हड़ताल पर हैं। इनकी संख्या 56 है तथा इनकी यूनियन केन्द्रीय ट्रेड यूनियन सीटू से सम्बद्ध है। इसके अलावा यहां 300 ठेके के और मजदूर हैं जो यूनियनबद्ध नहीं हैं। वैसे तो यूनियन सदस्यों की संख्या 86 है परन्तु प्रब...

Read full news...


बांग्लादेश के चाय बागान मजदूरों की हड़ताल


    बांग्लादेश के मौलवीबाजार के कुलौरा तालुके के चतलापुर चाय बागान के मजदूर 25 अप्रैल को हड़ताल पर चले गये। एक दिन पहले आये बारिश और तूफान से इन मजदूरों के झोंपड़े-मकान तहस-नहस हो गये थे। मजदूरों पर मकानों की मरम्मत के लिए पैसा नहीं था। ऐसे में चाय बागान की तरफ से कोई मदद न मिलने पर मजदूर हड़ताल पर चले गये। मजदूरों में महिलाओं की तादाद काफी अधिक है। 

    25 अप्रैल की सुबह सैकड़...

Read full news...


मजदूरों का शोषण


    नागपाल टूल्स, इण्डिया नेपको गियर कॉम्प्लेक्स 20/4 फरीदाबाद हरियाणा में स्थित है। यह कम्पनी बीस साल पुरानी है। यह बिजली से सम्बन्धित (हेण्ड टूल्स) उपकरण बनाती है। इस फैक्टरी की मालकिन रिमा नागपाल है। इसमें घटते बढ़ते 21 मजदूर हैं। दो सुरक्षा गार्ड हैं और एक मैनेजर है। मैनेजर की देख रेख में पूरी कम्पनी है। 

    इस कम्पनी में सात पावर प्रेस हैं। दो मिलिंग, 4 लेथ मशीन, 3 सरफेस...

Read full news...


सेल के मजदूरों की एक दिवसीय हड़ताल


    स्टील अथॉरिटी आफ इंडिया (सेल) एक सरकारी उपक्रम है। इसका दुर्गापुर में स्टील अयस्क प्लांट, सलेम स्टील प्लांट व कर्नाटक में स्टील प्लांट है। पिछले दिनों मोदी सरकार ने सार्वजनिक उपक्रमों के विनिवेशीकरण की प्रक्रिया में सेल के भी शेयर बेचने का निर्णय लिया। इस निर्णय से इसमें कार्यरत ठेका-स्थाई श्रमिकों के रोजगार पर खतरा मंडराने लगा।

    इन तीनों प्लांटो में इंटक व सी...

Read full news...


मोतीहारी चीनी मिल में मजदूरों, किसानों का पुलिस से संघर्ष


    बिहार के मोतीहारी की चीनी मिल वर्ष 2002 में बंद हो गयी थी। तब से इस मिल द्वारा यहां कार्यरत मजदूरों का वेतन नहीं दिया गया है। इसके साथ ही किसानों के गन्ने का भी करोड़ों रुपये का भुगतान मिल द्वारा नहीं दिया गया है। बीते दिनों मजदूरों-किसानों का यह आक्रोश उन्हें संघर्ष की तरफ ले गया जिसमें आत्मदाह करने वाले एक मजदूर की मौत हो गयी। इसके बाद मजदूरों-किसानों के पुलिस से संघर्ष में 24 लो...

Read full news...


नवउदारवादी नीतियों के विरुद्ध अर्जेन्टीना में आम हड़ताल


    6 अप्रैल को अर्जेन्टीना की सबसे बड़ी श्रमिक यूनियनों ने आम हड़ताल का आहृवान किया। इस हड़ताल का आयोजन ऐसे समय में किया गया जब अर्जेन्टीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में ‘विश्व आर्थिक मंच’ की बैठक होनी थी। मजदूर यूनियनों की यह हड़ताल सरकार के ‘कटौती कदमों’ व नवउदारवादी नीतियों के विरुद्ध आयोजित की गयी थी। यह हड़ताल इस मायने में महत्वपूर्ण थी कि जब अर्जेण्टीना के राष्ट्रपति व...

Read full news...


केन्द्रीय विद्यालय को बचाने का प्रयास सफल


    B.H.E.L. रानीपुर हरिद्वार भारत के महारत्नों में एक है। भारत की नई आर्थिक नीतियां (निजीकरण, उदारीकरण, वैश्वीकरण) लगातार देशी-विदेशी पूंजीपतियों के मुनाफे को तेजी से बढ़ाने में अग्रसर हैं। इसी का परिणाम है कि भारत के मजदूर मेहनतकशों की गाढ़ी कमाई से खड़े किये गये सार्वजनिक उपक्रमों में विनिवेशीकरण की प्रक्रिया को बढ़ावा दिया जा रहा है। 

    मजदूरों के संघर्षों के दम पर मिली...

Read full news...


पुलिस और कानून


    दिनांक 26 मार्च 2017 को रात साढ़े नौ बजे झुग्गी बस्ती पटेल नगर सेक्टर-4 बल्लभगढ़ में अपराधी लम्पट तत्व टोनी द्वारा पंकज नाम के शख्स का सिर फोड़ दिया गया। सिर में 5 सेमी. लम्बा और काफी गहरा घाव था। ये बातें बल्लभगढ़ के सिविल अस्पताल के डाक्टर सचिन गर्ग ने एम.एल.आर. में लिखी हैं। 

    इस टोनी नाम के व्यक्ति से झुग्गी के अधिकतर लोग परेशान हैं। एक बार बस्ती में एक लड़की को अकेला देखकर...

Read full news...


पेरू में तांबा खान के मजदूर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर


    चिली की तांबा खान में हड़ताल के साथ ही पेरू की तांबा खान में लगभग 1300 मजदूर हड़ताल पर चले गये हैं। यह खान सेरो वरडे में स्थित है तथा इसका स्वामित्व अमेरिकी कम्पनी फ्रीपोर्ट-मेकमोनरन के पास है। जब श्रम मंत्रालय ने मजदूरों की हड़ताल को अवैध कहा और कानूनों का भय दिखाकर उन्हें वापस काम पर लौटने को कहा तो मजदूर 24 मार्च को थोड़ी देर के लिए काम पर लौटे और फिर हड़ताल पर चले गये। 

    ...

Read full news...


ब्राजील में पेंशन सुधारों व श्रम कानूनों में बदलाव


    अभी हाल ही में ब्राजील के राष्ट्रपति बने मिशेल तेमेर की सरकार के खिलाफ आजकल मजदूर वर्ग सड़कों पर है। मिशेल तेमेर की सरकार ने मार्च महीने में पेंशन सुधार किये हैं तथा श्रम कानूनों में बदलाव किया है जिसको लेकर विभिन्न यूनियनों ने 15 मार्च को देश भर में प्रदर्शन किये। ये प्रदर्शन कुछ जगहों पर शांतिपूर्ण हुए तो कुछेक जगहों पर पुलिस व सेना के साथ प्रदर्शनकारियों की मुठभेड़ भी हुयी...

Read full news...


मिश्र में ब्रेड सब्सिडी में कटौती के खिलाफ प्रदर्शनों की लहर


    मिश्र के कई शहरों में 7 मार्च को ब्रेड सब्सिडी में कटौती के खिलाफ बड़ी तादाद में लोग सड़कों पर उतरे। अलेक्जेंद्रिया, मिनया, देसोक से लेकर राजधानी काहिरा में प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारी नारा लगा रहे थे ‘हम खाना चाहते हैं, हम रोटी चाहते हैं।’

    मिश्र के आपूर्ति मंत्री अली मोसले ने 6 मार्च को घोषणा की थी कि मिश्रवासी अब सब्सिडाइज्ड ब्रेड के 5 के बजाय 3 पैकेट ही प्रति राश...

Read full news...


लंदन में स्वास्थ्य सेवाओं में कटौती के खिलाफ प्रदर्शन


    4 मार्च को लंदन की सड़कों पर ढाई लाख लोगों ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एन एच एस) को बचाने के लिये प्रदर्शन किया। पिछले एक दशक से सरकार स्वास्थ्य पर खर्च में कटौती करती जा रही है। अब तक इसके बजट में 40 अरब डालर की कटौती की जा चुकी है।

    इस प्रदर्शन का आह्वान स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ ट्रेड यूनियनों ने किया था। पर्यावरणवादी वामपंथी भी इस प्रदर्शन में शामिल थे। प्रद...

Read full news...


चिली में कॉपर मजदूर हड़ताल पर


    9 फरवरी से चिली के तांबे (कॉपर) की खान में काम करने वाले श्रमिक हड़ताल पर है। एस्कोन्डिडा कॉपर खान को दुनिया की सबसे बड़ी कॉपर खान माना जाता है। 2016 में इस खान ने दुनिया के कुल कॉपर का 5 प्रतिशत उत्पादन किया था। इस खान की यूनियन में 2513 श्रमिक हैं और यह यूनियन चिली की सबसे बड़ी यूनियन है। इस यूनियन का मालिकाना बीएचपी विलीटन के पास है जो एक एंग्लो-आस्ट्रेलियन बहुराष्ट्रीय कम्पनी है जिसक...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में हुंडई हेवी इण्डस्ट्रीज के मजदूर संघर्षरत


    23 फरवरी को दक्षिण कोरिया के उल्सान  में हुंडई हेवी इण्डस्ट्रीज के मजदूरों ने हड़ताल की। ये मजदूर अपनी तनख्वाह सम्बन्धी मांगों को न माने जाने और हुंडई हेवी इण्डस्ट्रीज के रिस्ट्रक्चरिंग के खिलाफ संघर्षरत हैं। ज्ञात हो इन मांगों पर पिछले 1 साल में 74 बार प्रबंधन और यूनियनों की मीटिंग हो चुकी हैं लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला है। यूनियन तनख्वाह में 6 प्रतिशत की वृद्धि व 250 प्रतिश...

Read full news...


श्रम कानूनों में फेरबदल पर उतारू मोदी सरकार


    मोदी सरकार श्रम कानूनों को अधिकाधिक पूंजीपरस्त बनाने की दिशा में तेजी से बढ़ रही है। इसी कड़ी में अपनी नोटबंदी व लैसकैश के शिगूफे में मजदूरों को भी लपेटने के लिए केन्द्र सरकार ने 7-8 फरवरी को संसद के दोनों सदनों से मजदूरी भुगतान(संशोधन) बिल पारित करवा लिया है। इसके तहत कम्पनी मालिकों को अब 18 हजार रुपये से कम की समस्त मजदूरी या तो चेक से देनी होगी या फिर सीधे बैंक खाते में देनी होगी...

Read full news...


चीन में मजदूर वर्ग के हालात


    जब 2008 में दुनिया में आर्थिक संकट का दौर शुरू हुआ तो कहा गया था कि चीन वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए इंजन का काम करेगा और दुनिया वैश्विक मंदी की चपेट से बाहर आ जायेगी। हालांकि चीन के साथ भारत जैसे देशों को भी इसी श्रेणी में रखा गया था। लेकिन पिछले 8 सालों बाद भी न तो दुनिया वैश्विक मंदी की चपेट से बाहर आयी है बल्कि खुद चीन की अर्थव्यवस्था डांवाडोल हुई। उसके शेयर बाजार डगमगाये।

Read full news...


बंदूक के दम पर निजीकरण की मुहिम


श्री लंकाई दंगा पुलिस ने किया गोदी मजदूरों का बर्बर दमन


    श्री लंकाई दंगा पुलिस ने विगत 1 फरवरी को कोलंबो बंदरगाह के 1000 गोदी मजदूरों के विरोध मार्च पर हमला कर उनका बर्बर दमन किया। 

    मजदूरों का यह विरोध मार्च जनता विमुक्ति पैरामुना (जे.वी.पी.) द्वारा बंदरगाह के निजीकरण के खिलाफ आयोजित किया गया था। मजदूर राष्ट्रपति सचिवालय जाकर राष्ट्रपति को ज्ञापन देना चाहते थे मजदूरों के इस विरोेध मार्च के बर्बर दमन की पुलिस ने पहले से ...

Read full news...


भारत में बढ़ती रेल दुर्घटनायें


    21 जनवरी को दक्षिण मध्य रेलवे के विहिरगांव स्टेशन के काजीपेट-बलहरशाह मार्ग पर हीराखण्ड एक्सप्रेस के पटरी से उतर जाने के कारण दर्जनों लोगों की मौत हो गयी। इससे पहले 20 नवम्बर को कानपुर से 60 किमी. आगे भी रेल दुर्घटना में 150 से ज्यादा लोग मारे गये थे। पिछले 6 महीनों में यह पांचवी बड़ी दुर्घटना थी। 

    लगातार हो रही इन दुर्घटनाओं के बारे में जब छानबीन की जा रही है तो इसके कार...

Read full news...


बांग्लादेश के गारमेन्ट मजदूरों का क्रूर दमन


    बांग्लादेश की सरकार व गारमेण्ट उद्योग के मालिकान संयुक्त रूप से पिछले समयों में बड़ी हड़तालों व प्रदर्शनों में शामिल रहे गारमेण्ट मजदूरों का क्रूर दमन व उत्पीड़न जारी रखे हुए हैं। गौरतलब है कि विगत अक्टूबर से दिसम्बर 2016 के बीच बांग्लादेश की राजधानी ढाका के औद्योगिक इलाकों में मजदूरों खासकर गारमेण्ट (अथवा रेडीमेड वस्त्र) उद्योग के मजदूरों की वेतन वृद्धि व अन्य मांगों को लेकर...

Read full news...


मैक्सिको में गैस सब्सिडी में कटौती के खिलाफ प्रदर्शन


    मैक्सिको में राष्ट्रपति एनरिक पैना नियेटो द्वारा 1 जनवरी के गैस सब्सिडी में कटौती की घोषणा के बाद ही मैक्सिको में मजदूरों व युवाओं के व्यापक पैमाने पर प्रदर्शन शुरु हो गये हैं। राष्ट्रपति की इस घोषणा से आने वाले साल में गैस के दामों में 14 से 20 प्रतिशत तक की वृद्धि हो जायेगी।

    सरकार के इस कदम से केवल मजदूर वर्ग ही नहीं बल्कि मध्यम वर्ग के लोग भी प्रभावित होंगे। प्रद...

Read full news...


सऊदी अरब में मजदूरों का दमन जेल व कोड़ों के रूप में मिली सजा


    सऊदी अरब में 3 जनवरी को दर्जनों मजदूरों को 4 महीने की जेल व 300 कोड़े मारने की सजा मक्का कोर्ट ने दी है। कुछ मजदूरों को 45 दिन की जेल की सजा मिली है। इन मजदूरों पर आरोप है कि मई 2015 में इन्होंने निर्माण कम्पनी बिन लादेन की बसों को आग लगाई तथा सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया। सजा पाये इन मजदूरों की राष्ट्रीयता का पता नहीं चल सका है परन्तु इनमें भारतीय उपमहाद्वीप के भी मजदूर हैं।

...

Read full news...


कम्बोडिया में वेतन वृद्धि और असंतुष्ट मजदूर


    सितम्बर माह में कम्बोडिया में गारमेन्ट व फुुटवियर मजदूरों की तनख्वाह में 13 डाॅलर की वृद्धि हो गयी है। अभी तक यह 140 डाॅलर प्रतिमाह थी जो अब बढ़कर 153 डाॅलर प्रतिमाह हो जायेगी। इस तरह मात्र 10 प्रतिशत की वेतन वृद्धि ही मजदूरों के वेतन में की गयी है। जबकि मजदूर अपना वेतन 179 डाॅलर प्रतिमाह यानी करीब 30 प्रतिशत वेतन वृद्धि की मांग कर रहे थे। सरकार के इस फैसले से मजदूर असंतुष्ट हैं। 

...

Read full news...


चीन में कोका कोला कम्पनी के कर्मचारी हड़ताल पर


    चीन में 21 नवम्बर को तीन शहरों चेंगडू, चांगकिंग तथा जिलिन के कोका कोला कम्पनी के कर्मचारी हड़ताल पर चले गये। ये कर्मचारी कोका कोला द्वारा अपने बाॅटलिंग प्लांट को बेचने के फैसले से आशंकित हैं कि कहीं उनकी नौकरी न चले जाये। कोका कोला द्वारा स्वायर बिवरेज हाॅल्डिंग लिमिटेड व चाइना फूड्स लिमिटेड को यह हिस्सा बेचने की बात की गयी है। 

    चीन में पिछले सालों में मजदूर संघ...

Read full news...


ग्रीस में श्रम एवं पेंशन सुधारों व निजीकरण के खिलाफ हड़ताल


    24 नवम्बर को ग्रीस में सार्वजनिक क्षेत्र की यूनियन के कर्मचारी 3 दिनों की हड़ताल पर चले गये साथ ही जहाज के कर्मचारियों ने भी अलग से हड़ताल की। ये कर्मचारी सरकार द्वारा संचार व ऊर्जा क्षेत्र में  सरकार की हिस्सेदारी बेचने का विरोध कर रहे हैं साथ ही पेंशन आदि में सुधारों के खिलाफ भी ये हड़ताल लक्षित है। 

    अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, यूरोपीय यूनियन व विश्व बैंक से कर्ज...

Read full news...


पाकिस्तान में गदानी शिपयार्ड में विस्फोट से 21 मजदूरों की मौत


    पाकिस्तान के करांची शहर से 50 किमी दूर स्थित गदानी शिपयार्ड में प्लाॅट न. 54 में 1 नवम्बर को जहाज को तोड़ते समय विस्फोट होने से 21 मजदूरों की मौत हो गयी और दर्जनों मजदूर घायल हो गये। घटना के वक्त कुछ मजदूर अंदर ही फंसे रह गये जिनके बारे में अब तक कोई खबर नहीं है। यह घटना उस वक्त हुयी जब मजदूर जहाज के ईंधन टैंक वाला हिस्सा तोड़ रहे थे। करीब 250 मजदूरों को इस काम के लिए लगाया गया था। टैंक को ...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में मजदूर संघर्ष और उनका दमन


    दक्षिण कोरिया में इन दिनों कई क्षेत्रों के मजदूर संघर्ष की राह पर हैं। इनमें रेलवे व सार्वजनिक क्षेत्र के मजदूरों का संघर्ष इन दिनों चरम पर है। इसके साथ ही अब ट्रक ड्राइवर भी इसमें शामिल हो गये हैं। रेलवे व सार्वजनिक क्षेत्र के मजदूर जहां सरकार की उस नीति के विरोध में हड़ताल पर हैं जिसके द्वारा किसी कर्मचारी की परफोर्मेन्स के आधार पर उसका वेतन तय किया जायेगा। वहीं ड्राइवर उ...

Read full news...


आस्ट्रेलिया में यूनियन ने मजदूरों के साथ किया विश्वासघात


    आस्ट्रेलिया के स्टील प्लांट एरियम में आस्ट्रेलियन वर्कर्स यूनियन ने मजदूरों की तनख्वाह में कटौती करवाकर अपनी भूमिका को पूंजीपति वर्ग के  पक्ष में जाहिर कर दिया। इस प्लांट में मजदूरों की तनख्वाह में 10 प्रतिशत की कटौती की गयी है। यूनियन ने सत्तारूढ़ लेबर पार्टी और मैनेजमेण्ट के साथ मिलकर मजदूरों के हितों के साथ गद्दारी की है।

    ज्ञात हो कि एरियम प्लांट में मजदूर...

Read full news...


जम्मू कश्मीर में पीएचई के कर्मचारी हड़ताल पर


    जम्मू में पिछले 6 महीनों से पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग के 23 हजार कर्मचारी संघर्षरत हैं। इनकी हड़ताल की मुख्य मांगें अपने नियमितीकरण और लंबित वेतन के भुगतान को लेकर है। साथ ही ये नियमित रूप से अपना वेतन दिये जाने की मांग कर रहे हैं। यह आंदोलन आॅल जम्मू एण्ड कश्मीर पीएचई डेली वेजर्स, आईटीआई ट्रेन्ड एण्ड सीपी वर्कर्स एसोसिएशन के नेतृत्व में चल रहा है। इस आंदोलन में जम्मू एण्ड कश्...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में जहाज निर्माण उद्योग में भारी छंटनी


    दक्षिण कोरिया की तीन बड़ी कम्पनियां डेवू शिपबिल्डिंग एण्ड मेरीन इंजीनियरिंग, हुंडई हेवी इण्डस्ट्रीज और सैमसंग हेवी इण्डस्ट्रीज अपने यहां 5000 मजदूरों की छंटनी करने जा रही हैं। वर्ष 2016 में 6 महीने बीतने के बाद उन्होंने अपने उद्योग का पुनर्गठन करते हुए इन मजदूरों को नौकरी छोड़ने के लिए विवश कर दिया है। नियमित और अनियमित दोनों प्रकार के मजदूरों को इस्तीफा देने या स्वैच्छिक अवका...

Read full news...


मजदूरों का शोषण


    चेचिस ब्रेक इण्डिया प्राइवेट लिमिटेड आई.एम.टी. मानेसर के सेक्टर-3 गुड़गांव (हरियाणा) में स्थित है। यहां किसी भी कर्मचारी का बगैर पूर्व सूचना के स्थानान्तरण करते हैं। लाईन सुपरवाइजर नशा करके कम्पनी परिसर में आते हैं। कर्मचारियों से अपमान जनक वार्तालाप करते हैं। कर्मचारी अपने निर्धारित समय से दस अथवा बीस मिनट देर से आने पर इन्ट्री पास मांगते हैं। एवं कार्य समाप्ति की अवधि से ...

Read full news...


संघर्षरत हौंडा टपुकड़ा मजदूरों की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल


साथी,

      आपको सादर विदित करना चाहते हैं कि राजस्थान के अलवर जिले में हौंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर प्रा. लि. दो पहिया वाहन निर्माता कम्पनी स्थित है जिसमें 16 फरवरी 2016 को एक श्रमिक को जबरन मारपीट करके ओवर टाइम पर रोका गया। जब सभी श्रमिकों को इस बात का पता चला तो सभी ने मिलकर कम्पनी प्रबंधन से बात करके दोषी इंजीनियर पर कार्यवाही की मांग की, इस बीच कम्पनी प्रबंधन ने बाउंसर की टीम ब...

Read full news...


एच.एस.पी. का सामाजिक मुद्दों को लेकर आमरण अनशन


    हरिद्वार, एक सामाजिक संस्था हिमालय के सजग प्रहरी (एच.एस.पी.) के कार्यकत्ताओं द्वारा 27 अगस्त से बी-11 सुभाषनगर, ज्वालापुर में स्थानीय समस्याओं के समाधान हेतु भूख हड़ताल शुरु की गयी है। एच.एस.पी. की प्रमुख मांग है कि हरिद्वार में 4500 परिवार फ्रेगमेन्ट कानून से पीड़ित हैं। फ्रेगमेन्ट कानून में कृषि योग्य जमीन को बड़े भूखण्ड में बेच सकते हैं परन्तु प्लॉटिंग नहीं कर सकते हैं। लेकिन हरिद...

Read full news...


घायल मजदूर के परिजनों का प्रबंधन से गुपचुप समझौता


अमर आटोटेक, हरिद्वार


    हरिद्वार के सिडकुल से अलग बेगमपुर आई.पी.-4 में हीरो की कई वेन्डर कम्पनियां हैं जिसमें एक है, अमर आटोटेक। इस कम्पनी में 1 सितम्बर को मजदूर गौतम (उम्र 22 साल) का काम करते हुए दाहिना हाथ कलाई के ऊपर से कट गया। गौतम जौलीग्रांट अस्पताल में भर्ती है। मैनेजमेन्ट ने गौतम की कटी हुई हथेली को तत्काल फैक्ट्री के पास गन्ने के खेत में फेंक दिया। गौतम पिछले 4-5 सालों से इस फैक्ट्री में काम करता था...

Read full news...


रियो ओलम्पिक और ब्राजील का मजदूर वर्ग


    आजकल भारत समेत दुनिया भर की सरकारें व मीडिया खेल और राष्ट्रवाद का घोल तैयार करके अपने देश की जनता को पिला रही हैं। भारत में पूंजीवादी मीडिया पहले ओलम्पिक में जाने वाले हर खिलाड़ी से मनमाने तरीके से मेडल की उम्मीद जगाने में जुटा था और फिर अब असफल खिलाड़ियों को कोसने में जुटा है। कमोवेश यही सब दुनिया भर के देशों में पूंजीवादी मीडिया कर रहा है। 

    खेल-पदक-राष्ट्रभक्त...

Read full news...


एस्काॅम कम्पनी के मजदूर हड़ताल पर


    दक्षिण अफ्रीका की ऊर्जा कम्पनी के मजदूर वेतन वृद्धि की मांग को लेकर हड़ताल पर चले गये हैं। इस कम्पनी के 27 ऊर्जा केन्द्र हैं जिसमें से 3 केन्द्रों के मजदूर हड़ताल पर हैं। ये मजदूर एनयूएम यूनियन के हैं। इसकी सदस्य संख्या 15000 है जो कुल मजदूरों की तिहाई है। इसमें से 10 प्रतिशत मजदूर हड़ताल पर हैं। 

    मजदूर ज्यादा तनख्वाह पाने वाले के वेतन में 12 प्रतिशत व कम तनख्वाह पाने वाले...

Read full news...


दक्षिण अफ्रीका में पेट्रोलियम कर्मचारियों की हड़ताल


    दक्षिण अफ्रीका में इन दिनों 15000 पेट्रोलियम कर्मचारी अपनी वेतन वृद्धि व अन्य मांगों को लेकर केमिकल, पेपर प्रिन्टिंग, ऊर्जा, वुड एण्ड एलाइड वर्कर्स यूनियन के नेतृत्व में हड़ताल पर हैं। 2014 में हुए समझौते के खत्म होने की अवधि के 1 महीने पहले मई में यूनियन व मालिकों के संगठन नेशनल पेट्रोलियम एम्प्लाॅयीज एसोसिएशन की वार्ता हुई लेकिन उस वार्ता के असफल हो जाने के बाद मजदूर 27 जुलाई को अ...

Read full news...


चिली में पेंशन व्यवस्था के खिलाफ 2 लाख लोग सड़कों पर उतरे


    चिली में 24 जुलाई को मौजूदा पेंशन व्यवस्था को खत्म करने की मांग करते हुए करीब 2 लाख लोगों ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में छात्र संगठनों ने भी बड़े पैमाने पर हिस्सा लिया। प्रदर्शनकारियों ने 10 अगस्त को भी प्रदर्शन की बात की है और 4 नवम्बर को आम हड़ताल की चेतावनी भी दी है। चिली में मौजूदा पेंशन व्यवस्था की देखरेख का काम निजी संचालकों द्वारा किया जाता है जिसमें  विद...

Read full news...


केन्या में चाय बागान के हजारों मजदूर हड़ताल पर


    केन्या में चाय बागान के हजारों मजदूर हड़ताल पर हैं। ये मजदूर वेतन बढ़ोत्तरी व अन्य मांगों के न माने जाने पर संघर्षरत हैं। ज्ञात हो कि अभी हाल में अदालत ने मजदूरों के पक्ष में कुछ फैसले दिये हैं जिनको चाय बागान के मालिक मानने को तैयार नहीं हैं।

    पिछले दो-तीन सालों से मजदूरों की यूनियन व चाय बागान मालिकों के संगठन कोर्ट में लड़ाई लड़ रहे हैं। अब जाकर नैरोबी औद्योगिक कोर...

Read full news...


चीन में वालमार्ट के कर्मचारियों की हड़ताल


    चीन में जुलाई के प्रथम सप्ताह में वालमार्ट के मजदूर हड़ताल पर चले गये। यह हड़ताल नानचांग के एक स्टोर से शुरू हुई और दक्षिण पश्चिम में 1500 किमी. दूर चेंगडू और उत्तर पूर्व में हार्बिन तक पहुंच गयी। यह हड़ताल वालमार्ट चाइनीज वर्कर्स एसोसिएशन (WCWA) द्वारा की गयी जो एक वालमार्ट में काम करने वाले कर्मचारियों की अनौपचारिक यूनियन है। 

    वालमार्ट के मजदूरों की यह हड़ताल वालमा...

Read full news...


ईरान में मजदूर संघर्षों का दमन


    ईरान में मजदूर संघर्षों का दमन लगातार बढ़ता ही जा रहा है। मजदूरों को विरोध प्रदर्शन में भागीदारी करने पर कोड़े लगाना एक आम बात बन गयी है। ईरान में रिवोल्यूशनरी कोर्ट मजदूर नेताओं को लम्बी-लम्बी सजा देकर जेल में बंद कर रहा है।  

    अभी हाल में ही मई के महीने में जब आघ दारेह की सोने की खान के मजदूरों ने अपने साथियों के निकाले जाने के विरोध में प्रदर्शन किया तो उन्हें 30 से...

Read full news...


वेरिजोन के मजदूरों की शानदार हड़ताल


    13 अप्रैल से शुरू हुयी दूर संचार कम्पनी वेरिजोन (अमेरिका) की हड़ताल तमाम उतार चढ़ाव के बाद 30 मई को खत्म हुयी। इस हड़ताल में वेरिजोन के मजदूरों की शानदार भूमिका रही। कम्पनी मैनेजमेण्ट के तमाम दमनकारी हथकण्डों के बावजूद मजदूर झुके नहीं। और अपनी मांगों को आंशिक रूप से मनवाने में सफल हुए। 

    वेरिजोन कम्पनी अमेरिका की एक दूरसंचार कम्पनी है। इस कम्पनी में 40,000 मजदूर काम करत...

Read full news...


मैक्सिको: संघर्षरत शिक्षकों के खून से लाल हुई सड़कें


    मैक्सिको की सरकार अमेरिकी साम्राज्यवादियों के समर्थन से नये शैक्षिक सुधारों को लागू करने पर उतारू है। इन शैक्षिक सुधारों के तहत शिक्षा के निजीकरण के साथ शिक्षकों के मूल्यांकन की तानाशाही पूर्ण प्रक्रिया शामिल है। इसका प्रभाव शिक्षकों की बड़े पैमाने पर छंटनी के रूप में सामने आयेगा। शिक्षकों ने अपने ऊपर इस हमले का विरोध करने का साहस दिखलाया। जगह-जगह शिक्षक शिक्षा सुधारों ...

Read full news...


तुर्की में मजदूर वर्ग की कार्य परिस्थितियों पर हमला


    तुर्की की सरकार ने एक नया बिल पास करके मजदूरों की कार्यपरिस्थितियों को बदतर बनाने का काम किया है। नये बिल के अनुसार अब निजी रोजगार विभाग व एजेंसियों को यह अधिकार दे दिया गया है कि वे मजदूरों की भर्ती कर सकें। तुर्की की सत्तारूढ़ एकेपी पार्टी के सांसदों ने इस बिल के समर्थन में वोट देकर अपना और पार्टी का मजदूर विरोधी चेहरा उजागर कर दिया है। 

    चीन की विकास दर को देखत...

Read full news...


फ्रांस: यूरो कप के जश्न में खटास


    फ्रांस में 10 जून से यूरो कप शुरू हो गया। लेकिन इस बार यूरो कप के जश्न में मजदूर वर्ग ने खटास पैदा कर दी है। फ्रांस में हो रहे श्रम सुधारों के विरोध में यहां लम्बे समय से मजदूर वर्ग संघर्ष कर रहा है तथा मेहनतकश आबादी के अन्य तबके, छात्र, आदि भी उसका समर्थन कर रहे हैं। अब जब यूरो कप शुरू हो गया है तो परिवहन व सफाई कर्मचारियों द्वारा हड़ताल पर जाने से शासक वर्ग को चुनौतियों से जूझना पड़...

Read full news...


दीपक कुमार की दो कविताएं




समय का फेर

नरेन्द्र मोदी

मैं और तुम

दोनों आरोपी हैं

फर्क सिर्फ इतना है कि

तुम जनता की नजर में अपराधी हो

और मैं राजसत्ता की नजर में

अपराध का यह षड्यंत्र

तुमने जनता के विरुद्ध रचा

और मैंने तुम्हारे जैसों के विरुद्ध 

मेरे ऊपर सरकारी अदालत में 

मुकदमा चल रहा है

और तुम्हारे ऊपर जनता की अदालत में

मुझे जेल से रि...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में मजदूर वर्ग पर हमले की तैयारी


    दक्षिण कोरिया में मजदूरों के अधिकारों को छीनने की तैयारी सरकार कर रही है। सरकार ने संसद में एक मजदूर विरोधी बिल पेश किया। हालांकि वह पास नहीं हो पाया परन्तु श्रम मंत्री ली की क्वेन का कहना है कि वह फिर इस बिल को पेश करेंगे। 

    इस बिल में मजदूरों के अधिकारों से संबंधित कानूनों में परिवर्तन की तैयारी की जा रही है। ये कानून हैं- लेबर स्टैण्डर्ड एक्ट, द इण्डस्ट्रियल ए...

Read full news...


अर्जेण्टीना में आम हड़ताल


    अर्जेण्टीना के राष्ट्रपति मारसियो मासिरी द्वारा ‘एण्टी ले ऑफ बिल’ पर वीटो कर उसे पारित होने से रोक देने की वजह से मजदूरों ने 24 मई को आम हड़ताल की। यह बिल सीनेट ने पिछले सप्ताह ही पास किया था। यूनियनों ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि यदि राष्ट्रपति मारसियो ‘एंटी ले ऑफ बिल’ पर वीटो करते हैं तो इसके विरोध में आम हड़ताल की जायेगी। 2016 में यह चौथी आम हड़ताल है। 

    आम हड़त...

Read full news...


बेल्जियम में श्रम सुधारों के खिलाफ मजदूरों का प्रदर्शन


    बेल्जियम के मजदूर वर्ग ने 24 मई को हजारों की संख्या में सरकार द्वारा लागू किये जा रहे कटौती कार्यक्रमों का विरोध किया तथा श्रम सुधारों के खिलाफ आवाज बुलंद की। उनकी इस आवाज को दबाने के लिए सरकार ने दंगा पुलिस का सहारा लिया और मजदूरों का दमन किया। मजदूरों ने भी पुलिस से मोर्चा लिया। इस संघर्ष में दर्जनों मजदूर घायल हो गये।

    बेल्जियम की दक्षिणपंथी सरकार कटौती कार्यक...

Read full news...


मोरक्को में हड़ताली मजदूरों का दमन


    मोरक्को में पिछले पांच महीने से हड़ताल कर रहे स्टील प्लांट के मजदूरों का 12 व 17 मई को पुलिस ने बर्बर दमन किया। उन पर लाठीचार्ज किया गया और बुरी तरह पीटा गया जिसमें कई मजदूर बुरी तरह घायल हो गये। ये मजदूर फैक्टरी से निकाले गये मजदूरों की वापसी और फैक्टरी में श्रम कानूनों को लागू करने की मांग कर रहे थे। 

    मोरक्को में मगरिब स्टील प्लांट एक अकेला प्लांट है जो ऑटो प्लांट ...

Read full news...


संघ का मजदूर विरोधी चेहरा


    1 मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के दिन जब दुनिया भर के साथ-साथ भारत के मजदूर भी एकजुट हो संघर्ष का संकल्प ले रहे थे। जब भारत के प्रधानमंत्री मोदी पूरी लफ्फाजी के साथ खुद को मजदूर नम्बर एक घोषित कर रहे थे, ऐसे में एक संगठन ऐसा भी था जो पूरी बेशर्मी के साथ अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस का विरोध कर रहा था, उसे भारतीय संस्कृति के खिलाफ बता रहा था। 

    यह संगठन और कोई नहीं मो...

Read full news...


पूंजीपतियों का न्यूनतम मजदूरी में वृद्धि से विरोध


    पिछले दिनों भारत में सरकारी व निजी कम्पनियों में ठेकाकरण तेजी से बढ़ा है। एक अनुमान के मुताबिक भारत के निजी क्षेत्र में 30 प्रतिशत उद्योगों में 32 प्रतिशत श्रमिक ठेके पर कार्यरत हैं। इन ठेके पर रखे मजदूरों को जहां निजी क्षेत्र में न्यूनतम मजदूरी तक नहीं दी जाती वहीं सरकारी उद्योगों में सालों काम करने के बाद महज न्यूनतम मजदूरी पर ही गुजारा करना पड़ता है।

    न्यूनतम मजद...

Read full news...


वियतनाम: जूता फैक्टरी के 2000 मजदूरों ने की हड़ताल


    वियतनाम के उत्तरी शहर हे पोंग में ताइवानी कम्पनी के यांग के 2000 मजदूर 15 अप्रैल को हड़ताल पर चले गये। यह हड़ताल उन्होंने कम्पनी प्रबंधन द्वारा उन पर काम का बोझ बढ़ाये जाने के खिलाफ की। इस फैक्टरी में काफी दिनों से मजदूरों में काम का बोझ बढ़ाये जाने को लेकर असंतोष था जो 15 अप्रैल को फूट पड़ा तथा उन्होंने फैक्टरी गेट को बंद कर दिया। 

    वियतनाम में इस साल जूता फैक्टरी के ...

Read full news...


कम्बोडिया में ट्रेड यूनियन कानूनों में बदलाव कर मजदूर वर्ग पर बड़ा हमला


    कम्बोडिया की सरकार ने 4 अप्रैल को संसद में नया ट्रेड यूनियन कानून लाकर मजदूर वर्ग पर बड़ा हमला बोला है। संसद में इस कानून के पक्ष में 67 व विरोध में 31 मत पड़े। इस कानून के पास हो जाने से मजदूरों के ट्रेड यूनियन कानून काफी संकुचित हो जायेंगे और पूंजीपति वर्ग को मजदूरों का शोषण करने के नये औजार हाथ में आ जायेंगे।

    नये कानून के द्वारा सरकार को ट्रेड यूनियनों पर शिकंजा कस...

Read full news...


पेरू की तांबा खदान में मजदूरों की हड़ताल


    पेरू के केरो वर्दी में फ्रीपोर्ट तांबे की खदान में मजदूरों ने अप्रैल के प्रथम सप्ताह में 48 घंटे की हड़ताल की। यह हड़ताल मजदूरों को कम बोनस दिये जाने के खिलाफ है। इन मजदूरों को 2016 में 2015 के आधार पर मात्र 146 डाॅलर बोनस के रूप में दिये जायेंगे जबकि 2014 में इन्हें 9090 डाॅलर बोनस के रूप में दिये गये थे। 

    पेरू विश्व में तांबा उत्पादकों में तीसरे स्थान पर है तथा इसकी खदानों से ...

Read full news...


पेरिस में जनरल इलेक्ट्रिक कम्पनी के मजदूरों का प्रदर्शन


    अमेरिका की जनरल इलेक्ट्रिक कम्पनी के 2500 मजदूरों ने 8 अप्रैल को फ्रांस के पेरिस शहर में प्रदर्शन किया। यह प्रदर्शन उन्होंने जनरल इलेक्ट्रिक कम्पनी में हो रही 6500 नौकरियों की छंटनी के खिलाफ किया। इन 2500 मजदूरों में फ्रांस के अलावा यूरोप के अन्य देशों जर्मनी, स्पेन, बेल्जियम, चेक गणराज्य, स्वीडन, स्विटजरलैण्ड, पौलेण्ड के मजदूर थे। 

    ज्ञात हो कि जनरल इलेक्ट्रिक कम्पनी ...

Read full news...


फ्रांस में श्रम सुधारों के खिलाफ प्रदर्शन जारी


    फ्रांस में राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलां द्वारा मजदूरों पर किये जा रहे हमले के खिलाफ प्रतिरोध दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। मजदूर वर्ग के अलावा छात्रों-नौजवानों की भी इसमें सक्रिय हिस्सेदारी बढ़ रही है। और प्रदर्शनों के दौरान फैक्टरियों में हड़तालों के साथ-साथ स्कूल-काॅलेज भी बंद हो रहे हैं। लाखों की संख्या में मजदूर-छात्र सड़क पर उतर कर नये श्रम सुधारों के खिलाफ प्रदर्शन कर ...

Read full news...


पीएफ में मजदूर विरोधी बदलाव


    जबसे बीजेपी सरकार आई है उसने कर्मचारियों के विरोध में अनेक कानूनों में फेरबदल किये हैं। इन्हीं में से एक कानून है ईपीएफ (एम्प्लाॅयी प्रोविडेण्ड फण्ड) का कानून। ईपीएफ योजना में कर्मचारियों और मालिकों दोनों की हिस्सेदारी जमा की जाती है। यह योजना निजी क्षेत्र में 20 या अधिक कर्मचारियों वाले सभी संस्थानों में लागू है। कर्मचारियों की कटौती एक हिस्से में होती है जबकि मालिक का द...

Read full news...


मोदी सरकार द्वारा मजदूर वर्ग पर बड़े हमले की तैयारी


    वर्ष 2016 का बजट सत्र अभी जारी है। और इस बजट सत्र के दूसरे भाग जो 25 अप्रैल से चलना है में मोदी सरकार ने मजदूर वर्ग पर बड़े हमले की तैयारी कर ली है। मजदूरों के संघर्षों द्वारा हासिल किये गये कई श्रम कानूनों को बदलकर उन्हें पूंजीपति वर्ग के अनुरूप ढाला जा रहा है। 

    बजट सत्र के दूसरे भाग में पांच नये मजदूर विरोधी कोड बिलों को सरकार पेश करने जा रही है। इनमें इण्डस्ट्रियल ...

Read full news...


आटो क्षेत्र के संघर्षरत मजदूर


    भारत में आटो कम्पनियों व आटो पार्ट्स निर्माता कम्पनियों के मजदूर पिछले लम्बे समय से बेहतर मजदूरी, स्थायी रोजगार व बेहतर श्रम दशाओं के लिए संघर्षरत हैं। इसके लिए पिछले कुछ वर्षों में मारुति से लेकर होण्डा-टाटा सरीखी आटो कम्पनियां तो बोश, रिको, प्रीकोल आदि आटो पाटर््स कम्पनियों में एक के बाद एक मजदूर हड़ताल का तांता लगा रहा है। 

    इन हड़तालों में हजारों की तादाद म...

Read full news...


कुवैत: तेल मजदूरों ने किया प्रदर्शन


    22 मार्च को कुवैत में  विभिन्न तेल कम्पनियों से सम्बन्धित 3000 मजदूरों ने आॅयल एण्ड पेट्रोलियम इण्डस्ट्रीज कनफेडरेशन की बिल्डिंग के सामने प्रदर्शन किया। उन्होंने यह प्रदर्शन अपने लाभों में कटौती किये जाने के खिलाफ किया। आॅयल एण्ड पेट्रोलियम इण्डस्ट्रीज वर्कर्स कनफेडरेशन के अध्यक्ष सैक अल-कहतानी ने कहा कि मजदूर व यूनियनें हर प्रकार की कटौती के खिलाफ हैं। हम समस्या खड़ी न...

Read full news...


श्रमिक विरोधी नीतियों व वेतन कटौती के खिलाफ चीन में हजारों मजदूरों की हड़ताल


    मार्च के पहले सप्ताह में चीन के हेलोंग जियांग प्रांत में हजारों कोयला मजदूर वेतन कटौती के खिलाफ एवं समय पर वेतन के भुगतान की मांग को लेकर हड़ताल पर चले गये। 

    मजदूरों द्वारा यह स्वतः स्फूर्त हड़ताल हेलोंग जियांग प्रांत के गवर्नर द्वारा राजधानी बीजिंग में चीनी संसद ‘नेशनल पीपुल्स कांग्रेस’ में यह बयान देने के विरोध स्वरूप हुई कि राजकीय स्वामित्व वाली लोें...

Read full news...


बाम्बाॅर्डियर कम्पनी में 7000 मजदूरों की छंटनी की घोषणा


    कनाडा की एअरस्पेस व ट्रेन निर्माता कम्पनी बाम्बार्डियर ने आने वाले दो सालों में 7000 नौकरियों की छंटनी की घोषणा की है। इसमें से 3200 नौकरियों की छंटनी ट्रेन डिवीजन में है जिसका हेडक्वार्टर बर्लिन में है। इसमें सबसे ज्यादा छंटनी कनाडा में होने वाली है जिसकी संख्या 2730 है। 

    जर्मनी में तीन प्लांट हेनिंग्सडाॅर्फ, गोल्र्टिज तथा बाटजेन में 1430 नौकरियां खत्म होनी हैं वहीं प...

Read full news...


चीन में मजदूर वर्ग पर बड़े हमले की तैयारी


    7 मार्च को एक प्रेस कांफ्रेस को सम्बोधित करते हुए चीन के वित्त मंत्री लोउ जिबेई ने मजदूरों के श्रम अधिकारों को देश के विकास में रोड़ा बताते हुए मजदूरों पर बड़े हमले के संकेत दिये हैं। नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की बैठक के दौरान उनके इस वक्तव्य में पूंजीपतियों ने सुर में सुर मिलाये तथा श्रम कानूनों को मजदूरों के हित में ज्यादा और मालिकों के हितों को नुकसान पहुंचाने वाला बताया। ...

Read full news...


गुजरात में टाटा के नैनो प्लांट में मजदूर हड़ताल पर


    गुजरात में सांणद में स्थित टाटा के नैनो कार प्लांट के 400 मजदूर 22 फरवरी की रात से हड़ताल पर चले गये। इनके हड़ताल पर जाने का कारण 28 मजदूरों को अनुशासनात्मक कार्यवाही कर निकालने का बताया जा रहा है। मजदूर अपने साथियों की बहाली की मांग कर रहे हैं।

    दो महीने पहले जब टाटा मोटर्स के प्रबंधक ने दो मजदूरों को अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए निकाल दिया था उस समय भी मजदूर हड़त...

Read full news...


निजीकरण के विरोध में पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के कर्मचारियों की हड़ताल


    निजीकरण की पाकिस्तान सरकार की योजना का विरोध करते हुए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के कर्मचारी 2 फरवरी से 9 फरवरी तक हड़ताल पर रहे। यह हड़ताल पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस  के आंशिक निजीकरण की नवाज शरीफ सरकार की घोषणा के खिलाफ थी। 

    यह हड़ताल इतनी जबरदस्त थी कि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के लगभग सभी जहाज जमीन पर आ गये। यह पाकिस्तान के इतिहास मंे पहली बार हु...

Read full news...


श्रीलंका में बागान मजदूरों के बीच असंतोष


    श्रीलंका में तनख्वाह वृद्धि को लेकर बागान मजदूरों के बीच असंतोष फैल रहा है। जब 2015 में श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव हुए तो वर्तमान राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना और यूनाइटेड नेशनल पार्टी ने सभी मजदूरों के लिए 10,000 रुपये तनख्वाह वृद्धि का वायदा किया था लेकिन अभी तक यह वायदा पूरा नहीं हुआ है। मजदूरों द्वारा लगातार दबाव दिये जाने के बाद सरकार सरकारी क्षेत्र के मजदूरों...

Read full news...


यूरोप में नौकरियों में भारी छंटनी


    जनवरी माह में पूरे यूरोप में नौकरियों में भारी छंटनी की गयी है। यह छंटनियां इस बात की तरफ इशारा कर रही हैं कि हालत सुधरने के बजाय बिगड़ रहे हैं और 2008 के आर्थिक संकट के काले बादल एक बार फिर मंडरा रहे हैं। 

    अमेरिका की बहुराष्ट्रीय कम्पनी जनरल इलेक्ट्रिक ने पूरे यूरोप में 6500 नौकरियों की छंटनी की घोषणा की है जिसमें जर्मनी में 1700, फ्रांस में 765, ब्रिटेन में 570 व स्विटजरलैण...

Read full news...


दक्षिण अफ्रीका में नये टैक्स कानून के खिलाफ मजदूरों में असंतोष


    दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा द्वारा टैक्स एडमिनिस्ट्रेशन अमेंडमेंट एक्ट को कानून में बदल देने से मजदूरों में भारी असंतोष है। इन नये कानून के द्वारा रिटायर होने वाले मजदूरों को जो पी.एफ. इत्यादि का पैसा मिलता है उसको निकालने का मजदूरों का अधिकार खत्म हो जायेगा तथा पूंजीपति व सरकारों द्वारा इस पैसे का उपयोग अपने निवेश को बढ़ाने में करने का मौका मिल जायेगा। यह कान...

Read full news...


ग्रीस में पेंशन सुधारों के खिलाफ व्यापक जन प्रदर्शन


    ग्रीस में नये साल का पहला माह भारी उथल-पुथल से भरा रहा है। 19 जनवरी से पूरे देश में अलग-अलग क्षेत्रों के मजदूर-कर्मचारी हड़ताल व प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें नाविक से लेकर डाॅक्टर, किसान आदि शामिल हैं। यह प्रदर्शन व हड़तालें मुख्यतया पेंशन सुधारों को लेकर हैं।

    20 जनवरी को नाविकों की यूनियन पेनहेलेनिक सीमेन फेडरेशन ने पेंशन सुधारों, सामाजिक सुरक्षा में कटौती व सीमेन ...

Read full news...


अर्जेण्टीना में हजारों मजदूरों की छंटनी


    अर्जेण्टीना में नयी सरकार के चुने जाने के बाद कुछ ही दिनों में सरकार का असली चेहरा सामने आ गया है। नये साल के आते-आते हजारों कर्मचारियों/मजदूरों को काम से निकाल दिया गया है। और जब कर्मचारी/मजदूर अपने निकाले जाने के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं तो उनका गोली, लाठी, डंडे से दमन किया जा रहा है। जब 7 जनवरी को निकाले गये मजदूरों द्वारा अर्जेण्टीना की राजधानी ब्यूनसआयर्स के ला प्लाटा में ...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में सरकार श्रम सुधार लागू करने पर आमादा


    दक्षिण कोरिया के मजदूरों के लिए नया साल मुसीबतें लेकर आया है। 4 जनवरी को श्रम मंत्री ने अपने दिये भाषण में नये श्रम सुधार लागू करने की घोषणा कर दी है। इन श्रम सुधारों के द्वारा मालिकों को मजदूरों के शोषण की दर बढ़ाने का कानूनी अधिकार मिल जायेगा। 

    श्रम मंत्री ली की-क्वान ने अपने भाषण में श्रम सुधारों को श्रम बाजार के लिए आवश्यक बताया तथा कहा कि इससे जवान लोगों के ल...

Read full news...


फ्रेट लाइनर ने सैकड़ों मजदूरों को निकालने की घोषणा की


    अमेरिका के नोर्थ केरोलिना में फ्रेट लाइनर ने अपने क्लीवलैण्ड प्लांट के 936 मजदूरों को निकालने की घोषणा कर दी है। फ्रेट लाइनर कम्पनी ट्रक बनाने वाली कम्पनी है। और उसके द्वारा की जा रही यह छंटनी कुल मजदूरों की एक तिहाई है। फ्रेट लाइनर द्वारा यह घोषणा वोल्वो कम्पनी द्वारा अपने यहां 734 मजदूरों को निकालने की घोषणा के बाद की गयी है। 

    फ्रेट लाइनर कम्पनी मूलतः स्टुटगार...

Read full news...


कम्बोडियाः मजदूरों का आक्रोश फिर फूटा


    कम्बोडिया में 16 दिसम्बर को तनख्वाह वृद्धि को लेकर बावेट सेज के मजदूरों का आक्रोश फूट पड़ा। यह आक्रोश स्वतः स्फूर्त तरीके से सामने आया। लेकिन इसके पीछे मजदूरों में अपनी तनख्वाह वृद्धि को लेकर काफी समय से पल रहा गुस्सा भी था। 

    इस आक्रोश की शुरूआत बावेट के मेनहाटन विशेष आर्थिक क्षेत्र के स्वे रेंग फैक्टरी के मजदूरों से हुई। स्वे रेंग जूता बनाने वाली एक कम्पनी है...

Read full news...


माॅन्ट्रियल में 2400 मजदूर निलम्बित


    कनाडा के मेयर ने 8 दिसम्बर को म्युनिसिपल के 2400 मजदूरों को निलम्बित कर दिया। इन मजदूरों का कसूर केवल इतना था कि इन्होंने मजदूरों की एक आम सभा में भाग लिया था। यह निलम्बन 1 सप्ताह से लेकर 2 माह तक का है। साधारण मजदूरों के लिए यह 1 सप्ताह, यूनियन के सक्रिय कार्यकर्ताओं के लिए 1 महीने और यूनियन के पदाधिकारियों के लिए 2 महीने का होगा। निलम्बन के दौरान उनको कोई तनख्वाह नहीं मिलेगी। 

Read full news...


अमेरिका: आॅटो कम्पनी कोहलर के मजदूर हड़ताल पर


    अमेरिका के विसकोंसिन प्रांत के पास आॅटो कम्पनी कोहलर के 2100 मजदूर हड़ताल पर हैं। ये मजदूर वेतन समझौते के प्रावधानों से असंतुष्ट हैं। नये समझौते में इनको कम वेतन देने के साथ स्वास्थ्य सुविधाओं में भी कमी की गयी है। 

    अमेरिका में टीयर बी के मजदूर प्रति घंटा 11.50 डाॅलर से 12.70 डाॅलर तक ही कमा पाते हैं। जबकि टीयर ए के मजदूर 23-24 डाॅलर प्रति घंटा कमाते हैं। मैनेजमेण्ट टीयर बी...

Read full news...


इण्डोेनेशिया: नये वेतन नियम के खिलाफ मजदूरों ने की हड़ताल


    24-27 नवम्बर को इण्डोनेशिया में मजदूरों ने नये वेतन नियम के खिलाफ हड़ताल की। सूत्रों के मुताबिक तीन दिन चले इन प्रदर्शनों में लाखों मजदूरों ने भागीदारी की बावजूद इसके कि इसमें शामिल होने वाले मजदूरों पर मालिक, सरकार व पुलिस का भारी दबाव था। उनकी इस हड़ताल को अवैध घोषित करने तथा उन पर जुर्माना लगाने की भी बातें की जा रही थीं। इस हड़ताल को तीन बड़ी ट्रेड यूनियन सेण्टरों के.एस.पी.आ...

Read full news...


चीन में गर्भवती मजदूर महिलायें अपने हक के लिए संघर्षरत


    यिन जिंग चीन की एक महिला मजदूर है। जब उसने अपने गर्भवती होने की खबर अपने सुपरवाइजर कोे दी तो सुपरवाइजर ने यह खबर मालिक को दी। उसके बाद जिंग का स्थानान्तरण उसी कम्पनी की एक ऐसी शाखा में कर दिया गया जहां पहुंचने में ही बस से तीन घंटे लगते थे। गर्भवती होने की अवस्था में उसके लिए यह यात्रा कर काम पर पहुंचना मुश्किल था अतः उसने वहां काम पर जाने से मना कर दिया। मालिक ने बहाना पाकर उसक...

Read full news...


जम्मू कश्मीर में जेपी एसोसिएट्स के मजदूर धरने पर


    जम्मू-कश्मीर में बगलीहार पाॅवर प्रोजेक्ट  में जेपी एसोसिएट्स के 3000 मजदूर अपनी मांगों को लेकर धरने पर हैं। ये मजदूर चेनाब हाइड्रो प्रोजेक्ट वर्कर्स यूनियन के बैनर तले धरने पर हैं तथा 65 करोड़ रुपये देने की मांग के लिए संघर्ष कर रहे हैं। 

    जेपी एसोसिएट्स देश का जाना-माना कन्सट्रक्शन ग्रुप है जो पावर प्रोजेक्ट के निर्माण के ठेके लेता है। साथ ही हाॅटल व्यवसाय, सीम...

Read full news...


चीन में कोयला खदान में आग से 21 मजदूर मरे


    20 नवम्बर को उत्तर-पूर्वी चीन के हेलोनजियांग प्रांत के जिक्सी शहर में लांगमे माइनिंग होल्डिंग ग्रुप की एक कोयला खान में आग लगने से 21 खदान मजदूरों की मौत हो गयी। जिस समय यह आग लगी उस समय खान में 38 मजदूर काम कर रहे थे। 

    लांगमे कम्पनी एक सरकारी कम्पनी है जो कोयला निकालने वाली सबसे बड़ी खानों में से एक है। आजकल इस कम्पनी की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं बतायी जा रही है। इस क...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में मजदूर संघर्षों के दमन पर उतारू सरकार


    दक्षिण कोरिया में 21 नवम्बर को पुलिस ने कोरियन कनफेडरेशन आॅफ ट्रेड यूनियन के दफ्तर पर छापा मारा और फेडरेशन के अध्यक्ष हेन सेंग-ग्युन को गिरफ्तार करने की भी कोशिश की। कोरियन कनफेडरेशन आॅफ ट्रेड यूनियन के दफ्तर पर छापे की यह कार्यवाही उसके स्थापना वर्ष 1995 के बाद उस पर दमन की पहली कार्यवाही है। पुलिस की यह कार्यवाही 14 नवम्बर को सियोल में मजदूरों द्वारा निकाली गयी विशाल रैली के ज...

Read full news...


ब्राजील में पेट्रोब्रास कम्पनी में हड़ताल जारी


    ब्राजील की सरकारी पेट्रोलियम कम्पनी पेट्रोब्रास के मजदूर 1 नवम्बर से हड़ताल पर हैं। यह हड़ताल पेट्रोब्रास के प्रबंधन द्वारा कम्पनी की परिसम्पत्तियों के बेचे जाने तथा अगले सालों में कम्पनी में निवेश किये जाने वाले बजट में कमी करने को लेकर है। इसके अतिरिक्त मजदूर अपने वेतन में 18 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की मांग भी कर रहे हैं। कम्पनी और यूनियन के बीच तीन महीने से चल रही वार्ताओं...

Read full news...


पाकिस्तान में फैक्टरी बिल्डिंग ढहने से दर्जनों मजदूरों की मौत


    4 नवम्बर को पाकिस्तान के सुन्दर इण्डस्ट्रियल एस्टेट लाहौर में एक प्लास्टिक फैक्टरी के ढहने से दर्जनों मजदूरों की मौत हो गयी। इस फैक्टरी में 150 मजदूर काम करते थे। सरकार ने अपनी तथाकथित जिम्मदारी निभाते हुए मृतकों के परिजनों को 20 लाख तथा घायलों को 10 लाख रुपये मुआवजा देकर अपनी इतिश्री कर ली। 5 नवम्बर को विभिन्न ट्रेड यूनियनों ने इस घटना के विरोध में कराची में एक रैली निकाली। 

Read full news...


तुर्की में काॅपर खान के मजदूर हड़ताल पर


    तुर्की में रिज प्रांत में स्थित केयेली काॅपर खान के 320 मजदूर हड़ताल पर हैं। ये मजदूर अपनी तनख्वाह में वृद्धि के लिए संघर्ष कर रहे हैं लेकिन माइन वर्कर्स यूनियन आॅफ टर्की व खान प्रबंधकों के बीच चल रही वार्ता में वेतन वृद्धि को लेकर कोई समझौता नहीं हो पाया है। यह कम्पनी काफी बड़ी है जो काॅपर व जिंक का उत्पादन करती है। यह खान तुर्की की बड़ी खानों में से एक है जिससे तुर्की को भारी ...

Read full news...


गुजरात में अरविन्द लिमिटेड के मजदूर हड़ताल पर


    गुजरात के अहमदाबाद शहर के पास स्थित अरविन्द लिमिटेड जो डेनिम इत्यादि कपड़ा बनाती है, के सनतेज स्थित प्लांट के 7000 मजदूर अपनी वेतन वृद्धि व बोनस की मांग को लेकर 23 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं। इस प्लांट में 11,000 मजदूर काम करते हैं। ये मजदूर 20,000 रुपये मासिक वेतन व 10,000 रुपये बोनस की मांग कर रहे हैं। अभी इनका मासिक वेतन 13,000 रुपये है। 

    अरविन्द लिमिटेड एक अत्यधिक लाभ कमाने वाली क...

Read full news...


जनरल मोटर्स ने मजदूरों की छंटनी की घोषणा की


    अमेरिका की कार निर्माता कम्पनी जनरल मोटर्स(जीएम) ने 23 अक्टूबर को डेट्रायट, मिशीगन स्थित लेक आॅरिअन प्लांट से 500 मजदूरों को निकाले जाने की घोषणा की है। यह घोषणा ऐसे वक्त की गयी है जब जनरल मोटर्स व उसके मजदूरों के बीच चार सालाना समझौता होना है। जनरल मोटर्स की यह कार्यवाही सीधे-सीधे मजदूरों पर दबाव बनाने की कोशिश है। 

    लेक ओरिअन प्लांट छोटी कारों(ब्यूक वेरानो व शेवर...

Read full news...


ग्रीस में बंदरगाह मजदूरों की हड़ताल


    22 अक्टूबर को ग्रीस की राजधानी एथेंस के मध्य भाग में स्थित पाइरेइस व थेसालोनिकी बंदरगाह को निजी हाथों में सौंपे जाने के विरोध में बंदरगाह के मजदूर 24 घण्टे की हड़ताल पर चले गये। ग्रीस की सरकार अंतर्राष्ट्रीय कर्जदाताओं से कर्ज लेने की शर्त के बतौर इस काम को अंजाम दे रही है। तथा सरकारी सम्पत्तियों को निजी हाथों में सौंप रही है। 

    ज्ञात हो कि 30 जून को ग्रीस के कर्ज चु...

Read full news...


दक्षिण अफ्रीका: हजारों कोयला मजदूरों की हड़ताल जारी


    दक्षिण अफ्रीका में 4 अक्टूबर से शुरू हुई कोयला मजदूरों की हड़ताल अभी जारी है। नेशनल यूनियन आॅफ माइन वर्कर्स (एनयूएम) की कोयला खनन उद्योग के पूंजीपतियों के साथ जारी वार्ता किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। 5 अक्टूबर को मजदूरों ने विटबैंक की तरफ कूच किया जो कोयला खनन कम्पनियों का केन्द्र है। मजदूरों की मांग न्यूनतम वेतन वृद्धि की है। 

    जब यह हड़ताल शुरू हुई तब यूनिय...

Read full news...


पाकिस्तान में अपने अधिकारों के लिए मजदूरों ने किया प्रदर्शन


    8 अक्टूबर ‘इण्टरनेशनल डिसेन्ट वर्कर्स डे’ के अवसर पर पाकिस्तान के हजारों मजदूरों ने देश के अंदर ठेका प्रथा खत्म करने व यूनियन बनाने के अधिकार देने के लिए प्रदर्शन किया। साथ ही सभी फैक्टरियों व संस्थानो मे सामूहिक सौदेबाजी के लिए मान्यता देने तथा मजदूरों को सुरक्षा व स्वास्थ्य सुविधा देने की भी मांग की। यह प्रदर्शन पाकिस्तान के कराची, हैदराबाद, मुल्तान, फैसलाबाद, गदानी ...

Read full news...


कम्बोडिया में न्यूनतम वेतन वृद्धि के लिए यूनियनों व पूंजीपति वर्ग के बीच रस्साकशी जारी


    कम्बोडिया में एक बार फिर न्यूनतम वेतन वृद्धि के लिए मजदूर वर्ग एवम् पूंजीपति वर्ग के बीच रस्साकशी शुरू हो गयी है। सितम्बर माह के अंतिम सप्ताह में सरकार, पूंजीपति व मजदूर यूनियन के बीच शुरू हुई वार्ता में अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है। वार्ता में पूंजीपति 135 डाॅलर प्रतिमाह न्यूनतम वेतन देने को राजी हैं और सरकार 5 डालर की सब्सिडी देगी। इस तरह मजदूरों का न्यूनतम वेतन 140 डाॅलर प...

Read full news...


केरल में चाय बागान मजदूरों की हड़ताल जारी


    पिछले एक माह से केरल के चाय बागान व अन्य बागानों के मजदूर उथल-पुथल भरे संघर्ष से गुजर रहे हैं। इस क्रम में इन दिनों 2.5 से 3 लाख मजदूर हड़ताल पर हैं। महिला मजदूरों के जुझारू संघर्ष इन हड़तालों का आधार हैं। इस हड़ताल में इन मजदूरों की मांग न्यूनतम वेतन 232 रुपये से 500 रुपये प्रतिदिन करने की है।

    वर्षों से दोहरे शोषण व उत्पीड़न को झेल रही इन महिला मजदूरों के तेवर देखने लायक ...

Read full news...


फिनलैण्डः कटौती कार्यक्रमों के विरोध में हजारों मजदूरों ने निकाली रैली


    18 सितम्बर को यूरोप के देश फिनलैण्ड की राजधानी हेलसिंकी में 30,000 मजदूरों ने रैली निकाली। भारी बारिश के बावजूद मजदूरों का उत्साह कम नहीं हुआ। पूरे देश भर में 18 सितम्बर को हुए प्रदर्शन में 3 लाख मजदूरों ने भाग लिया। यह रैली वर्तमान दक्षिणपंथी सरकार के प्रधानमंत्री सिपिला द्वारा लागू किये जा रहे कटौती कार्यक्रमों व ट्रेड यूनियन अधिकारों को कम किये जाने के विरोध में निकाली गयी।&nbs...

Read full news...


दक्षिण कोरिया में आर्थिक सुधारों के खिलाफ हड़ताल


    23 सितम्बर को दक्षिण कोरिया में आर्थिक सुधारों के खिलाफ हजारों मजदूरों ने एक दिनी हड़ताल की। जब ये मजदूर नेशनल असेम्बली के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे तभी 39 मजदूरों को गिरफ्तार कर लिया। द.कोरिया के कानून के मुताबिक नेशनल असेम्बली के 100 मीटर के दायरे में प्रदर्शन नहीं हो सकता। इस हड़ताल में कई जगह मजदूरों व पुलिस के बीच झड़पें भी हुयीं। 

    दक्षिण कोरिया में वैसे तो दो दश...

Read full news...


वेतन कटौती के खिलाफ संघर्षरत अमेरिका के मजदूर


    22 अगस्त को यू.एस. स्टील और आर्सेलर मित्तल के हजारों मजदूरों ने करार समाप्त होने अथवा कान्ट्रेक्ट अवधि 1 सितम्बर को खत्म होने से पूर्व अमेरिका के विभिन्न शहरों में प्रदर्शन किये व रैलियां निकालीं। यू.एस. स्टील व आर्सेलर मित्तल जो कि इस्पात (स्टील) उत्पादन की दो बड़ी कम्पनियां हैं, के 30,000 मजदूरों का 1 सितम्बर को ठेका समाप्त होने के बाद पुनः नियोजन या कान्ट्रेक्ट का नवीनीकरण होता ...

Read full news...


ब्राजील: जनरल मोटर्स के हजारों मजदूर हड़ताल पर


    10 अगस्त को ब्राजील के साअ पोलो में जनरल मोटर्स के हजारों मजदूर हड़ताल पर चले गये। जनरल मोटर्स ने अपने प्लांट में 794 मजदूरों की छंटनी की घोषणा के विरोध में इन मजदूरों ने हड़ताल के पक्ष में वोट दिया था। जनरल मोटर्स के साथ ही बगल में स्थित जर्मनी की डेमलर कम्पनी भी अपने यहां मजदूरों की छंटनी करना चाहती है इसको लेकर उसके मजदूरों में भी असंतोष है। 

    आॅटो सेक्टर में छाई ...

Read full news...


पाकिस्तान: स्वास्थ्य क्षेत्र के हजारों मजदूर संघर्षरत


    पाकिस्तान में पांच संघीय अस्पतालों के हजारों कर्मचारी संघर्षरत हैं। ये कर्मचारी अपने भत्तों को फ्रीज किये जाने के खिलाफ संघर्ष कर हैं। 4 अगस्त को उन्होंने सांकेतिक हड़ताल की तथा यह घोषणा की कि उनकी मांगें न माने जाने तक वे रोज एक घण्टे प्रदर्शन करेंगे। 

    अस्पतालों में काम कर रहे कर्मचारी संक्रामक रोग जैसे टी.बी. से ग्रसित रोगियों के सम्पर्क में आते हैं। खून, पे...

Read full news...


उरुग्वे में एक दिनी हड़ताल, 10 लाख कर्मचारी व मजदूरों ने की भागेदारी


    6 अगस्त को उरुग्वे में ट्रेड यूनियनों ने आम हड़ताल का आहवान किया जिसमें 10 लाख तक मजदूरों व कर्मचारियों ने भागेदारी की। यह हड़ताल उस समय की गयी है जब वहां की सरकार अगले पंचवर्षीय योजना के संदर्भ में बजट बनाने की तैयारी कर रही है। इस हड़ताल की मांगे वेतन बढ़ाने, शिक्षा में जीएनपी का 6 प्रतिशत खर्च करने की तथा ‘एम्प्लायर इनसाॅल्वेन्सी कानून’ बनाने की है जिससे निजी उद्योग के फ...

Read full news...


आंध्र प्रदेश में जूट मिल के मजदूरों का संघर्ष


    आंध्र प्रदेश में पिछले दिनों जूट मिल के मजदूर संघर्षरत रहे हैं। इनमें से एक गुंटूर जिले में श्री भजरंग मिल के मजदूर हैं तो दूसरे में बोबिल में श्री लक्ष्मी निवासा जूट मिल के मजदूर हैं। दोनों ही मिलों के मजदूर मालिकों द्वारा गैर कानूनी तरीके से लाॅक आउट किये जाने के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं। 

    श्री भजरंग मिल की स्थापना 1935 में हुई थी। वर्तमान में इसके मालिक दावू गोप...

Read full news...


भारत: नेवेली लिग्नाइट के मजदूर हड़ताल पर


    भारत के तमिलनाडु राज्य में स्थित नेवेली लिग्नाइट काॅरपोरेशन के मजदूर एक बार फिर हड़ताल पर हैं। इस बार नेवेली लिग्नाइट काॅरपोरेशन के मजदूर अपनी वेतन वृद्धि को लेकर हड़ताल पर हैं। मजदूरों ने वेतन वृद्धि के लिए 30 प्रतिशत की मांग रखी थी, हालांकि बाद में वार्ता में ट्रेड यूनियन नेतृत्व उसे 24 प्रतिशत पर ले आया था लेकिन प्रबंधन 10 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि नहीं करना चाहता है।   &n...

Read full news...


इण्डोनेशिया: काॅस्मेटिक फैक्टरी में विस्फोट, 17 मजदूर मरे


    इण्डोनेशिया की राजधानी जकार्ता के बाहरी इलाके बेकासी में स्थित काॅस्मेटिक फैक्टरी ‘मेन्डम इण्डोनेशिया’ में 10 जुलाई को विस्फोट होने से 5 मजदूरों की मौत हो गयी तथा 53 मजदूर घायल हो गये। घायलों में से 12 मजदूरों की मौत अस्पताल में हो गयी। बाकी 41 मजदूरों का इलाज चल रहा है। इनमें से 21 मजदूरों की हालत गम्भीर है। यह विस्फोट फैक्टरी की गैस पाइप लाइन में हुआ था।

    बेकासी एक ...

Read full news...


चिली: तांबा खान के हड़ताली मजदूरों पर फायरिंग से एक मजदूर की मौत


    24 जुलाई को चिली की तांबे की खान में हड़ताल कर रहे मजदूरों पर पुलिस द्वारा गोली चलाये जाने से एक मजदूर की मौत हो गयी। यह हड़ताल चिली की सरकारी तांबा खान कम्पनी कोडेल्को में 21 जुलाई से चल रही है। हड़ताल करने वाले यह मजदूर ठेके के हैं तथा ये कम्पनी में सीधे रखे जाने वाले मजदूरों को दिये जाने वाले समान लाभों की मांग कर रहे हैं। 

    कोडेल्को कम्पनी सरकारी क्षेत्र की एक बड...

Read full news...


पेरू: सरकार की आर्थिक नीतियों के खिलाफ हजारों मजदूरों ने की हड़ताल


    पेरू के राष्ट्रपति हुमाला द्वारा देश के अंदर जारी आर्थिक सुधारों के खिलाफ 9 जुलाई को एक दिवसीय हड़ताल आयोजित की। यह हड़ताल जनरल करफेडरेशन आॅफ वर्कर्स ने बुलायी थी। हड़ताल से कई शहर प्रभावित हुए। हड़ताल के मद्देनजर राजधानी लीमा में राष्ट्रपति आवास की कडी सुरक्षा व्यवस्था करनी पड़ी। 

    राष्ट्रपति हुमाला 2011 में राष्ट्रपति चुने गये थे। और चुने जाने के बाद से ही उन...

Read full news...


जनता के पैसे के दुरूपयोग करने वाले को कड़ी सजा हो


    साथियो! सिकौथा गांव उत्तर प्रदेश जिला सिद्धार्थनगर तहसील इटवा बाजार ब्लाॅक भनवापुर थाना तिलवक पुर पोस्ट बिसकोहर बाजार में आता है। इस गांव का प्रधान ग्रामवासियों पर जुल्म कर रहा है खासकर गरीब किसानों पर। अपने प्रधान होने का इसे बड़ा घमंड है। ये प्रधान जब भी कहीं गांव में कोई समस्या लड़ाई-झगड़ा होता है तब फैसला वोट बैंक या पैसा देखकर सुनाता है। गांव की गरीब कमजोर महिलाओं को ...

Read full news...


उ.प्र. के मजदूर, गरीब किसानों का बुरा हाल


    हमने सुना था कि जहां पर समाजवाद होता है वहां पर कोई तकलीफ नहीं होती मगर उत्तर प्रदेश की जनता की खराब हालत है। यहां के मजदूर किसान का बहुत बुरा हाल है। सपा की सरकार न तो रोजगार दे पा रही है और न ही शिक्षा दे पा रही है। अगर कोई मजदूर कहीं काम करता है तो उसे श्रम कानूनों द्वारा देय सुविधाओं को भी नहीं दे रही। अगर मजदूर कहीं पर अपनी मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन करते हैं तो उनका दमन कि...

Read full news...


असाल प्रबंधकों का खूनी खेल, मजदूरों का बर्बर पुलिसिया दमन


    30 मई 2013 को असाल (आटोमेटिव स्टम्पिंग एंड असेम्बलिंग लिमिटेड) में कंपनी के प्रंबधकों-ठेकेदारों ने मिलकर एक तरह से ठेका मजदूर सुशील कुमार की हत्या कर दी और सच यही है कि इस हत्याकांड में उत्तराखंड सरकार, प्रशासन, श्रम विभाग सभी बराबर के भागीदार हैं।

यह हत्याकाण्ड ऐसे घटा- 28 मई को कंपनी प्रबधकों द्वारा 170 प्रशिक्षित ट्रेनी मजदूरों को कंपनी से निकाल दिया गया और पूरी कंपनी...

Read full news...


पोस्को(उड़ीसा) में महिलाओं का नग्न प्रदर्शन


    उड़ीसा में पोस्को कम्पनी के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ वहां की जनता का जुझारू संघर्ष जारी है। इतने लम्बे संघर्ष के बावजूद सरकार लोगों की बात सुनने के बजाय दमन का एक से बढ़कर एक हथकंडा अपना पोस्को के प्रति अपनी स्वामिभक्ति प्रकट करने में जुटी है।

    अनगिनत बार लाठी चार्ज, गोली सहने के बाद, कई लोगों की कुर्बानियां देने के बाद भी जब जनता पीछे हटने को तैयार नहीं हुई तो क...

Read full news...


यूरोप में बेरोजगारी रिकाॅर्ड स्तर पर


    यूरोप इस समय सिर्फ यूरो के संकट से ही नहीं जूझ रहा है। पूरे यूरोप में बेरोजगारी थमने का नाम नहीं ले रही है। 

    मार्च और अप्रैल मंे बेरोजगारी की दर में किसी तरह का बदलाव नहीं आया है और यह 11 फीसदी पर बनी हुई है। 

    वर्ष 1995 से यूरोप ने इस संबंध में आंकड़े एकत्र करने शुरू किये थे। उसके बाद से 11 प्रतिशत की दर सबसे अधिक है। 

    यूरोस्टेट के आधिकारिक आंकड़...

Read full news...


चीन के मजदूरों का गुस्सा फिर फूटा


    जून के प्रथम सप्ताह में पूर्वी चीन के जिज्यांग प्रांत के रूइन शहर में मजदूरों का गुस्सा फिर भड़क उठा। मजदूरों के आक्रोश की वजह एक अप्रवाशी मजदूर की उसके मालिक द्वारा पिटाई से हुई मौत थी। यांग जी जो 19 साल का एक अप्रवासी मजदूर था की उसके मालिक जु-क्यीन ने 1,070 युआन की मजदूरी भुगतान में झगडे़ की वजह से लोहे की सरिया मार कर घायल कर दिया जिसकी 27 मई को सिर की चोटों के कारण मौत हो गयी।

...

Read full news...


नेवली लिग्नाइट कारपोरेशन के ठेका मजदरूों के संघर्ष का अंत


    तमिलनाडु के नेवली लिग्नाइट काॅरपोरेशन के 14000 ठेका मजदूर पिछली 21 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे। वे वेतन वृद्धि के साथ नियमितिकरण की मांग कर रहे थे। करीब 44 दिन की हड़ताल के बाद एटक ने प्रबंधन के साथ निराशाजनक समझौता कर हड़ताल समाप्त कर दी।

    समझौते में प्रबंधन ने 5 माह बाद 4250 मजदूरों को इंडस्टियल कोआपरेटिव सोसायटी का सदस्य बना कर उनके नियमितिकरण की ओर बढ़ने की बात म...

Read full news...


घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर क्लिक करें।

अन्य महत्वपूर्ण लिंक्स


हमें जॉइन करे अन्य कम्यूनिटि साइट्स में

घोषणा

‘नागरिक’ में आप कैसे सहयोग कर सकते हैं?
-समाचार, लेख, फीचर, व्यंग्य, कविता आदि भेज कर
-फैक्टरी में घटने वाली घटनाओं की रिपोर्ट भेज कर
-मजदूरों व अन्य नागरिकों के कार्य व जीवन परिस्थितियों पर फीचर भेजकर
-अपने अनुभवों से सम्बंधित पत्र भेज कर
-विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं, बेबसाइट आदि से महत्वपूर्ण सामग्री भेज कर
-नागरिक में छपे लेखों पर प्रतिक्रिया व बेबाक आलोचना कर
-वार्षिक ग्राहक बनकर

पत्र व सभी सामग्री भेजने के लिए
सम्पादक
'नागरिक'
पोस्ट बाक्स न.-6
ई-मेल- nagriknews@gmail.com
बेबसाइट- www.enagrik.com
वितरण संबंधी जानकारी के लिए
मोबाइल न.-7500714375